loader
शव के साथ प्रदर्शन करते पीड़िता के परिवार के लोग।फ़ोटो क्रेडिट - सोशल मीडिया

बिहार: राहुल बोले- चुनावी फ़ायदे के लिए छुपाया गुलनाज़ का केस

बिहार के हाजीपुर में 20 साल की मुसलिम युवती गुलनाज़ को उसके गांव के कुछ लोगों ने जिंदा जला दिया। 15 दिनों तक मौत से जंग लड़ने के बाद गुलनाज़ ने दम तोड़ दिया। बिहार सरकार की उप मुख्यमंत्री रेणु देवी ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। पीड़िता के बयान के आधार पर दर्ज एफ़आईआर में तीन लोगों का नाम है। मुख्य अभियुक्त चंदन की गिरफ़्तारी हो चुकी है और दो अन्य की तलाश जारी है। इस मामले में पुलिस पर बेहद गंभीर आरोप लग रहे हैं। 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के इस मामले की ख़बर को ट्वीट करने के बाद यह चर्चा में आ गया है। राहुल ने अपने ट्वीट में मामले को छुपाने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है। गुलनाज़ को इंसाफ़ दिलाने के लिए सोशल मीडिया पर भी मुहिम चल रही है। 

अस्पताल में मौत से जूझने के दौरान गुलनाज़ ने अपने बयान में कहा था कि विनय राय का बेटा उससे छेड़छाड़ करता था। गुलनाज़ ने कहा था कि उसके विरोध करने पर विनय राय के बेटे ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर उस पर मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा दी। परिजन उसे हाजीपुर के एक अस्पताल में ले गए, जहां उसी दिन उसका इक़बालिया बयान पुलिस ने दर्ज किया। यह घटना 30 अक्टूबर, 2020 की है। 

हालत बिगड़ने पर अगले दिन परिजन उसे पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल ले गए और यहां भी उसका बयान दर्ज किया गया और पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज की। 15 नवंबर को मौत के बाद जब उसका शव गांव पहुंचा तो लोगों ने जमकर हंगामा किया। 

बिहार से और ख़बरें

परिजनों को मिल रही धमकियां 

परिजनों ने गुलनाज़ का शव रास्ते में रखकर प्रदर्शन किया और अभियुक्तों की गिरफ़्तारी न होने तक शव को दफनाने से इनकार कर दिया। लेकिन पुलिस के कार्रवाई का भरोसा देने के बाद गुलनाज़ के शव को दफ़न कर दिया गया। गांव वालों का आरोप है कि अभियुक्तों की गिरफ़्तारी में देरी की गई और वे पीड़ित परिवार को धमकियां दे रहे हैं। 

गुलनाज़ की बहन ने कहा, ‘17 दिन बाद पुलिस आई है। प्रमोद राय नाम का शख़्स हमें धमकी दे रहा है कि तुमको भी ऐसे ही जला देंगे। अभी क्या हुआ है, अभी तो और भी कुछ होगा।’

पुलिस पर लग रहे गंभीर आरोपों के बीच एक एसएचओ को निलंबित कर दिया गया है। लेकिन देखना होगा कि बिहार में फिर से एनडीए सरकार आने पर सुशासन देने का दावा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार क्या अभियुक्तों को कड़ी सजा दिलाते हैं या नहीं। 

गुलनाज़ ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ा है और बयान में बताया है कि उसके साथ क्या हुआ। वह सुबूत देकर गयी है, देखना होगा कि नीतीश सरकार उसे कब तक इंसाफ़ दिला पाती है। 

हाथरस का मामला 

दो महीने पहले उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित समुदाय से आने वाली एक लड़की के साथ बलात्कार और हैवानियत के बाद उसकी मौत के मामले ने देश भर को हिलाकर रख दिया था। इस मामले में पुलिस ने रात को ही पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार करवा दिया था। 

अदालत की फटकार

इस मामले में योगी सरकार की पुलिस के इस स्टैंड पर कि पीड़िता के साथ दुष्कर्म नहीं हुआ, इसे लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने उसे जोरदार फटकार लगाई थी। अदालत ने पीड़िता के अंतिम संस्कार को लेकर भी पुलिस की तीखी आलोचना की थी। 

बेंच ने उत्तर प्रदेश सरकार से कहा था, ‘जब यह बलात्कार जैसा जघन्य अपराध हो और उसकी जांच चल ही रही हो, जांच पूरी होने से पहले ही कोई अफ़सर कैसे यह निष्कर्ष निकाल सकता है कि बलात्कार हुआ ही नहीं है और वह अफ़सर जो इस जांच से सीधे तौर पर जुड़ा हुआ ही नहीं है?’

पीड़िता के परिवार ने अदालत को बताया था कि जिला प्रशासन ने उनकी इच्छा के विरूद्ध दाह संस्कार कर दिया। जबकि हाथरस जिला प्रशासन ने अदालत से कहा था कि उन्हें जानकारी मिली थी कि अगली सुबह क़ानून और व्यवस्था की बड़ी दिक्कत खड़ी हो सकती है और इसलिए उन्होंने दाह संस्कार रात में ही करने का फ़ैसला किया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें