loader
कानपुर हिंसा।

पैगंबर पर पोस्ट के लिए कानपुर हिंसा के 4 दिन बाद बीजेपी नेता गिरफ़्तार

पैगंबर मोहम्मद साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के लिए कानपुर में एक बीजेपी नेता को गिरफ़्तार किया गया है। यह गिरफ़्तारी कानपुर हिंसा के चार दिन बाद हुई है। पैगंबर साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद वहाँ हिंसा हुई थी। हर्षित श्रीवास्तव नाम के ट्विटर यूज़र ने पैगंबर मोहम्मद पर भड़काऊ पोस्ट साझा किया था और इसको लेकर हर्षित के ख़िलाफ़ कर्नलगंज पुलिस में मामला दर्ज किया गया था। उसके ट्विटर बायो में कानपुर के बीजेपी का युवा प्रमुख लिखा हुआ है। हालाँकि उस ट्वीट को अब हटा दिया गया है।

खाड़ी देशों सहित कई अन्य देशों से भारी दबाव का सामना कर रही बीजेपी की केंद्र सरकार पैगंबर मोहम्मद साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए अपने दो राष्ट्रीय प्रवक्ताओं नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को निलंबित कर चुकी है। इसके बाद भी इस पर गहमागहमी कम नहीं हो रही है। नूपुर शर्मा पर भी गिरफ़्तारी की तलवार लटकी है क्योंकि महाराष्ट्र में उनके ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की जा चुकी है और उसको लेकर समन भी जारी हो चुका है। 

ताज़ा ख़बरें

कानपुर में हर्षित श्रीवास्तव की गिरफ़्तारी की पुलिस ने पुष्टि की है। यह गिरफ्तारी तब हुई जब राष्ट्रीय टेलीविजन पर भाजपा की नेता नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर पर विवादास्पद टिप्पणी को लेकर शहर में हिंसा भड़क उठी थी। तब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहर में ही थे। झड़पों में कई लोग घायल हो गए थे।  

झड़पों के सिलसिले में अब तक कम से कम 50 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि 10 अन्य को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। इस हिंसा के मामले में डेढ़ सौ लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की गई है। सोमवार को कानपुर पुलिस ने हिंसा में शामिल लोगों की 40 तसवीरों वाले पोस्टर जारी किए थे। 

बहरहाल, बीजेपी से जुड़े जिन तीन नेताओं पर कार्रवाई हुई है, वह काफ़ी विवाद होने के बाद हुई है। पैगंबर मोहम्मद साहब पर कथित विवादास्पद टिप्पणियों के बाद कई देशों ने इस मुद्दे को उठाया।

पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा का बयान 26 मई को आया था लेकिन उसके बाद दस दिनों तक पार्टी की तरफ़ से कोई कार्रवाई नहीं हुई, कोई निंदात्मक बयान तक नहीं आया था।

पार्टी की चुप्पी को सहमति समझते हुए उसके दिल्ली मीडिया सेल के प्रभारी नवीन कुमार जिंदल ने 1 जून को और भी आपत्तिजनक ट्वीट कर दिया। उनके ख़िलाफ़ भी 4 जून तक कोई क़दम नहीं उठाया गया।

बीजेपी की तरफ़ से यह कार्रवाई तब हुई जब खाड़ी देशों में इन दोनों के बयानों पर तीखी प्रतिक्रिया शुरू हो गई।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
अब तक 15 देश इसे लेकर अपना जोरदार विरोध दर्ज करा चुके हैं। बीजेपी नेताओं की टिप्पणियों के खिलाफ विरोध करने वाले देशों में ईरान, इराक़, कुवैत, क़तर, सऊदी अरब, ओमान, संयुक्त अरब अमीरात, ईरान, जॉर्डन, अफगानिस्तान, बहरीन, मालदीव, लीबिया और इंडोनेशिया जैसे देश शामिल हैं। बीजेपी की ओर से नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने के बाद भी विरोध कम होता नहीं दिख रहा है। कहा जा रहा है कि सरकारी प्रतिक्रिया में ही इन्हें 'फ्रिंज एलिमेंट' यानी हाशिए के लोग कहने और दोनों को निलंबित करने के फ़ैसलों से बीजेपी ने अब भारी विरोध के बाद उनके बयानों को ग़लत मान लिया है।
पैगंबर मोहम्मद साहब पर टिप्पणी पर नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को निलंबित करने के मामले में अब बीजेपी के समर्थकों और दक्षिणपंथियों ने ही पार्टी के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया लगता है। मंगलवार को ट्विटर पर 'ShameOnBJP' हैशटैग के साथ ट्रेंड करता रहा। कुछ नामचीन लोगों ने भी नूपुर शर्मा के समर्थन में ट्वीट तो किया है, लेकिन 'ShameOnBJP' हैशटैग का इस्तेमाल नहीं किया है। वैसे, अब नूपुर शर्मा पर भी गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। 
ख़ास ख़बरें

पैगंबर मोहम्मद साहब के खिलाफ टिप्पणी करने को लेकर मुंबई पुलिस ने बीजेपी की नेता नूपुर शर्मा को समन भेजा है। मुंबई पुलिस ने मंगलवार को यह समन भेजा है और नूपुर शर्मा से 22 जून को उनका बयान दर्ज कराने के लिए पुलिस के सामने पेश होने के लिए कहा है।

मुंबई पुलिस ने 28 मई को नूपुर शर्मा के खिलाफ पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करने को लेकर एफआईआर दर्ज की थी। यह एफआईआर मुस्लिम संगठन रजा एकेडमी के पदाधिकारी इरफान शेख की शिकायत पर दर्ज की गई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें