loader

राजस्थान बीजेपी में बड़ा चेहरा कौन, सोशल मीडिया पर घमासान

राजस्थान की सियासत में इन दिनों जबरदस्त घमासान मचा हुआ है। राज्य बीजेपी में बड़ा चेहरा कौन है, इसे लेकर सोशल मीडिया पर समर्थकों के बीच लड़ाई चल रही है। कांग्रेस में गहलोत बनाम पायलट के घमासान पर चुटकियां लेने वाली बीजेपी के लिए अपने घर में चल रहे इस घमासान से पार पाना मुश्किल साबित हो रहा है। क्योंकि राज्य की दिग्गज नेता वसुंधरा राजे के समर्थकों ने अपनी नेता के पक्ष में जोरदार लॉबीइंग की हुई है। 

वसुंधरा बीते कुछ महीनों से राजस्थान बीजेपी में उनके विरोधियों को अहम पद दिए जाने से नाराज़ हैं। इनमें जयपुर के राजघराने की पूर्व राजकुमारी दिया कुमारी और विधायक मदन दिलावर को प्रदेश महामंत्री बनाया जाना उन्हें खासा अखरा है। 

वसुंधरा राजे के समर्थकों ने इन दिनों ‘वसुंधरा राजे समर्थक मंच राजस्थान’ का गठन किया है, जिस पर राज्य बीजेपी के दूसरे नेताओं ने एतराज जताया है। राजे के समर्थकों ने सोशल मीडिया पर भी इस बात का प्रचार किया हुआ है कि वह राज्य बीजेपी में सबसे बड़ी नेता हैं। 

ताज़ा ख़बरें

राजे के अलावा प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सतीश पूनिया, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल के पक्ष में भी सोशल मीडिया पर उनके समर्थक प्रचार कर रहे हैं और उन्हें 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने की मांग की जा रही है। 

सतीश पूनिया समर्थक मोर्चा 

वसुंधरा राजे समर्थक मंच राजस्थान के जवाब में सतीश पूनिया समर्थक मोर्चा भी राज्य में बन चुका है। हालांकि पूनिया ने ख़ुद को इससे अलग करते हुए कहा था कि यह किसी की शरारत है और वह ऐसे किसी मोर्चे का समर्थन नहीं करते। उन्होंने कहा था कि ऐसा मोर्चा बनाने वालों के बारे में जांच की जा रही है। लेकिन वसुंधरा ने उन्हें लेकर बने मंच के बारे में इस तरह की कोई सफाई नहीं दी। 

पूनिया ने कुछ दिन पहले ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ात की थी और वसुंधरा के समर्थन में सोशल मीडिया पर चल रहे इन ग्रुप्स के बारे में उन्हें बताया था। 

जब सतीश पूनिया को राजस्थान बीजेपी का नया अध्यक्ष बनाया गया था तो वसुंधरा राजे उनके स्वागत कार्यक्रमों से दूर रही थीं। राष्ट्रीय स्वयं सेवक की पसंद माने जाने वाले पूनिया को राजे का धुर विरोधी माना जाता है।
बीजेपी के भीतर चल रही इस लड़ाई में कांग्रेस को भी आनंद आने लगा है। राजस्थान की सरकार में मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा है कि राजस्थान में वसुंधरा के बिना बीजेपी शून्य है। अगर बीजेपी वसुंधरा को नज़रअंदाज करती है तो उसकी स्थिति बेहद ख़राब हो जाएगी। 
राजस्थान के सियासी घमासान पर देखिए वीडियो- 

मीणा के इस बयान पर सतीश पूनिया ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा, ‘कांग्रेस पहले कहती थी कि बीजेपी में मुख्यमंत्री पद के लिए कोई चेहरा नहीं है लेकिन अब वह कह रही है कि कई चेहरे हैं। यह हमारे लिए अच्छी बात है।’ पूनिया कहते हैं कि पार्टी का संसदीय बोर्ड इस बारे में फ़ैसला लेगा कि राज्य में मुख्यमंत्री कौन होगा। 

राजनीति से और ख़बरें
बीते कुछ समय में राजस्थान बीजेपी के पोस्टर्स से वसुंधरा राजे का चेहरा ग़ायब होने को लेकर भी घमासान हो चुका है। पिछले महीने बीजेपी ने अपने बाग़ी नेता घनश्याम तिवाड़ी को फिर से पार्टी में शामिल किया है। तिवाड़ी का राजे से छत्तीस का आंकड़ा था। राजस्थान में छह बार के बीजेपी विधायक प्रताप सिंह सिंघवी कहते हैं कि राज्य में वसुंधरा से ज़्यादा समर्थक किसी के नहीं हैं।
Infighting in rajasthan bjp after Vasundhara raje samarthak manch formed - Satya Hindi

वसुंधरा सब पर भारी!

राजस्थान में बीजेपी कई गुटों में बंटी हुई है। यहां गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल, सतीश पूनिया, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया और उप नेता राजेंद्र राठौड़ के भी अपने-अपने समर्थक हैं। लेकिन इन सब पर भी वसुंधरा राजे भारी पड़ती दिखाई देती हैं। 

बीजेपी आलाकमान वसुंधरा को राज्य की राजनीति से हटाने की पूरी कोशिश कर चुका है। वसुंधरा को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी बनाया गया लेकिन वह राज्य की राजनीति से बाहर नहीं निकलीं। 

बीजेपी हाईकमान वसुंधरा की ताक़त को नज़रअंदाज नहीं कर सकता क्योंकि राजस्थान में अधिकांश विधायक और सांसद वसुंधरा के खेमे के हैं। राजस्थान में बीजेपी के 72 में से 47 विधायक वसुंधरा खेमे के बताये जाते हैं।

2018 के विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद मोदी-शाह की जोड़ी ने नेता विपक्ष के पद पर वसुंधरा की दावेदारी को नकारते हुए गुलाब चंद कटारिया को इस पद पर बिठाया था और राजे के विरोधी माने जाने वाले राजेंद्र राठौड़ को उप नेता बनाया था। 

लेकिन इस सबके बाद भी राज्य में वसुंधरा राजे की लोकप्रियता में कमी नहीं दिखाई देती। ताज़ा राजनीतिक हालात में 25 जिलों में वसुंधरा राजे समर्थक मंच की टीम का गठन किया जा चुका है। इस मंच के नेताओं का दावा है कि उनके साथ बीजेपी के ज़मीनी कार्यकर्ताओं से लेकर सांसद-विधायकों तक का भी समर्थन है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें