loader

कैप्टन से मुलाक़ात के बाद रावत बोले- हाईकमान का फ़ैसला मानेंगे अमरिंदर

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाक़ात के बाद राज्य में पार्टी के प्रभारी हरीश रावत ने पत्रकारों से कहा है कि अमरिंदर सिंह ने इस बात को दोहराया है कि जो भी फ़ैसला कांग्रेस अध्यक्ष लेंगी, वह उसे मानेंगे। कुछ दिन पहले जब अमरिंदर सिंह दिल्ली आए थे और सोनिया गांधी से मिले थे तब उन्होंने पत्रकारों से यही बात कही थी कि वे कांग्रेस अध्यक्ष के आदेश को मानेंगे। 

बता दें कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को ख़त लिखा था और इसमें कहा था कि पार्टी हाईकमान पंजाब सरकार के कामकाज और राज्य की राजनीति में जबरन दख़ल दे रहा है। इस ख़त के सामने आने के बाद हरीश रावत आनन-फ़ानन में चंडीगढ़ पहुंचे और अमरिंदर सिंह से मिले। उधर, सिद्धू ने भी शनिवार को पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ से मुलाक़ात की है। 

तर्जुबेकार नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ख़त में नवजोत सिंह सिद्धू को राज्य इकाई का अध्यक्ष बनाए जाने की ख़बरों को लेकर भी नाराज़गी जाहिर की है और कहा है कि हाईकमान को पंजाब के हालात समझने चाहिए और अभी यहां नेतृत्व में परिवर्तन नहीं हो सकता। 

अमरिंदर के इस पत्र से साफ है कि वह नवजोत सिंह सिद्धू के प्रदेश अध्यक्ष बनने की ख़बरों से क़तई ख़ुश नहीं हैं। उनके द्वारा हाईकमान को ख़त लिखा जाना यह भी बताता है कि कैप्टन झुकेंगे नहीं। 

ताज़ा ख़बरें

रावत के बयान से माहौल गर्म 

गुरूवार को हरीश रावत के नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर दिए गए बयान के बाद पंजाब कांग्रेस का  झगड़ा पूरी रफ़्तार के साथ बढ़ा और हालात यहां तक पहुंच गए कि अमरिंदर ने सीधे हाईकमान को ख़त लिख दिया। रावत ने एक टीवी चैनल के साथ बातचीत में क्या सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष होंगे?, इस सवाल के जवाब में कहा था कि पंजाब कांग्रेस में सुलह का जो फ़ॉर्मूला होगा वो इसके आस-पास ही होगा। 

इस बयान के बाद दिल्ली से लेकर चंडीगढ़ तक यह ख़बर चलने लगी कि सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बनने जा रहे हैं। शाम होते-होते कैप्टन और सिद्धू ने अपने समर्थकों के साथ बैठक की और हरीश रावत को भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तलब किया था। 

इधर, हरीश रावत ने शुक्रवार सुबह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाक़ात की। मुलाक़ात के बाद रावत ने पत्रकारों से कहा कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ही इस मामले में अंतिम फ़ैसला लेंगी। इस मुलाक़ात में नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद रहे। 

अब शायद ऐसा लगता है कि कांग्रेस हाईकमान के लिए पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह बनाम नवजोत सिंह सिद्धू के झगड़े को सुलझाना बहुत मुश्किल है।

रावत के दावों का क्या हुआ?

अमरिंदर के सोनिया को लिखे इस ख़त से यह सवाल भी खड़ा होता है कि क्या पंजाब के कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत हवा-हवाई दावे कर रहे थे। रावत लगातार मीडिया में बयान दे रहे थे कि जल्द ही सब सुलझ जाएगा और सुलह का फ़ॉर्मूला तैयार कर लिया गया है लेकिन यहां तो झगड़ा ख़त्म होने के बजाए बढ़ गया है। 

कैप्टन का हाईकमान को फ़ोन

हरीश रावत के बयान के बाद पंजाब में जो सियासी पारा चढ़ा उसकी तपिश दिल्ली तक भी पहुंची। ख़बरों के मुताबिक़, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरूवार को दिल्ली में हाईकमान को फ़ोन कर कहा कि अगर सिद्धू को अध्यक्ष बनाने का फ़ैसला होता है, तो यह उन्हें मंजूर नहीं है। 
Punjab congress crisis captain amarinder singh letter to sonia gandhi - Satya Hindi

यह बात कैप्टन पहले भी कह चुके हैं कि सिद्धू साढ़े चार साल पहले ही पार्टी में आए हैं और पार्टी में कई वरिष्ठ नेता हैं, इसलिए सिद्धू को इस बड़े पद की जिम्मेदारी नहीं दी जा सकती। 

बहरहाल, सिद्धू की ओर से बुलाई गई बैठक में चार मंत्रियों व छह विधायकों के पहुंचने की ख़बर सामने आई जबकि कैप्टन ने भी अपने समर्थक कई मंत्रियों, सांसदों व विधायकों के साथ मुलाक़ात की। सात महीने बाद होने जा रहे विधानसभा चुनाव से पहले लगातार बढ़ रहा यह झगड़ा कांग्रेस के लिए राज्य में ख़राब संकेत है। 

पंजाब से और ख़बरें

बेअसर रही लंबी कवायद?

पंजाब कांग्रेस में चल रहे इस झगड़े को ख़त्म करने को लेकर बीते कई दिनों से हरीश रावत की हाईकमान के साथ बातचीत हो रही है। उससे पहले सिद्धू की भी राहुल और प्रियंका से मुलाक़ात हुई थी और फिर कैप्टन अमरिंदर सिंह भी दिल्ली आकर सोनिया गांधी से मिले थे। 

इस सबसे पहले पंजाब कांग्रेस के विधायकों-मंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं को दिल्ली बुलाया गया था और यहां कांग्रेस हाईकमान की ओर से बनाए गए पैनल के सामने सबने अपनी बात रखी थी। इस पैनल में वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत और दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष जय प्रकाश अग्रवाल शामिल थे। 

पैनल ने सोनिया गांधी को सौंपी अपनी रिपोर्ट में कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू को नज़रअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। पैनल ने सिद्धू को पार्टी में अहम पद दिए जाने की सिफ़ारिश की थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें