loader

यूपी पंचायत चुनावों पर भी किसान आंदोलन की आँच, बीजेपी सांसत में

किसान आंदोलन के चलते उत्तर प्रदेश में ख़ुद को अपराजेय मान रही योगी सरकार के पसीने छूट रहे हैं। दिल्ली में चल रहे इस आंदोलन का व्यापक प्रभाव पश्चिमी उत्तर प्रदेश में देखा जा रहा है तो अब इसने पूर्वी हिस्से में भी पाँव पसारना शुरू कर दिया है। किसान पंचायतें अब पश्चिम के साथ ही पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी शुरू हो गयी हैं और किसान नेता राकेश टिकैत व नरेश टिकैत इनमें हिस्सा ले रहे हैं। किसान आक्रोश की आँच पश्चिम से चल कर पूर्व तक आ पहुँचने के बाद अब यूपी सरकार के लिए पंचायत चुनाव गले की हड्डी बन गया है। यूपी में पंचायत चुनाव होने हैं जिनका कार्यकाल बीते दिसंबर में ही ख़त्म हो चुका है। प्रदेश सरकार की योजना पहले फ़रवरी में और अब मार्च में चुनाव कराने की थी। 

हालाँकि किसान आंदोलन के चलते अब योगी सरकार हाल फ़िलहाल तो चुनाव से बचना चाह रही है। पंचायत चुनावों में आधी से ज़्यादा सीटें पश्चिम यूपी में हैं जहाँ किसान आंदोलन का सबसे ज़्यादा प्रभाव नज़र आ रहा है। ख़ुद बीजेपी नेताओं का मानना है कि किसानों का ग़ुस्सा अब पूर्वी यूपी तक आ पहुँचा है और देर सबेर यह और तेज़ ही होगा।

ताज़ा ख़बरें

पंचायत चुनाव में नुक़सान का डर

ताज़ा हालात में अगर उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव होते हैं तो बीजेपी को नुक़सान का डर दिख रहा है। हालाँकि किसान आंदोलन को देखते हुए पार्टी ने पहले ही साफ़ कर दिया है कि वह पंचायत चुनाव अपने सिंबल पर नहीं लड़ेगी और ज़िला पंचायत सदस्य पदों पर वह अपना समर्थन देगी। पार्टी का मानना है कि वर्तमान हालात में चुनाव होने पर अधिकांश ज़िलों में ज़िला पंचायत अध्यक्ष से लेकर ब्लॉक प्रमुख के पदों पर अपने लोगों को बैठाना आसान नहीं होगा। पंचायत चुनावों में पीछे रह जाने का खामियाजा आगे आने वाले विधान परिषद के स्थानीय निकाय कोटे के सदस्य पदों के चुनाव में भी उठाना पड़ेगा।

पश्चिमी यूपी में बीजेपी नेताओं का विरोध?

कृषि क़ानूनों को लेकर पश्चिम यूपी के किसानों में इस कदर ग़ुस्सा है कि वहाँ के गाँवों में बीजेपी नेताओं के घुसने तक पर रोक लगा दी गयी है। पश्चिम की प्रमुख खेतिहर जाट बिरादरी बीते कई चुनावों से बीजेपी के साथ थी जो अब बिदक गयी है। टिकैत के आँसुओं ने उसके ग़ुस्से को और भड़का दिया है और वो अब मारपीट पर उतारू है। 

पश्चिम के कई गाँवों में बाक़ायदा बीजेपी नेताओं के घुसने पर पाबंदी वाले बोर्ड लगे हैं और सार्वजनिक स्थानों पर लोग विरोध में नारेबाज़ी कर रहे हैं। हाल ही में पश्चिम यूपी से बीजेपी के ताक़तवर केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के साथ गाँवों में विरोध और मारपीट की भी घटना हुई है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर ज़िले के शाहपुर थाना क्षेत्र के गाँव सोरम में सोमवार को एक तेहरवीं में शामिल होने गए केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान व अन्य बीजेपी नेताओं के सामने मुर्दाबाद के नारे लगे। नारे लगाने को लेकर बीजेपी समर्थकों तथा किसानों के बीच जमकर मारपीट हुई। इससे पहले नए कृषि क़ानूनों के फ़ायदे बताने पहुँचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का रविवार को शामली में भारी विरोध हुआ था। शामली के भैंसवाल में संजीव बालियान और बीजेपी के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी हुई थी। आक्रोश इतना था कि ग्रामीणों ने मंत्री के काफिले के आगे ट्रैक्टर सटाकर उनको गाँव में घुसने नहीं दिया था।

farmers protest in west up trouble for bjp as panchayat poll may delay - Satya Hindi

खाप पंचायतों में ग़ुस्सा

किसान आंदोलन से हुए राजनैतिक नुक़सान को कम करने और कृषि क़ानून पर सरकार का पक्ष रखने के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश में शुरू हुई भारतीय जनता पार्टी की खाप पंचायतों से मुलाक़ात का दाँव उल्टा पड़ने लगा है। ताक़तवर जाट केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का जिस कदर विरोध पश्चिम यूपी में हो रहा है उसने बीजेपी के नेताओं को अपनी रणनीति पर पुनर्विचार के लिए मजबूर कर दिया है। पार्टी ने अब गाँवों में जाकर खाप पंचायतों के चौधरियों से मिलने के कार्यक्रम पर लगाम लगाने का मन बना लिया है। पश्चिम में अब तक केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को दो जगहों पर किसानों, खासकर, जाटों के उग्र विरोध का सामना करना पड़ा है। वहीं राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के जयंत चौधरी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लगातार पश्चिम में किसान पंचायत कर रही हैं जहाँ भारी भीड़ उमड़ रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें