loader

हिन्दू तुष्टिकरणः पुरोहित कल्याण बोर्ड को योगी की हरी झंडी

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ  योगी ने बुधवार को पुरोहित कल्याण बोर्ड के गठन को मंजूरी दे दी। योगी अपने सारे चुनावी वादों को पूरा करने में जुट गए हैं। हालांकि तमाम फैसले हिन्दू तुष्टिकरण के मद्देनजर हैं। इसे 2024 के आम चुनाव की तैयारी का हिस्सा भी बताया जा रहा है।  योगी ने बुधवार को पुरोहित कल्याण बोर्ड के संबंध में  कहा कि इसके जरिए बुजुर्ग साधुओं का ध्यान रखा जाएगा। योगी ने हाल ही में कुछ ऐसे फैसले लिए हैं, जिनसे उनकी पुरानी छवि के विपरीत माना जा रहा है।

योगी का बुधवार को लिया गया यह फैसला इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि योगी गोरखपुर स्थित गोरखनाथ मंदिर के मुख्य पुजारी रहे हैं। अभी भी वह सप्ताह में एक बार कम से कम इस मंदिर में जाते हैं। गोरखनाथ मठ के बहुत सारे मंदिर हैं। 

योगी ने यूपी चुनाव 2022 का का प्रचार करते हुए रायबरेली में सबसे पहले ऐसे बोर्ड के गठन का वादा किया था। रायबरेली में चुनावी सभा फरवरी में हुई थी। उसमे योगी ने वादा किया कि अगर बीजेपी फिर से सत्ता में आती है तो पुरोहितों, साधुओं के कल्याण और संस्कृत पढ़ने वाले छात्रों के लिए विशेष छात्रवृत्ति के लिए राज्य में पुरोहित कल्याण बोर्ड शुरू किया जाएगा।

ताजा ख़बरें

रायबरेली में एक जनसभा में योगी ने कहा था, हमने पुरोहित कल्याण बोर्ड (पुजारी कल्याण बोर्ड) का गठन करने का फैसला किया है। सभी संस्कृत छात्रों को विशेष छात्रवृत्ति मिलेगी। कांग्रेस को फटकार लगाते हुए योगी ने कहा था कि वे लोग संस्कृति के बारे में कुछ भी नहीं जानते। हमें हिंदू होने पर गर्व होना चाहिए।

बहरहाल, कैबिनट मीटिंग के दौरान बुधवार को संस्कृति और पर्यटन मंत्रालय ने पुरोहित कल्याण बोर्ड का प्रेजेंटेशन दिया। इसके तहत यूपी के सभी 75 जिलों में पर्यटन एवं संस्कृति परिषद का गठन होगा। पुरोहित कल्याण बोर्ड इसी के तहत काम करेगा। इसके जरिए बुजुर्ग साधुओं, महंतों, बाबाओं, संतों आदि का ध्यान रखा जाएगा। राज्य सरकार इसके लिए फंड देगी। यह बोर्ड सभी मंदिरों की एकीकृत मंदिर सूचना सिस्टम भी विकसित करेगा। जिसमें हर मंदिर का नक्शा, उसका रूट मैप आदि होगा।

देश से और खबरें

नए बोर्ड में यूपी के सभी धार्मिक शहरों में मंदिरों के आसपास सड़क निर्माण आदि पर खासतौर से काम किया जाएगा। जैसे अयोध्या में हनुमानगढ़ी के आसपास की सड़क को ठीक किया जाएगा। अयोध्या सर्किट के अलावा कृष्ण सर्किट, बुद्ध सर्किट, महाभारत सर्किट, बुंदेलखंड सर्किट आदि में तमाम ऐसे काम किए जाएंगे।

संस्कृत भाषा को भी बढ़ावा देने का फैसला किया गया है। संस्कृत पढ़ने वाले हर छात्र को स्कॉलरशिप मिलेगी। 

योगी इधर ऐसे फैसले ले रहे हैं, जिससे बहुसंख्यक समुदाय में उनकी लोकप्रियता में इजाफा हो रहा है। एक दिन पहले उन्होंने आदेश दिया था कि यूपी में कोई भी धार्मिक जुलूस अब बिना अनुमति नहीं निकल सकेगा। आयोजकों को हलफनामा देना होगा। इसी तरह लाउडस्पीकर की आवाज धीमी करने का निर्देश दिया था। इन दोनों फैसलों का लोगों ने स्वागत किया था। 

 

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें