loader

हरीश रावत की चेतावनी के बाद सिद्धू के सलाहकार माली ने दिया इस्तीफ़ा

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार मलविंदर सिंह माली ने इस्तीफ़ा दे दिया है। माली की कुछ हालिया फ़ेसबुक पोस्ट को लेकर जबरदस्त विवाद हुआ था और बीजेपी ने इसे मुद्दा बना लिया था। इसके अलावा सिद्धू के एक और सलाहकार प्यारे लाल गर्ग के बयान को लेकर भी विवाद हुआ था और इसके बाद पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने कहा था कि सिद्धू को इन सलाहकारों को हटा देना चाहिए और ज़रूरत पड़ी तो वे इन्हें हटाने का निर्देश देंगे। 

सिद्धू ने हाल ही में चार सलाहकार नियुक्त किए थे। 

हरीश रावत के बयान से साफ हो गया था कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पुरजोर विरोध के बाद भी नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाने वाला हाईकमान इस बार कैप्टन के साथ है। साथ ही वह सिद्धू से ख़फ़ा है, यह बात भी उसने साफ कर दी थी। रावत ने यह भी कहा था कि कांग्रेस अमरिंदर सिंह की ही अगुवाई में पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 को लड़ेगी। 

ताज़ा ख़बरें

अमरिंदर का शक्ति प्रदर्शन 

सिद्धू को घिरता देख अमरिंदर ने भी शुक्रवार को चंडीगढ़ में अपनी सियासी ताक़त का मुज़ाहिरा किया और कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी के आवास पर रखे गए डिनर में 58 विधायकों और 8 सांसदों को जुटा लिया। बता दें कि बीते कुछ दिनों में एक बार फिर अमरिंदर के ख़िलाफ़ बग़ावत तेज़ हुई है और बग़ावती नेताओं का कहना है कि उनके साथ 46 विधायकों का समर्थन है। 

लेकिन अमरिंदर ने उनकी बात को ग़लत साबित कर दिया है। अमरिंदर के गुट की ओर से इस डिनर की तसवीरें और वीडियो भी जारी किए गए हैं। इस डिनर में अमरिंदर की कैबिनेट के 8 मंत्री भी शामिल रहे। 

पंजाब से और ख़बरें

माली और गर्ग के बयान 

माली ने कुछ दिन पहले एक फ़ेसबुक पोस्ट में लिखा था, “कश्मीर कश्मीरियों का देश है। 1947 में अंग्रेजों के भारत छोड़ते वक़्त किए गए समझौते के अनुसार और यूएनओ के फ़ैसले के ख़िलाफ़, कश्मीर को दो भागों में बांट दिया गया और इस पर भारत और पाकिस्तान ने कब्जा कर लिया।” माली ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को लेकर एक विवादित स्कैच भी फ़ेसबुक पर पोस्ट किया था। जिसे लेकर तमाम कांग्रेसियों ने नाराज़गी जताई थी। 

जबकि प्यारे लाल गर्ग ने अमरिंदर सिंह के पाकिस्तान की आलोचना करने को लेकर सवाल उठाया था। इन दोनों के बयानों को लेकर मुख्यमंत्री के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने भी कड़ी आपत्ति जताई थी। तिवारी ने कहा था कि क्या ऐसे लोगों को इस देश में रहने का कोई हक़ है।
Navjot Sidhu advisor malwinder singh mali resigned - Satya Hindi

बीजेपी, अकाली दल हुए थे हमलावर 

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस मामले में सिद्धू पर हमला बोला था। पात्रा ने एएनआई से बातचीत में कहा था कि प्यारे लाल गर्ग कहते हैं कि पाकिस्तान के ख़िलाफ़ मत बोलो क्योंकि यह पंजाब के हित में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि सिद्धू और उनके सलाहकार डाल-डाल और पात-पात चल रहे हैं। पात्रा ने कहा था कि सिद्धू पाकिस्तान गए थे और वहां के आर्मी चीफ़ से गले मिले थे। 

शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने कहा था कि मलविंदर सिंह माली की पोस्ट देश विरोधी है और सिद्धू को स्पष्ट करना चाहिए कि उन्होंने ऐसे लोगों को अपना सलाहकार क्यों नियुक्त किया, जो देश को तोड़ने की बात करते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें