loader

हैदराबाद एनकाउंटर- अभियुक्तों ने हथियार छीन लिए थे, पुलिस का दावा

हैदराबाद बलात्कार और हत्या मामले के आरोपियों की मुठभेड़ में ढेर करने पर उठ रहे सवालों के बीच तेलंगाना पुलिस ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर सफ़ाई दी है। हैदराबाद पुलिस ने दावा किया कि पुलिस कर्मियों ने जवाबी कार्रवाई में अभियुक्तों पर फ़ायरिंग की। पुलिस का कहना है कि बलात्कार और हत्या के इन अभियुक्तों ने पुलिस से हथियार छीन लिए थे और ये हथियार अन्लॉक्ड थे।

पुलिस ने दावा किया है कि पुलिस जाँच के लिए जब चारों अभियुक्तों को डॉक्टर की हत्या की जगह पर ले जाया जा रहा था तभी उन्होंने भागने की कोशिश की। साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वी सी सज्जनार ने दावा किया कि जैसे ही आरोपियों को उस घटनास्थल पर लाया गया पाँच से दस मिनट में यह सब शुरू हो गया। सज्जनार ने कहा कि अभियुक्तों को घटनास्थल पर इसलिए लाया गया था कि डॉक्टर की हत्या की रात वहाँ से डॉक्टर के सामान को बरामद किया जा सके। उन्होंने कहा कि हमने पावर बैंक, घड़ी और सेलफ़ोन बरामद किया। 

सम्बंधित खबरें

सज्जनार ने दावा किया, 'अभियुक्तों ने पत्थर और छड़ियों से हमला कर दिया, हथियार (पुलिस की गन) छीन लिए और पुलिस पर फ़ायरिंग कर दी। अफ़सरों ने चेतावनी दी और समर्पण करने को कहा, लेकिन उन्होंने फ़ायरिंग जारी रखी। इसके बाद हमने भी फ़ायरिंग शुरू कर दी और मुठभेड़ में वे मारे गए।'

पुलिस का कहना है कि उस समय 10 पुलिसकर्मी साथ थे। इसके अनुसार, उनमें से दो को गंभीर चोटें आई हैं और उन्हें स्थानीय हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। 

बता दें कि इस मुठभेड़ के मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है और नोटिस जारी किया है। इस नोटिस के सवाल पर सज्जनार ने कहा कि सरकार, मानवाधिकार आयोग या जो कोई भी मामले का संज्ञान लेता है हम उसका जवाब देंगे। उन्होंने कहा कि मैं बस यही कह सकता हूँ कि क़ानून ने अपना काम किया है।

इससे पहले सज्जनार ने शुक्रवार सुबह मुठभेड़ के बाद कहा था कि चारों आरोपी शादनगर के चटनपल्ली में शुक्रवार तड़के तीन बजे से छह बजे की बीच एनकाउंटर में मारे गए। लेकिन तब उन्होंने इसका पूरा विवरण नहीं दिया था।

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि हैदराबाद के शादनगर में 27 नवंबर की रात जानवरों की डॉक्टर से बलात्कार और हत्या का मामला सामने आया था। इस मामले में पुलिस ने चारों आरोपियों मुहम्मद आरिफ़, शिवा, नवीन और केशवुलू को पुलिस रिमांड में रखा था। चारों आरोपियों को फाँसी की सज़ा दिए जाने की माँग की जा रही थी। इसके लिए देश भर में कई जगह प्रदर्शन हुए थे। 

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें