loader

कोरोना- 'तब्लीग़ी जमात' कॉलम से फैलाया जा रहा इसलामोफ़ोबिया: अल्पसंख्यक आयोग

दिल्ली के अल्पसंख्यक आयोग ने स्वास्थ्य विभाग से कहा है कि कोरोना वायरस पर हर रोज़ जारी किए जाने वाले बुलेटिन में तब्लीग़ी जमात कार्यक्रम का अलग से ज़िक्र नहीं किया जाए। इसने कहा है कि इस तरह के बिना सोच-विचार के उठाए क़दमों से गोदी मीडिया और हिंदुत्व ताक़तों को इसलामोफ़ोबिया एजेंडा चलाने का मौक़ा मिल रहा है।

इस मामले में दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष डॉ. ज़फरुल इसलाम ख़ान ने दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के निदेशक/सचिव को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि कोरोना वायरस के मरीजों के बुलेटिन में मरकज़ मसजिद का अलग से कॉलम दिया गया है और यह बिना सोच-विचार कर किया गया वर्गीकरण है। उन्होंने कहा है कि इसी कारण देश के अलग-अलग हिस्सों में मुसलमानों पर हमले किए जा रहे हैं। उन्होंने उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के हरेवली गाँव में एक मुसलिम युवक के पीटे जाने की ख़बर का ज़िक्र किया है।

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि दिल्ली के बवाना में दिलशाद अली उर्फ महबूब को कोरोना वायरस फैलाने की साज़िश रचने की अफवाह के कारण जमकर पीटा गया था। रिपोर्ट के अनुसार, अली तब्लीग़ी जमात के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भोपाल गए थे और 45 दिन बाद सब्जियों के एक ट्रक में बैठकर दिल्ली वापस आए थे। उनकी मेडिकल जाँच की गई थी और टेस्ट नेगेटिव आने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया था। ख़बरों के मुताबिक़, जब अली अपने गाँव पहुँचे तो यह अफवाह फैल गई कि वह कोरोना वायरस फैलाने के मक़सद से आया है। अफवाह फैलने के बाद बीते रविवार को गाँव के कुछ लोग अली को खेतों में ले गये और उसे जमकर पीटा था।

अल्पसंख्यक आयोग ने अपने पत्र में विश्व स्वास्थ्य संगठन का भी हवाला दिया है। इसने लिखा है, "विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत के लिए इसे अपूर्व घटना क़रार दिया है। डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन कार्यक्रम के निदेशक माइक रयान ने 6 अप्रैल को कहा था, 'देशों को धर्म या किसी अन्य मानदंडों के संदर्भ में कोरोना वायरस के मामलों को नहीं देखना चाहिए।"

दिल्ली से और ख़बरें
अल्पसंख्यक आयोग के इस पत्र से पहले तब्लीग़ी जमात के नाम पर मुसलमानों को बदनाम किए जाने का आरोप भी लगता रहा है। इस मामले में जमीयत उलेमा ए हिंद ने दो दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर आरोप लगाया है कि मीडिया का कुछ हिस्सा तब्लीग़ी जमात के दिल्ली में पिछले महीने हुए कार्यक्रम को लेकर सांप्रदायिक नफ़रत फैला रहा है। इसने कोर्ट से अपील की है कि वह केंद्र सरकार को निर्देश दे कि 'फ़ेक न्यूज़' को फैलने से रोके और इसके व नफ़रत फैलाने के लिए ज़िम्मेदार मीडिया और लोगों पर सख़्त कार्रवाई करे। याचिका में दलील दी गई है कि तब्लीग़ी जमात की दुर्भाग्यपूर्ण घटना का इस्तेमाल पूरे मुसलिम समुदाय पर दोष मढ़ने के लिए और मुसलिमों का 'दानवीकरण' करने के लिए किया जा रहा है। 

तब्लीग़ी जमात के कार्यक्रम से जुड़े बड़ी संख्या में लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि के बाद देश भर में यह सुर्खियों में रहा है। कई ऐसी रिपोर्टें आई हैं जिसमें कहा गया है कि दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव केस आने के बाद बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी लगी होने के बावजूद ऐसा कार्यक्रम किया गया। विदेश से आने वाले लोगों ने क्वरेंटाइन होने के नियमों का पालन नहीं किया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें