loader

पाकिस्तान में नए पीएम का चुनाव आज, शहबाज़ ही बनेंगे

पाकिस्तान की नेशनल असेम्बली (संसद) में अब नए प्रधानमंत्री का चुनाव सोमवार को होगा। पूरी उम्मीद है कि शहबाज़ शरीफ को ही नया नेता चुना जाएगा। नए पीएम का चुनाव करने के लिए नेशनल असेंबली का सत्र दोपहर 2 बजे बुलाया गया है। यह सत्र पहले सोमवार को सुबह 11 बजे शुरू होने वाला था।

पाकिस्तानी संसद के सचिवालय के अनुसार, इस पद के तमाम दावेदार रविवार दोपहर 2 बजे तक अपना नामांकन पत्र दाखिल कर सकते हैं। आज दोपहर तीन बजे तक नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। नए शेड्यूल के मुताबिक नए प्रधानमंत्री के लिए चुनाव सोमवार को होगा।

ताजा ख़बरें
इमरान अविश्वास मत हारेपाकिस्तान में पहली बार किसी प्रधानमंत्री को अविश्वास प्रस्ताव के जरिए हटा दिया गया था। संसद ने इस मामले में 12 घंटे से अधिक समय तक बहस की और राजनीतिक स्थिति ने शनिवार की रात गंभीर मोड़ ले लिया। . अध्यक्ष असद कैसर के अपने पद से इस्तीफा देने के बाद सत्र की अध्यक्षता अयाज सादिक ने की। अयाज सादिक ने मतदान की प्रक्रिया के बाद घोषणा की। 174 सदस्यों ने प्रस्ताव के पक्ष में अपने वोट दर्ज किए, जिसके परिणामस्वरूप पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के प्रस्ताव को बहुमत से पारित किया गया। मतदान खत्म होने और परिणाम घोषित होने के बाद, विपक्षी नेताओं ने अपने विजय भाषण दिए। सत्र को सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया। इस अवसर पर पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने कहा कि देश एक नया दिन देख रहा है। उन्होंने सरकार के खिलाफ पार्टियों को एकजुट करने के प्रयासों के लिए सभी संयुक्त विपक्षी नेताओं को धन्यवाद दिया।
दुनिया से और खबरें
शहबाज ने कहा, हम इस नए दिन को देखने की इजाजत देने के लिए अल्लाह को धन्यवाद करते हैं। हम सभी को उनकी कुर्बानियों के लिए धन्यवाद देते हैं, और अब, एक बार फिर, संविधान और कानून पर आधारित पाकिस्तान अस्तित्व में आने वाला है। उम्मीद है कि हमारा गठबंधन देश को प्रगति की ओर ले जाएगा। शहबाज ने कहा कि यह पाकिस्तान में पहली बार हुआ कि देश की बेटियों और बहनों को जेल भेजा गया, लेकिन हम उस अतीत को भूलकर आगे बढ़ना चाहते हैं। समय आने पर, हम इस पर विस्तार से बोलेंगे, लेकिन हम देश के घावों को ठीक करना चाहते हैं, हम निर्दोष लोगों को जेल नहीं भेजेंगे, और हम बदला भी नहीं लेंगे। बस कानून अपना काम करेगा। उसमें सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा।
शहबाज ने कहा, न मैं, न बिलावल, न ही मौलाना फजलुर्रहमान कानून में कोई दखल देंगे। कानून को बरकरार रखा जाएगा और हम अदालत का सम्मान करेंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें