loader

हाथरस:उमा बोलीं- योगी जी, पत्रकारों को पीड़ित परिवार से मिलने दें

हाथरस गैंगरेप मामले में पुलिस और प्रशासन के दम पर दमन पर उतारू योगी सरकार की खासी किरकिरी हो रही है। पुलिसिया दमन करके वह पत्रकारों, विपक्ष और आम लोगों की आवाज़ को कुचलने की पूरी कोशिश कर रही है लेकिन पार्टी के भीतर से उठ रही आवाज़ों के लिए वह क्या करेगी। 

ग़ाज़ियाबाद की लोनी सीट से विधायक नंद किशोर गुर्जर द्वारा उत्तर प्रदेश की महामहिम राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को पत्र लिखकर प्रदेश के डीजीपी, हाथरस के डीएम और एसएसपी समेत मामले को देख रहे अन्य अधिकारियों पर हत्या का मुक़दमा दर्ज करने की मांग के बाद पार्टी की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने योगी सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। 

ताज़ा ख़बरें

राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख चेहरों में शुमार रहीं और बीजेपी सरकार व संगठन में भी कई अहम पदों को संभाल चुकीं उमा भारती ने शुक्रवार शाम को दनादन ट्वीट किए। इन ट्वीट्स में उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित करते हुए काफी कुछ लिखा है। 

उमा ने लिखा है कि अगर वह कोरोना संक्रमित होने के कारण अस्पताल में भर्ती नहीं होतीं तो हाथरस के गांव में पीड़िता के परिवार के साथ बैठी होतीं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा ने लिखा, ‘हाथरस की घटना में जिस प्रकार से पुलिस ने गांव की एवं पीड़ित परिवार की घेरेबंदी की है, उसके कितने भी तर्क हों लेकिन इससे विभिन्न आशंकाएं जन्मती हैं। वह एक दलित परिवार की बेटी थी। बड़ी जल्दबाज़ी में पुलिस ने उसकी अंत्येष्टि की और अब पुलिस के द्वारा परिवार एवं गांव की घेरेबंदी कर दी गयी है।’

भगवा वस्त्र धारण करने वालीं उमा भारती ने आगे लिखा, ‘मेरी जानकारी में ऐसा कोई नियम नहीं है कि एसआइटी जांच के दौरान परिवार किसी से मिल भी ना पाये, इससे तो एसआईटी की जांच ही संदेह के दायरे में आ जायेगी।’

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
उमा भारती ने, केंद्र व योगी सरकार और बीजेपी को साफ संदेश देते हुए लिखा कि हमने अभी राम मंदिर का शिलान्यास किया है तथा आगे देश में रामराज्य लाने का दावा किया है, किन्तु इस घटना पर पुलिस की संदेहपूर्ण कार्रवाई से आपकी, उत्तर प्रदेश सरकार की तथा बीजपी की छवि पे आंच आयी है। उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री से मेरा अनुरोध है कि आप मीडियाकर्मियों को एवं अन्य राजनीतिक दलों के लोगों को पीड़ित परिवार से मिलने दीजिये।’
अंत में उमा लिखती हैं कि अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वे पीड़ित परिवार से ज़रूर मिलेंगी। उन्होंने यह भी लिखा है कि वह बीजेपी में उनसे (योगी से) वरिष्ठ हैं, इसलिए आग्रह है कि उनके सुझाव को अमान्य न करें।

योगी सरकार पर बढ़ाया दबाव 

उमा ने एक के बाद एक ताबड़तोड़ ट्वीट करके योगी सरकार पर दबाव बढ़ा दिया है। क्योंकि बीजेपी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने जो पत्र राज्यपाल को लिखा है, उस वजह से और राज्य बीजेपी के कुछ दलित सांसदों द्वारा हाथरस प्रकरण को लेकर तीख़ी टिप्पणी करने से योगी सरकार पहले से ही परेशान है। उलटा उसने मीडिया को पीड़िता के गांव में जाने से रोककर अपनी मुसीबतों में इजाफा कर लिया है। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में उत्तर प्रदेश बीजेपी के चार दलित सांसदों ने हाथरस मामले में पुलिस की कार्रवाई की निंदा की और कहा कि इसकी उचित जांच होनी चाहिए। उन्होंने परिवार को शामिल किए बिना युवती का दाह संस्कार करने पर भी सवाल उठाए। 

कौशांबी के सांसद विनोद कुमार सोनकर ने कहा कि निश्चित रूप से इस घटना से राज्य और हमारी सरकार की छवि ख़राब हुई है और इससे राजनीतिक नुक़सान भी हो रहा है। सोनकर ने इस तरह की घटनाओं के लिए पुलिस में जातिवाद और भ्रष्टाचार की जड़ें गहरी होने की बात मानी। 

हाथरस दलित रेपकांड पर क्या योगी सरकार लीपापोती कर रही है। देखिए, वीडियो- 

पुलिसिया तानाशाही चरम पर 

पुलिस ने 14 सितंबर को उस दलित युवती के साथ हुए सामूहिक बलात्कार को मानने से मना कर दिया है। अपनी सरकारी रिपोर्ट में उसने अभियुक्तों की पिटाई के कारण लकवाग्रस्त हो चुकी दलित युवती को लगी चोटों का जिक्र नहीं किया। रात में सफदरजंग से शव को हाथरस पहुंचा दिया, परिजनों की लाख मनुहार के बाद उनकी बेटी का चेहरा उन्हें नहीं देखने दिया और युवती का दाह संस्कार कर दिया। 

इसके बाद पुलिस ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को पीड़िता के गांव में नहीं पहुंचने दिया। पीड़िता के परिवार वाले लगातार कह रहे हैं कि उन पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है, डीएम दबाव बना रहे हैं और उन्हें मीडिया से बात नहीं करने दी जा रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें