loader

सिद्धू ने संभाला प्रदेश अध्यक्ष का कार्यभार, अमरिंदर रहे मौजूद

पंजाब कांग्रेस में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बनाम प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू कैंप के बीच लंबे वक़्त तक चले संघर्ष के बाद ऐसा दिन भी आया है जब दोनों नेता एक ही मंच पर बैठे हैं। सिद्धू ने शुक्रवार को चंडीगढ़ में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभाला और इस कार्यक्रम में अमरिंदर सिंह भी शामिल हुए। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत भी कार्यक्रम में मौजूद रहे। 

इससे पहले अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस के सभी विधायकों, सांसदों और वरिष्ठ नेताओं को चाय पार्टी पर बुलाया और इस चाय पार्टी में अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू की मुलाक़ात और बात हुई। 

सिद्धू ने भेजा था पत्र 

हालांकि सिद्धू की ओर से अमरिंदर सिंह को इस कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण पत्र भेजा गया था। जिसके बाद अमरिंदर की ओर से चाय पार्टी दी गई। निमंत्रण पत्र में सिद्धू ने लिखा था कि उनका कोई व्यक्तिगत एजेंडा नहीं है और केवल ‘प्रो-पीपल’ एजेंडा है। इसलिए, वह पंजाब कांग्रेस में सबसे वरिष्ठ होने की वजह से उनसे कार्यक्रम में आने का अनुरोध करते हैं। 

ताज़ा ख़बरें

कैप्टन अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने कुछ दिन पहले ट्वीट कर कहा था कि मुख्यमंत्री तब तक सिद्धू से नहीं मिलेंगे जब तक वह उन्हें लेकर सोशल मीडिया पर किए गए हमलों के लिए सार्वजनिक रूप से माफ़ी नहीं मांग लेते। तब ऐसा लगा था कि यह झगड़ा और बढ़ेगा। याद दिला दें कि सिद्धू ने बीते तीन महीनों में ट्विटर और अपने बयानों के जरिये कैप्टन पर जोरदार हमला बोला था। 

माना जाना चाहिए कि अमरिंदर सिंह के इस कार्यक्रम में शामिल होने के बाद दोनों नेताओं के बीच चल रहा झगड़ा ख़त्म होगा। 

सिद्धू ने दिखाई थी ताक़त

इस बात का अंदाजा शायद कैप्टन को भी नहीं रहा होगा कि सिद्धू के अमृतसर पहुंचने पर 62 विधायक उनके साथ खड़े हो जाएंगे। पंजाब में कांग्रेस के 80 विधायक हैं। ऐसे में माना गया कि कैप्टन के क़रीबी भी उनका साथ छोड़कर सिद्धू के साथ आने लगे हैं। 

जब से सिद्धू को अध्यक्ष बनाने का एलान हाईकमान की ओर से हुआ है, इस पूर्व क्रिकेटर ने बेहद तेज़ी से पंजाब की ज़मीन नापनी शुरू कर दी है। सिद्धू के समर्थकों का जोश देखकर साफ लगता है कि वे सिद्धू को 2022 में सूबे का मुख्यमंत्री देखना चाहते हैं। सिद्धू के स्वागत कार्यक्रमों में खासी भीड़ उमड़ी है।

अगले ‘सरदार’ हैं सिद्धू

सिद्धू के बारे में कहा जाता है कि उनकी सियासी ख़्वाहिश पंजाब का मुख्यमंत्री बनने की है। लेकिन जब तक अमरिंदर सिंह हैं, तब तक ऐसा हो पाना मुश्किल है। 

पंजाब से और ख़बरें

लेकिन अमरिंदर सिंह अब 79 साल के हो चुके हैं और लंबे वक़्त तक सियासी सक्रियता बना पाना उनके लिए भी आसान नहीं होगा। शायद इसी को भांपते हुए और हाईकमान का सिद्धू की पीठ पर हाथ होने के कारण कई विधायकों ने सिद्धू के साथ खड़े होने में भलाई समझी है क्योंकि यह उन्हें भी समझ आ गया है कि सिद्धू ही पंजाब कांग्रेस के अगले ‘सरदार’ हैं।  

Punjab congress crisis ends Amarinder Singh will met Navjot Sidhu  - Satya Hindi

लंबे वक़्त तक चली जंग 

बता दें कि सिद्धू और अमरिंदर के बीच लंबे वक़्त तक चली जंग के बाद हाईकमान ने सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है जबकि कैप्टन कई बार कह चुके थे कि सिद्धू को अध्यक्ष नहीं बनाया जाना चाहिए। नवजोत सिंह सिद्धू को रोकने के लिए कैप्टन ने आख़िरी वक़्त में अपने सियासी विरोधी प्रताप सिंह बाजवा का भी नाम आगे बढ़ाया लेकिन हाईकमान इस पद पर सिद्धू को ही चाहता था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें