loader

जेएनयू मीट विवाद: कॉवेरी हॉस्टल ने कहा- झूठ बोल रही एबीवीपी 

नॉन वेज खाने को लेकर जेएनयू में हुई हिंसा के मामले में कावेरी हॉस्टल की ओर से बयान आया है। कावेरी हॉस्टल की मेस के सचिव ने कहा है कि एबीवीपी के मुताबिक़, 7 दिन पहले यह फैसला हुआ था कि रामनवमी के दिन नॉन वेज खाना नहीं पकाया जाएगा। लेकिन इस तरह का कोई फैसला नहीं लिया गया था। सचिव ने कहा है कि एबीवीपी का यह बयान कि छात्रों ने कहा था कि उन्हें नॉन वेज खाना नहीं चाहिए, यह पूरी तरह झूठ है।

उन्होंने कहा कि मेस के वार्डन ने नॉन वेज खाना नहीं पकाए जाने को लेकर 9 अप्रैल को एक मैसेज भेजा था लेकिन जब हमने लिखित में इसका आदेश मांगा तो दूसरी ओर से कोई जवाब नहीं आया। 

ताज़ा ख़बरें

कावेरी हॉस्टल यूनियन के अध्यक्ष ने भी कहा है कि एबीवीपी रामनवमी के दिन नॉन वेज खाना नहीं पकाये जाने को लेकर झूठ बोल रही है। इस तरह का कोई भी फैसला नहीं लिया गया था। 

उन्होंने कहा कि एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने रविवार शाम को उन लोगों को वार्डन और मेस की सुपरवाइजर से नहीं मिलने दिया और खाना न होने की वजह से कई छात्रों को भूखा रहना पड़ा।  

हॉस्टल के अध्यक्ष ने कहा कि एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने मीट की सप्लाई करने वाले को धमकाया और उनका चिकन वापस भेज दिया। 

उधर, मारपीट के मामले में जेएनयू छात्र संघ ने कहा है कि एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने उन पर रॉड से हमला किया जिसमें छात्र और 2 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए। 

जेएनयू छात्रसंघ की ओर से यह भी कहा गया है कि पुलिस को हिंसा होने की आशंका के बारे में सूचित किया गया था। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

दिल्ली से और खबरें

दूसरी ओर, एबीवीपी ने सोमवार को कहा है कि उनके संगठन को नॉन वेज खाने को लेकर कोई आपत्ति नहीं है और रविवार को कॉलेज के हॉस्टल में रखी गई रामनवमी की पूजा को ना होने देने की साजिश रची गई थी।

जेएनयू में हुई हिंसा में घायल हुए एबीवीपी के सदस्यों की ओर से दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है। शिकायत में कहा गया है कि संगठन के तीन कार्यकर्ताओं पर कावेरी हॉस्पिटल के लॉन से निकलते समय रात को 8 बजे हमला किया गया।

रविवार रात को छात्र संगठनों के बीच हुई इस हिंसक झड़प में 16 छात्र घायल हुए हैं। घायल हुए छात्र जेएनयू छात्र संघ और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के हैं। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें