loader

हिन्दुत्व और फासिज्म पर सवाल से यूजीसी को मिर्च लगी, मांगी रिपोर्ट

हिन्दुत्व और फासिज्म की समानताओं पर सवाल पूछे जाने से विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को इतनी मिर्च लगी कि उसने उस यूनिवर्सिटी से उसके द्वारा पूछे गए कथित "आपत्तिजनक" सवाल के बारे में रिपोर्ट मांग ली है। यह सवाल ग्रेटर नोएडा स्थित शारदा यूनिवर्सिटी की परीक्षा में पूछा गया था।शारदा यूनिवर्सिटी में बीए प्रथम वर्ष के पेपर में राजनीति विज्ञान (ऑनर्स) के छात्रों से "हिंदुत्व और फासीवाद" की समानताओं के बारे में पूछा गया था। सात मार्क्स के सवाल में लिखा है, “क्या आप फासीवाद/नाज़ीवाद और हिंदू दक्षिणपंथी (हिंदुत्व) के बीच कोई समानता पाते हैं? तर्कों के साथ विस्तार से जवाब दें।
ताजा ख़बरें
प्रश्नपत्र सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल होने के बाद, यूनिवर्सिटी ने इस मुद्दे पर जांच के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया। यूजीसी ने ग्रेटर नोएडा स्थित इस प्राइवेट यूनिवर्सिटी को विस्तृत कार्रवाई रिपोर्ट में यह बताने के लिए कहा है कि भविष्य में ऐसी घटनाएं न हों, यह सुनिश्चित करने के लिए उसने क्या कदम उठाए हैं। यूजीसी ने कहा कि यह देखा गया है कि छात्रों ने इस सवाल पर आपत्ति जताई और विश्वविद्यालय में शिकायत दर्ज की। कहने की जरूरत नहीं है कि छात्रों से इस तरह का सवाल पूछना हमारे देश की भावना और लोकाचार के खिलाफ है, जो एकरूपता के लिए जाना जाता है और इस तरह के सवाल नहीं पूछे गए हैं।

UGC felt bad about Hindutva and fascism, sought report - Satya Hindi
शारदा यूनिवर्सिटी का वो प्रश्नपत्र, जिसमें सवाल पूछा गया था

शनिवार को जारी एक बयान में, इसने कहा कि समिति ने प्रश्न को आपत्तिजनक पाया है और मूल्यांकन के उद्देश्य से मूल्यांकनकर्ताओं द्वारा इसे अनदेखा किया जा सकता है। विश्वविद्यालय ने प्रश्न पत्र सेट करने वाले टीचर को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है। हालांकि सोशल मीडिया पर इसे लेकर जबरदस्त प्रतिक्रिया हुई है। लोगों ने कहा कि इस सवाल के पूछने में क्या बुराई है। सवाल सेट करने वाले टीचर की इसमें क्या गलती है, उसने हालात के मद्देनजर इस सवाल को पूछा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें