loader

विकास दुबे मामला: टीम में शामिल पुलिस अफ़सर से सुनिए, घटना वाली रात क्या हुआ था 

बेहद शातिर और कुख्यात अपराधी विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम के साथ उस रात क्या-क्या हुआ, पूरी घटना को टीम में शामिल रहे एक पुलिस अफ़सर ने बयां किया है। ये पुलिस अफ़सर कानपुर जिले के बिठूर पुलिस स्टेशन के एसओ कौशलेंद्र प्रताप सिंह हैं। कौशलेंद्र ख़ुद भी इस मुठभेड़ में घायल हुए हैं और उनका इलाज चल रहा है। इस मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। 

कौशलेंद्र ने रविवार को पत्रकारों को बताया कि बिकरू गांव में हुई इस घटना को लेकर पुलिस को क़तई अंदाजा नहीं था कि वहां पर मुठभेड़ जैसी स्थिति आ सकती है, इसलिए पुलिसकर्मियों के पास हथियार और बारूद जैसा कोई सामान नहीं था। 

ताज़ा ख़बरें

कौशलेंद्र ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘आसपास के थानों के मामलों में, हम एक-दूसरे की मदद करते हैं। घटना वाले दिन मुझे एसओ, चौबेपुर ने सूचना दी थी कि दबिश में चलना है और हम रात 12.30 बजे निकल गए थे और 1 बजे वहां पहुंच गए थे। पुलिस टीम में सीओ, बिल्हौर और एसओ, शिवराजपुर और अन्य पुलिसकर्मी भी थे।’

कौशलेंद्र ने आगे कहा, ‘गाड़ियों को 200 मीटर पहले ही पार्क करने के बाद हम लोग पैदल जाने लगे। लेकिन रास्ते में विकास ने जेसीबी इस तरह लगा रखी थी कि एक बार में एक ही व्यक्ति जा सके। जैसे ही हम जेसीबी को पार करके उसके घर के नजदीक पहुंचे, हमारे ऊपर चारों ओर से ताबड़तोड़ फ़ायरिंग होने लगी।’ 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

उन्होंने कहा कि इसमें तीन सिपाहियों को गोली लगी, हम लोग इधर-उधर बिखर गए और छिपने की कोशिश की। एसओ ने कहा कि उनके साथ टीम में शामिल दो सिपाही घायल हो गए थे, उन्हें बचाने के लिए हम लोग एक ट्राली के पीछे छुप गए और जवाबी फ़ायरिंग की। 

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, कौशलेंद्र ने कहा, ‘दुबे के लोग पूरी तरह तैयार थे। सभी लोग सेमी ऑटोमैटिक हथियारों से लैस थे और वे तकरीबन 15-20 लोग थे। दूसरी ओर, हमारे पास असलहा तक नहीं था।’

एसओ, बिठूर ने कहा, ‘दुबे के गैंग को पुलिस की रेड के बारे में पहले से ही सूचना मिल चुकी थी और उसने अपनी पूरी तैयारी कर रखी थी। यहां तक कि लाइट भी इस तरह लगाई गई थी कि रोशनी पुलिसकर्मियों पर पड़े न कि बदमाशों पर। उस दौरान हम उन्हें देख नहीं सके।’ 

विकास दुबे को पुलिस के आने की सूचना देने के शक में उत्तर प्रदेश पुलिस चौबेपुर पुलिस स्टेशन के स्टेशन अफ़सर विनय तिवारी को सस्पेंड कर चुकी है। कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा है कि तिवारी के ख़िलाफ़ लगे आरोपों के चलते उन्हें सस्पेंड किया गया है और आरोपों की गंभीरता से जांच की जा रही है। 

विनय तिवारी के बारे में उन्होंने कहा कि ऐसा कहना ग़लत होगा क्योंकि हम सब लोग एक साथ आगे बढ़ रहे थे। 

8 पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद सरकार और प्रशासन इस मामले में बेहद सख़्त है। घटना के अगले दिन विकास दुबे के घर को जेसीबी से ढहा दिया गया था और इस दौरान वहां खड़ी कई गाड़ियों को भी पुलिस ने चकनाचूर कर दिया था। बताया गया है कि विकास दुबे इस घर से अपना आपराधिक साम्राज्य चला रहा था। 

विकास दुबे बेहद शातिर बदमाश है। उसका नाम पहली बार चर्चा में तब आया था, जब उसने 2001 में उत्तर प्रदेश सरकार के तत्कालीन राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की पुलिस थाने के अंदर हत्या कर दी थी।

दुबे के बारे में कहा जाता है कि उसकी सभी राजनीतिक दलों में अच्छी पकड़ है और वह जिला पंचायत का सदस्य भी रह चुका है। कई पार्टियों के नेता पंचायत और स्थानीय निकाय के चुनावों में दुबे की मदद लेते रहे हैं।

दुबे का कानपुर के आसपास के इलाक़ों में ख़ौफ़ माना जाता है और कहा जाता है कि उसके पास बदमाशों की एक अच्छी-खासी टीम है। दुबे को कानपुर के रिटायर्ड प्रिंसिपल सिद्धेश्वर पांडे की हत्या में उम्र क़ैद की सजा हो चुकी है। विकास दुबे पर 60 आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें