loader
फ़ाइल फ़ोटो

हाथरस के बाद बलरामपुर में दलित युवती के साथ बलात्कार, पाँव और कमर तोड़ी, मौत 

‘क्राइम स्टेट’ बनते जा रहे उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित परिवार की बेटी के साथ हुए जुल्मों का शोर अभी थमा भी नहीं था कि बलरामपुर से ऐसी ही ख़ौफ़नाक घटना सामने आई है। बलरामपुर में 22 साल की एक दलित युवती के साथ दो लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया और उसके दोनों पांव और कमर को तोड़ दिया। यह घटना जिले के गैसाड़ी गांव में मंगलवार को हुई है। 

बी.कॉम दूसरे वर्ष की यह छात्रा अपनी फ़ीस जमा करने के लिए घर से निकली थी। परिवार का कहना है कि वह एक प्राइवेट फर्म में काम भी करती थी। उन्होंने कहा कि जब वह वापस लौट रही थी तो उसका अपहरण कर उसके साथ बलात्कार किया गया। 

ताज़ा ख़बरें

दबंगों ने बलात्कार की वारदात को अंजाम देने के बाद दलित युवती को रिक्शे पर बिठाकर घर भेज दिया। युवती उस वक्त अचेत अवस्था में थी। परिजनों ने कहा है कि उनकी बेटी के दोनों पैर और कमर की हड्डी तोड़ दी गई थी। हालत गंभीर होने पर परिवार वाले उसे लखनऊ के किसी अस्पताल में ले जा रहे थे लेकिन उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। परिजनों ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी को बलात्कार से पहले कोई घातक इंजेक्शन लगाया गया था। 

युवती की मां ने रोते हुए कहा, ‘जब मेरी बच्ची लौटी तो वह बोल और खड़ी भी नहीं हो पा रही थी। उसने कहा, मुझे बहुत दर्द हो रहा है। मैं जिंदा नहीं बचूंगी। मुझे बचा लो, मैं मरना नहीं चाहती।’

पुलिस का अजीब रवैया

हाथरस मामले में दलित युवती के बयान देने के बाद कि उसके साथ दरिंदगी हुई है, लेकिन सरकारी रिपोर्ट में इसका कहीं कोई जिक्र न करने वाली योगी सरकार की पुलिस यहां भी वही काम कर रही है। बलरामपुर पुलिस ने कहा है कि पैर व कमर तोड़ने वाली बात सही नहीं है क्योंकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसकी पुष्टि नहीं हुई है। जबकि हाथरस की ही तरह यहां पर भी युवती के परिजन चीख-चीखकर कर रहे हैं कि अभियुक्तों ने बेरहमी करते हुए उनकी बेटी के दोनों पांव और कमर को तोड़ दिया। 

हाथरस के प्रकरण में अभियुक्तों द्वारा बुरी तरह से पिटाई के बाद लकवाग्रस्त हो चुकी पीड़िता के शरीर पर आई गंभीर चोटों का भी जिक्र सरकारी मेडिकल रिपोर्ट में नहीं किया गया था। 

हाथरस दलित रेपकांड पर क्या योगी सरकार लीपापोती कर रही है। देखिए, वीडियो- 

पुलिस ने युवती के भाई की शिकायत पर शाहिद और साहिल नाम के दो लोगों को सामूहिक बलात्कार और हत्या के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया है। पुलिस ने कहा है कि एक किराने की दुकान के पीछे बने कमरे में इस युवती के साथ बलात्कार की वारदात को अंजाम दिया गया। पुलिस के मुताबिक़, पीड़िता की सैंडल कमरे के बाहर मिली हैं और इस किराने की दुकान का मालिक इस घटना का प्रमुख अभियुक्त बताया जा रहा है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पुलिस की जांच में यह बात भी सामने आई है कि अभियुक्तों ने बलात्कार के बाद पीड़िता का इलाज कराने की कोशिश की। उन्होंने एक नजदीकी डॉक्टर को बुलाया लेकिन हालात संदिग्ध लगने पर डॉक्टर ने युवती के परिजनों की मौजूदगी के बिना इलाज करने से मना कर दिया। 

रात में ही करवा दिया दाह संस्कार

हाथरस के मामले में परिजनों को युवती का मुंह तक न दिखाने वाली और जोर-जबरदस्ती के दम पर युवती का अंतिम संस्कार कर देने वाली पुलिस ने यहां भी ठीक वैसा ही काम किया। भारी पुलिस तैनाती के बीच ही मंगलवार रात को अफरा-तफरी में युवती का दाह संस्कार कर दिया गया।

पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना पर कहा है कि बीजेपी सरकार बलरामपुर में हाथरस जैसी लापरवाही व लीपापोती न करे और अपराधियों पर तत्काल कार्रवाई करे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें