loader

डिसलाइक से नहीं उबर पा रही बीजेपी, अब मोदी के काम पर बने वीडियो को किया नापसंद

सोशल मीडिया की बादशाह माने जाने वाली बीजेपी का समय इन दिनों ख़राब चल रहा है। कई फ़ेसबुक पेज और कई ट्विटर हैंडल चलाने वाली बीजेपी इन दिनों यू ट्यूब पर मिल रहे डिसलाइक्स से परेशान है। इन डिसलाइक्स को लेकर राजनीतिक गलियारों में जोरदार चर्चा भी है। 

कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम को बीजेपी के यू ट्यूब चैनल पर लगभग डेढ़ लाख लाइक की जगह लगभग साढ़े 8 लाख से ज़्यादा डिसलाइक मिले थे। अब बीजेपी के ही यू ट्यूब चैनल पर फिर से कुछ ऐसा ही हुआ है और पार्टी परेशान है कि आख़िर वह करे तो करे क्या। 

4 सितंबर को बीजेपी के यू ट्यूब चैनल पर एक वीडियो अपलोड किया गया। लोगों को वीडियो की ओर खींचने के लिए वीडियो की शुरूआत एक इमेज से की गयी, जिसमें लिखा है- कोरोना महामारी में देश वासियों के साथ हर क़दम पर खड़ी मोदी सरकार, इसमें मोदी जी का फ़ोटो भी है। इसके टाइटल में भी यही वाक्य लिखा गया है। 

ताज़ा ख़बरें

डिस्क्रिप्शन को कैची बनाने के लिए लिखा गया है- ‘ग़रीबी में जीने वाला ही जान सकता है ग़रीबों की पीड़ा।’ इसके अलावा ग़रीबों को मुफ्त राशन, मुफ्त गैस सिलेंडर, जनधन खाते में 500-500 रुपये, अतिरिक्त वृद्धावस्था व विकलांग पेंशन सहित तमाम कामों का जिक्र किया गया है और हैशटैग दिया गया है- आत्मनिर्भर भारत। 

वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शान में कसीदे पढ़ते हुए एक बुजुर्ग महिला को एक दुकानदार से यह कहते हुए दिखाया गया है कि वह उसे मुफ़्त राशन दे दे। बुजुर्ग महिला कहती है, ‘तीन महीने से मेरे घर का चूल्हा मोदी जी के कारण जल रहा है, हम ग़रीबों को मोदी जी कब तक झेलेंगे।’ इस पर दुकानदार कहता है- ‘जो ख़ुद ग़रीब परिवार से आया हो, वह किसी को झेलता नहीं है, दूसरों का सहारा बनता है।’ 

आगे भी इसी तरह के वाक्यों से मोदी जी को ग़रीबों का मसीहा बताया गया है। वीडियो अपलोड करने के बाद बीजेपी की आईटी टीम को उम्मीद रही होगी कि उसका यह वीडियो काफ़ी लोगों को पसंद आएगा लेकिन थोड़ी देर बाद ही यह वीडियो सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बन गया। वह इसलिए कि इस वीडियो के साथ भी वही हुआ, जो ‘मन की बात’ वाले कार्यक्रम के वीडियो के साथ हुआ था। 

5 सितंबर सुबह के 11 बजे तक इस वीडियो को 2700 लाइक के बजाय 16 हज़ार डिसलाइक मिल चुके थे। 

BJP you tube channel disliked by users  - Satya Hindi

इतना ही नहीं, इस वीडियो के नीचे कमेंट सेक्शन में जितेंद्र कुमार लिखते हैं कि वह वीडियो को डिसलाइक करने इस चैनल पर आते हैं और 2 मिनट बाद फिर से देखते हैं कि कोई और वीडियो अपलोड हुआ या नहीं। इसी तरह दीन की बात वाले एक यूजर ने लिखा है कि वह डिसलाइक करने के लिए मंगल ग्रह से आया है। 

ऐसे ही कमेंट कई और लोगों ने भी किए हैं। सौरव कुमार नाम के एक यूजर ने लिखा है कि यह सरकार ग़रीबों और मिडिल क्लास के लिए पूरी तरह असंवेदनशील है। विद्या नाइक नाम की यूजर लिखती हैं कि तीन साल से पेंडिंग पड़े हुए एसएससी और रेलवे के रिजल्ट को सरकार को जारी करना चाहिए। 

BJP you tube channel disliked by users  - Satya Hindi
BJP you tube channel disliked by users  - Satya Hindi

बीजेपी के लिए बना सिरदर्द 

कुल मिलाकर यह बीजेपी के लिए सिरदर्द बनता जा रहा है कि आख़िर ऐसा क्या हो गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यू ट्यूब पर लोगों ने नापसंद करना शुरू कर दिया है क्योंकि मोदी की लोकप्रियता नोटबंदी, जीएसटी, आर्थिक मंदी और कोरोना संकट में भी घटती नहीं दिख रही थी तो अब अचानक लोग डिसलाइक क्यों करने लगे हैं। 

कुछ लोगों का मानना है कि यह NEET और JEE के परीक्षार्थियों और उनके माता-पिता का गुस्सा है। देश में 26 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी NEET और JEE की परीक्षा दे रहे हैं। उन्होंने और कई राज्य सरकारों ने मांग की थी कि कोरोना संक्रमण के बेहद कठिन हालात में केंद्र सरकार को ये परीक्षाएं टाल देनी चाहिए लेकिन केंद्र सरकार नहीं मानी और इन लोगों को सुप्रीम कोर्ट से भी कोई राहत नहीं मिली। 

अब बीजेपी कैसे इस मुसीबत से निपटती है, ये देखने वाली बात होगी। क्योंकि बीजेपी सब कुछ कर सकती है लेकिन लोगों को वीडियो लाइक या डिसलाइक करने से नहीं रोक सकती। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें