loader
फोटो साभार: न्यूज़पोर्ट इंस्टीट्यूट

जानिए, किस धर्म में हैं औसत रूप से ज़्यादा सेक्सुअल पार्टनर

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण यानी एनएफएचएस ने कम कंडोम का उपयोग, एचआईवी, एड्स के जोखिम जैसे स्वास्थ्य मुद्दों को लेकर सेक्सुअल पार्टनर पर सर्वे किया है। इस सर्वे में कई चौंकाने वाले आँकड़े आए हैं। कई जगहों पर शहरों से ज़्यादा गांवों में सेक्सुअल पार्टनर हैं तो कई राज्यों में पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं के सेक्सुअल पार्टनर ज़्यादा हैं। इसी में धर्म के आधार पर जो आँकड़े सामने आए हैं उससे कई तरह की ग़लतफहमियाँ दूर होती हैं।

एनएफ़एचएस के सर्वे में कहा गया है कि हिंदू पुरुषों के जीवनकाल में सबसे अधिक (2.2) सेक्सुअल पार्टनर थे। उसके बाद सिख और ईसाई में। सबसे कम जैन धर्म में। तो सवाल है कि मुसलिमों में सेक्सुअल पार्टनर को लेकर कैसी स्थिति है जिन पर अक्सर बहु-विवाह को लेकर निशाना साधा जाता है?

ताज़ा ख़बरें

एनएचएफ़एस के आँकड़ों के अनुसार पूरी ज़िंदगी में हिंदू महिलाओं के सेक्सुअल पार्टनर 1.8 हैं जबकि पुरुषों के 2.2 सेक्सुअल पार्टनर हैं। टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार, सिख महिलाओं के 1.7, पुरुषों के 1.9; ईसाई महिलाओं के 1.4, पुरुषों के 1.9; मुसलिम महिलाओं के 1.4, पुरुषों के 1.7, बौद्ध महिलाओं के 1.0, पुरुषों के 1.7 और जैन महिलाओं के 1.4 और पुरुषों के 1.1 सेक्सुअल पार्टनर रहे। 

हिंदुओं में भी ओबीसी जाति, अनुसूचित जाति व जनजाति का अलग-अलग आँकड़ा सामने आया है। टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार अनुसूचित जनजाति में महिलाओं के 1.9 और पुरुषों के 2.4 सेक्सुअल पार्टनर हैं, जबकि ओबीसी महिलाओं के 1.8 व पुरुषों के 2.2 और अनुसूचित जाति महिलाओं के 1.8 और पुरुषों के 2.1 हैं। 

nfhs data on sexual partner on religion basis - Satya Hindi
सोर्स: एनएफ़एचएस

ये आँकड़े एनएफएचएस के माध्यम से 2019-21 में जुटाए गए। दो लाख से ज़्यादा महिलाओं और पुरुषों की प्रतिक्रिया के आधार पर इस आँकड़े को तैयार किया गया है।

भले ही गांवों में लोगों को और ख़ासकर महिलाओं को रूढ़िवादी माना जाता है, लेकिन सेक्सुअल पार्टनर यानी यौन साथी के मामले में कई राज्यों में ग्रामीण क्षेत्र शहरों से कहीं आगे हैं।

पूरे देश की बात की जाए तो काफी ज़्यादा रूढ़िवादी माने जाने वाले राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में तो स्थिति चौंकाने वाली है।

एनएफ़एचएस के आँकड़े में कहा गया है कि शहरी महिलाओं के सेक्सुअल पार्टनर (1.5) की तुलना में ग्रामीण महिलाओं के अपने जीवनकाल में औसतन 1.8 से अधिक सेक्सुअल पार्टनर थे। इसका मतलब है कि ग्रामीण क्षेत्रों में औसत रूप से महिलाओं के दो पुरुष पार्टनर थे। ग्रामीण क्षेत्रों में पुरुषों के सेक्सुअल पार्टनर भी क़रीब इतने ही थे। 

देश से और ख़बरें

एनएफ़एचएस के आँकड़ों के अनुसार, दिल्ली में महिलाएँ जहाँ अपने जीवनकाल में 1.1 और गोवा में 1.0 सेक्सुअल पार्टनर रखती हैं वहीं, रूढ़िवादी व ग्रामीण क्षेत्र वाले राज्य राजस्थान में महिलाएँ 3.1 सेक्सुअल पार्टनर रखती हैं। इसका मतलब है कि दिल्ली में जहाँ एक महिला औसत रूप से एक से कुछ ज़्यादा सेक्सुअल पार्टनर रखती है वहीं राजस्थान में तीन से कुछ ज़्यादा। इसी तरह मध्य प्रदेश में महिलाएँ 2.5, उत्तर प्रदेश में 2.2, तमिलनाडु में 2.4, असम में 2.1, हरियाणा में 1.8 सेक्सुअल पार्टनर रखती हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें