loader

उदयपुर मर्डर: पाकिस्तानी शख्स ने कहा था- कुछ ‘बड़ा’ करो

उदयपुर में दर्जी कन्हैया लाल की हत्या को लेकर जांच एजेंसी एनआईए ने बड़ा खुलासा किया है। एनआईए ने कहा है कि पाकिस्तान में बैठे सलमान भाई नाम के शख्स ने मोहम्मद गौस और मोहम्मद रियाज को भड़काया था। सलमान भाई ने मोहम्मद गौस से कहा था कि उन्हें कुछ बड़ा करना चाहिए। 

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सलमान भाई ने इन दोनों से कहा था कि पैगंबर मोहम्मद साहब पर टिप्पणी को लेकर किए जा रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शनों से कोई नतीजा नहीं निकलेगा।

बीजेपी नेता नूपुर शर्मा की टिप्पणी के बाद हुए प्रदर्शनों में मोहम्मद गौस और रियाज शामिल हुए थे।

ताज़ा ख़बरें

कराची गया था गौस

मोहम्मद गौस साल 2014 में पाकिस्तान गया था और वहां उसने दावत-ए-इस्लामी नाम के कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन की ओर से आयोजित 45 दिन के कार्यक्रम में भाग लिया था। वहां से लौटने के बाद वह कुछ वॉट्सएप ग्रुप के जरिए सलमान भाई और अबू इब्राहिम नाम के शख्स के संपर्क में था।

10 से 11 लोगों की पहचान 

बता दें कि गृह मंत्रालय और एक स्थानीय अदालत के आदेश के बाद उदयपुर के हत्याकांड की जांच एनआईए कर रही है। एनआईए को शुरुआती जांच में पता चला है कि गौस और रियाज ने 10 से 15 जून के बीच हमले की योजना बना ली थी। इन दोनों ने पूछताछ में एनआईए को बताया कि धानमंडी इलाके में बबला भाई नाम के एक शख्स ने पैगंबर मोहम्मद साहब पर टिप्पणी करने के लिए 10 से 11 लोगों की पहचान की थी और अलग-अलग समूहों को इन लोगों पर हमलों की जिम्मेदारी दी गई थी।

Kanhaiya Lal Tailor Udaipur murder Mohammad Ghouse and Muhammad Riyaz - Satya Hindi

एनआईए को यह भी पता चला है कि कन्हैया लाल की हत्या से दो-तीन हफ्ते पहले मुसलिमों के स्थानीय वॉट्सएप ग्रुप में कुछ लोगों की फोटो को वायरल किया गया था। इसमें कन्हैया लाल की भी फोटो और उससे जुड़ी जानकारी शामिल थी।

गौस और रियाज ने कन्हैया लाल की हत्या की योजना बनाई थी और बीच में जब कुछ दिन कन्हैया लाल की दुकान बंद थी तो इस दौरान कुछ स्थानीय युवाओं ने कन्हैयालाल से जुड़ी सूचना इन तक पहुंचाई थी। 

वसीम और मोहसिन खान नाम के दो लोगों ने कन्हैया लाल की हत्या से पहले उसकी दुकान की रेकी की थी। मोहसिन और आसिफ हुसैन नाम के शख्स को इस मामले में शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया है।

…काम हो चुका है 

हत्या वाले दिन गौस और रियाज अलग-अलग वाहनों से कन्हैया लाल की दुकान के पास की बाजार में आए थे और इन्हें मोहसिन की दुकान के नजदीक खड़ा किया था। गौस ने मोहसिन को बताया था कि वह उसके स्कूटर पर नजर रखे और अगर वह लोग वापस नहीं आते हैं तो इसका मतलब यह होगा कि काम हो चुका है। 

देश से और खबरें

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, गौस और मोहम्मद रियाज हत्या को अंजाम देने के बाद शोएब भाई नाम के शख्स के दफ्तर पहुंचे और यहां उन्होंने एक दूसरा वीडियो रिकॉर्ड किया जिसमें उन्होंने हत्या की जिम्मेदारी भी ली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी हत्या की धमकी दी और इसे कई वॉट्सएप ग्रुप में वायरल किया। इसके बाद मोहम्मद गौस ने अपना मोबाइल फोन स्विच ऑफ कर लिया और दोनों किसी वर्कशॉप में गए और वहां उन्होंने कपड़े बदले। 

इसके बाद उन्होंने अजमेर शरीफ जाने की योजना बनाई और एक कार का इंतजाम करने की कोशिश की लेकिन कार न मिलने के बाद वे मोटरसाइकिल से ही निकल गए। 

पुलिस उन्हें खोज रही थी और राजसमंद के भीम में दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें