loader

6 माह की बच्ची की 16 करोड़ के इंजेक्शन ने बचाई जान

मुंबई की छह महीने की मासूम तीरा कामत को आख़िरकार 16 करोड़ का इंजेक्शन लग गया। मुंबई के हिंदुजा अस्‍पताल में तीरा मौत से जंग लड़ रही थी। तीरा एक SMA Type 1 दुर्लभ बीमारी से जूझ रही थी जिसका इलाज अमेरिका से आने वाले Zolgensma इंजेक्शन से ही मुमकिन था। विदेश से आने वाला यह इंजेक्शन क़रीब 16 करोड़ रुपये की क़ीमत का था। इस इंजेक्शन पर भारत में 6 करोड़ रुपए इम्पोर्ट ड्यूटी और जीएसटी बनता है, जिससे इसकी कुल क़ीमत 22 करोड़ रुपये की हो जाती है। लेकिन सरकार ने इम्पोर्ट ड्यूटी माफ़ कर दी थी। 

ताज़ा ख़बरें

तीरा की बीमारी का कैसे पता लगा

SMA Type 1 बीमारी से ग्रसित तीरा का जन्म छह महीने पहले हुआ था, जन्म के समय बच्ची ठीक थी, कुछ महीने बाद अचानक तीरा को माँ का दूध पीने में द‍िक्‍कत होने लगी। दूध पीते वक्‍़त उसका दम घुटने लगता था और कभी-कभी तो कुछ सेकंड के लिए उसकी साँस भी थम जाती थी। एक बार तीरा को पोलियो की ड्रॉप पिलाई जा रही थी तभी तीरा के माता-पिता ने देखा कि उसे दो बूंद निगलने में भी परेशानी हो रही थी और तभी इस तरह के ख़तरे का अंदाजा लगा। इसके बाद तीरा को अस्पताल में डॉक्टरों को दिखाया। डॉक्टरों ने जाँच पड़ताल की तो पता लगा कि उसे SMA Type 1 नाम की दुर्लभ बीमारी है। तीरा के माता-पिता प्रियंका और मिहिर को डॉक्टरों ने जब इस बारे में बताया तो वे सन्न रह गए।

क्या होती है SMA Type1 बीमारी

SMA Type 1 बीमारी के कारण बच्चे के शरीर में प्रोटीन बनाने वाला जीन ही मौजूद नहीं होता है, जिससे मांसपेशियाँ और तंत्रिकाएँ जीवित रहती हैं। यही वजह है कि उसके शरीर की तंत्रिकाएँ निर्जीव होने लगी थीं। 

तीरा के दिमाग़ की मांसपेशियाँ भी निर्जीव होती जा रही थीं जिससे उसे साँस लेने में तकलीफ हो रही थी।

क्राउड फंडिंग से जुटाए 16 करोड़ रुपए

तीरा के माता-पिता को डॉक्टरों ने इस गंभीर बीमारी के इलाज के बारे में बताया जो कि उनकी पहुँच से बाहर था। इस बीमारी का इंजेक्शन अमेरिका में मिलता है और इलाज के लिए उसे भारत ही लाना पड़ेगा क्योंकि तीरा को अमेरिका इस हालत में नहीं ले जाया जा सकता। डॉक्टरों ने जब इंजेक्शन की क़ीमत तीरा के माता-पिता को बताई तो वे सुनकर सकते में आ गए। लेकिन मिहिर और प्रियंका ने उम्मीद नहीं छोड़ी, दंपति ने सोशल मीडिया पर एक पेज बनाया और लोगों से क्राउड फंडिंग की अपील की। प्रियंका और मिहिर की इस मुहिम को देश-विदेश से साथ मिलने लगा और 16 करोड़ रुपए इकट्‌ठा भी हो गए। तीरा के माता पिता ने 16 करोड़ रुपए तो इकट्ठे कर लिए लेकिन अब उन्हें इस पर लगने वाले आयात कर और जीएसटी की चिंता सताने लगी जो कि क़रीब 6 करोड़ रुपये बैठता है। जैसे-जैसे समय बढ़ रहा था वैसे-वैसे तीरा की मुश्किलें बढ़ती जा रही थीं।

sma type 1 injection saved teera kamat - Satya Hindi

देवेंद्र फडणवीस ने दिलाई टैक्स में छूट

इस मुहिम की जानकारी महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लगी तो उन्होंने बिना देरी किए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी जिसमें इंजेक्शन पर लगने वाले आयात कर और जीएसटी में 6 करोड़ रुपए की छूट मांगी। प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी मामले में तेज़ी दिखाते हुए इंजेक्शन पर लगने वाले आयात कर और जीएसटी को माफ़ कर दिया। इसके बाद अमेरिका में दवा कंपनी को इंजेक्शन की क़ीमत अदा कर दी गई और 25 फ़रवरी को यह इंजेक्शन मुंबई पहुँच गया और अस्पताल प्रशासन ने बिना कोई देरी किए अपने 6 डॉक्टरों के पैनल के साथ इस इंजेक्शन को तीरा को लगा दिया और उसकी ज़िंदगी बचा ली।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

हिंदुजा अस्पताल की शिशु विभाग की नीलू देसाई का कहना है की तीरा को इंजेक्शन लगने के बाद वह पहले से बेहतर महसूस कर रही है। तीरा को फ़िलहाल दो डॉक्टरों की टीम की निगरानी में है जिसपर 24 घंटे निगाह रखी जा रही है। उधर तीरा के माता पिता प्रियंका और मिहिर ने अपने उन तमाम शुभचिंतकों का शुक्रिया अदा किया है जिन्होंने तीरा को 16 करोड़ रुपये इकट्ठा करने में मदद की थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सोमदत्त शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें