loader

'झूठी' मीडिया रिपोर्ट पर एमनेस्टी का पलटवार, कहा, पेगासस प्रोजेक्ट पर कायम

ऐसे समय जब पेगासस सॉफ़्टवेअर के ज़रिए ग़ैरक़ानूनी जासूसी का मामला छाया हुआ है, एक सुनियोजित साजिश के तहत यह भ्रम फैलाने की कोशिश की गई कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने जासूसी से इनकार किया है। 

यह अफवाह फैलाई गई कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने पेगासस सॉफ़्टवेअर से संक्रमित फोन की जाँच कराने और उसमें अपनी किसी भूमिका से इनकार किया है।

एक वेबसाइट पर इज़रायली वेबसाइट (Calclist) के हवाले से कहा गया कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने एनएसओ पेगासस स्पाइवेअर सूची से इनकार किया है।

इसके साथ ही एक पत्रकार किम जेटर के हवाले से कहा गया कि एमनेस्टी ने इस सूची से इनकार किया है।

इसी तरह सोशल मीडिया पर भी कुछ लोगों ने दावा किया कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने यू-टर्न ले लिया है। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहना है एमनेस्टी का?

पर एमनेस्टी इंटरनेशनल ने इससे इनकार किया है। उसने कहा है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल इज़रायल ने हिब्रू भाषा में जो बयान जारी किया है, उसका ग़लत अनुवाद पेश किया गया है, जानबूझ कर उसकी ग़लत व्याख्या की गई है। 

एमनेस्टी इंटरनेशल ने कहा है कि वह अपने पहले के बयान पर कायम है। 

उसने एक बयान जारी कर कहा है, "एमनेस्टी इंटरनेशनल पेगासस प्रोजेक्ट के नतीजों पर कायम है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि ये आँकड़े एनएसओ ग्रुप के पेगासस स्पाइवेअर के संभावित टारगेट से जुड़े हुए हैं।"

इस मानवाधिकार संस्था ने इसके आगे कहा है,

जैसा कि हमने पेगासस प्रोजेक्ट से पता लगाया है, ग़ैरक़ानूनी जासूसी से लोगों का ध्यान बंटाने के लिए सोशल मीडिया पर झूठी अफवाह फैलाई गई है।

'द वायर' ने एमनेस्टी इंटरनेशल इज़रायल के प्रवक्ता गिल नावेह से बात की है। नावेह ने साफ कहा है कि हिब्रू बयान को अंग्रेजी में ग़लत ढंग से पेश किया गया है। 

नावेह ने कहा कि सूची में जो नाम हैं, पेगासस के ग्राहकों ने उनमें दिलचस्पी दिखाई है। इस सूची में पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने, राजनेताओं और वकीलों के नाम हैं। 

amnesty international rejects reports on NSO pegasus software - Satya Hindi
एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा है,  "एमनेस्टी और इस जाँच में जुड़े दूसरे पत्रकारों ने शुरू में ही बिल्कुल साफ शब्दों में कह दिया था कि यह सूची वही है, जिसमें एनएसओ की दिलचस्पी थी और जिन्हें जासूसी के लिए निशाने पर लिया गया था।"
पेगासस सॉफ़्टवेअर से जासूसी के मुद्दे पर केद्र सरकार बुरी तरह फंस गई है। क्या है मामला? क्या कहना है वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का?

क्या है पेगासस प्रोजेक्ट?

फ्रांस की ग़ैरसरकारी संस्था 'फ़ोरबिडेन स्टोरीज़' और 'एमनेस्टी इंटरनेशनल' ने लीक हुए दस्तावेज़ का पता लगाया और 'द वायर' और 15 दूसरी समाचार संस्थाओं के साथ साझा किया।

इसका नाम रखा गया पेगासस प्रोजेक्ट। 'द गार्जियन', 'वाशिंगटन पोस्ट', 'ला मोंद' ने 10 देशों के 1,571 टेलीफ़ोन नंबरों के मालिकों का पता लगाया और उनकी छानबीन की। उसमें से कुछ की फ़ोरेंसिक जाँच करने से यह निष्कर्ष निकला कि उनके साथ पेगासस स्पाइवेअर का इस्तेमाल किया गया था।

amnesty international rejects reports on NSO pegasus software - Satya Hindi

प्रोटोकॉल का हवाला

सरकार ने पेगासस प्रोजेक्ट पर कहा है, "सरकारी एजंसियाँ किसी को इंटरसेप्ट करने के लिए तयशुदा प्रोटोकॉल का पालन करती हैं। इसके तहत पहले ही संबंधित अधिकारी से अनुमति लेनी होती है, पूरी प्रक्रिया की निगरानी रखी जाती है और यह सिर्फ राष्ट्र हित में किया जाता है।"

सरकार ने ज़ोर देकर कहा कि इसने किसी तरह का अनधिकृत इंटरसेप्शन नहीं किया है।

लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि पेगासस स्पाइवेअर हैकिंग करता है और सूचना प्रौद्योगिकी क़ानून 2000 के अनुसार, हैकिंग अनधिकृत इंटरसेप्शन की श्रेणी में ही आएगा। 

सरकार ने अपने जवाब में यह भी कहा है कि ये बातें बेबुनियाद हैं और निष्कर्ष पहले से ही निकाल लिए गए हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें