loader

इमरान खान के इसलामाबाद मार्च को लेकर सियासी माहौल गर्म

पाकिस्तान के पूर्व वजीर-ए-आजम इमरान खान की कयादत वाली पीटीआई 25 मई को इसलामाबाद में बड़ा जलसा करने जा रही है। इसे लेकर पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार और पुलिस अलर्ट है और पीटीआई के कार्यकर्ताओं को पकड़ कर घरों में ही बंद किया जा रहा है। लाहौर सहित कई इलाकों से पीटीआई के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी हुई है। 

पीटीआई के नेताओं ने शहबाज शरीफ सरकार को फासीवादी सरकार बताया है।

बता दें कि इमरान खान की हुकूमत के गिरने के बाद से ही पीटीआई पूरे पाकिस्तान में बड़ी-बड़ी रैलियां कर रही है। इन रैलियों में इमरान खान अमेरिका के इशारे पर उनकी हुकूमत को गिराने की साजिश का आरोप लगाते हैं।

ताज़ा ख़बरें

जल्द चुनाव की मांग 

पुलिस ने कहा है कि उसने पीटीआई के कार्यकर्ताओं को इसलामाबाद पहुंचने से रोकने के लिए तमाम जरूरी इंतजाम किए हैं। पीटीआई की मांग है कि देश के अंदर जल्द से जल्द चुनाव कराए जाने चाहिए। 

पीटीआई की कोशिश इस रैली में लाखों कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटाने की है जिससे सरकार पर जल्दी चुनाव के लिए दबाव बनाया जा सके। इस मार्च को आजादी मार्च का नाम दिया गया है।

pti islamabad 25 may march  - Satya Hindi

पीटीआई की रैली के जवाब में पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के नेताओं ने कहा है कि वे बहावलपुर में 28 मई को एक बड़ी रैली करेंगे।

हालात खराब

दूसरी ओर हुकूमत में शामिल राजनीतिक दलों के सामने भी मुश्किलें काफी ज्यादा हैं। डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया लगातार गिर रहा है, महंगाई बढ़ रही है और मुल्क में पिछले 2 महीने के भीतर दहशतगर्दी की कई वारदात हुई हैं। शहबाज शरीफ हुकूमत को आर्थिक मोर्चे पर तमाम चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। 

दुनिया से और खबरें

इसे लेकर इमरान खान ने कहा है कि मौजूदा हुकूमत के पास किसी तरह का कोई रोडमैप नहीं है और वह कोई फैसला नहीं ले सकती।

इमरान खान ने यह भी कहा है कि सेना को पूरी तरह निष्पक्ष रहना चाहिए।

पाकिस्तान का चुनाव आयोग हालांकि मुल्क में जल्दी चुनाव कराने को तैयार नहीं है लेकिन पीटीआई के कार्यकर्ताओं ने सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक जबरदस्त माहौल बना दिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें