loader

प्रसार भारती ने क्यों ख़त्म किया पीटीआई और यूएनआई का सब्सक्रिप्शन?

जिस बात की आशंका पिछले कुछ वक़्त से जताई जा रही थी, वैसा ही हुआ है। गुरूवार को हुई प्रसार भारती बोर्ड की बैठक में फैसला लिया गया है कि पीटीआई और यूएनआई के सब्सक्रिप्शन को समाप्त कर दिया जाए। लेकिन इसके पीछे क्या कारण है। आख़िर क्यों देश की सबसे बड़ी न्यूज़ एजेंसियों की सेवा की ज़रूरत अब प्रसार भारती को नहीं है। 

प्रसार भारती ने अपनी सफाई में कहा है कि यह फ़ैसला आर्थिक कारणों को ध्यान में रखते हुए लिया गया है। प्रसार भारती के अफ़सरों ने इस फ़ैसले का पीटीआई की कवरेज से किसी भी तरह का संबंध होने से इनकार किया है और कहा है कि वह न्यूज़ एजेंसियों से नए प्रस्ताव मंगाएगा। अफ़सरों ने यह भी कहा है कि पीटीआई और यूएनआई फिर से आवेदन करने के लिए आज़ाद होंगे। 

एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया ने प्रसार भारती बोर्ड के इस फ़ैसले पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि सरकार और उनकी एजेंसियों ने मीडिया से बदला लेने की नीयत से यह काम किया है। 

ताज़ा ख़बरें

पीटीआई राष्ट्र विरोधी?

पीटीआई का सब्सक्रिप्शन ख़त्म करने को लेकर तमाम तरह की आशंकाएं तब उठी थीं जब इस साल जून महीने में प्रसार भारती ने पीटीआई को राष्ट्र विरोधी बताया था। चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने पीटीआई को दिए इंटव्यू में कहा था कि चीन तनाव कम करने और इलाक़े को खाली करने में अपनी ज़िम्मेदारी समझेगा और एलएसी में अपनी ओर को पीछे हट जाएगा। 

इस पर प्रसार भारती ने एक अफ़सर ने कहा था, 'पीटीआई की राष्ट्र विरोधी रिपोर्टिंग की वजह से यह स्वीकार्य नहीं है कि उसके साथ संबंध बरक़रार रखा जाए। पीटीआई के व्यवहार की वजह से प्रसार भारती उसके साथ संबंध पर पुनर्विचार कर रहा है। उसे जल्द ही अंतिम फ़ैसले की जानकारी दे दी जाएगी।'

ऐसा इसलिए हुआ था क्योंकि विक्रम मिस्री का बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान के उलट था जिसमें उन्होंने कहा था कि 'भारत की सीमा के अंदर न कोई घुसा है न ही घुस कर बैठा हुआ है।'

प्रसार भारती की धमकी

तब प्रसार भारती ने पीटीआई को धमकाया था कि सरकार उसे जो 9.15 करोड़ रुपये की वार्षिक फ़ीस देती है, उसे वह बंद कर सकती है। यह राशि पीटीआई को विभिन्न सरकारी संस्थान जैसे आकाशवाणी, दूरदर्शन, विभिन्न मंत्रालय, हमारे दूतावास आदि, जो उसकी समाचार सेवाएं लेते हैं, वे देते हैं। 
देश से और ख़बरें

शिकंजा कसने की कोशिश

'द वायर' की एक ख़बर के मुताबिक़, 2016 में तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पीटीआई के निदेशक मंडल में अपने तीन चहेते पत्रकारों को बैठाना चाहा था। उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के मौजूदा प्रेस सचिव अशोक मलिक, हिन्दुस्तान टाइम्स के शिशिर गुप्ता और फाइनेंशियल क्रॉनिकल्स के के. ए. बदरीनाथ की नियुक्ति की कोशिश की थी। लेकिन पीटीआई के निदेशक मंडल ने ऐसी कोशिशों को पूरा नहीं होने दिया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें