loader

ईडी: फ़ारूक़ अब्दुल्ला की 12 करोड़ की संपत्तियां जब्त

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फ़ारूक़ अब्दुल्ला के ख़िलाफ़ बड़ी कार्रवाई की है। सूत्रों के मुताबिक़, ईडी ने जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन (जेकेसीए) में मनी लॉन्डिन्ग के मामले में फ़ारूक़ अब्दुल्ला की लगभग 12 करोड़ रुपये की संपत्तियों को जब्त कर लिया है। जांच एजेंसी लंबे वक़्त से जेकेसीए में वित्तीय अपराधों के आरोपों को लेकर जांच कर रही थी। 

एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि ईडी ने इससे पहले मनी लॉन्डिन्ग एक्ट के तहत फ़ारूक़ अब्दुल्ला की संपत्तियों को जब्त करने के लिए आदेश भी जारी किया। ये संपत्तियां जम्मू और श्रीनगर के इलाक़े में हैं। इन संपत्तियों में दो रिहायशी और एक कॉर्मिशयल प्रॉपर्टी है और तीन प्लॉट हैं। इनकी नेट वेल्यू 11.86 करोड़ है जबकि बाज़ार में इनकी क़ीमत 60-70 करोड़ बताई गई है। 

इस मामले में फ़ारूक़ अब्दुल्ला से अक्टूबर में पहले भी दो बार पूछताछ की जा चुकी है। 

ताज़ा ख़बरें

नेशनल कॉन्फ्रेन्स का पलटवार

नेशनल कॉन्फ्रेन्स ने अपने नेता के ख़िलाफ़ हुई इस कार्रवाई को लेकर पलटवार किया है। पार्टी ने कहा है कि ईडी की ओर से यह पत्र तब आया है जब नेशनल कॉन्फ्रेन्स ने कुछ अन्य दलों के साथ मिलकर गुपकार गठबंधन बनाने की घोषणा की। नेशनल कॉन्फ्रेन्स ने कहा है कि कश्मीर में बने गुपकार गठबंधन के बाद की गई यह कार्रवाई पूरी तरह राजनीतिक बदले की भावना से की गई है। 

पार्टी ने कहा है कि केंद्र की बीजेपी सरकार इस गठबंधन से लड़ने के लिए अपनी एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है क्योंकि वह राजनीतिक रूप से हमसे नहीं लड़ पा रही है। 

पार्टी ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा है कि जो भी बीजेपी की विचारधारा और इसकी बांटने वाली राजनीति का विरोध करेगा, उसे इसकी क़ीमत चुकानी पड़ेगी। 

बता दें कि पीपल्स अलायंस फ़ॉर गुपकार डेक्लेरेशन राजनीतिक दलों का संगठन है जो जम्मू-कश्मीर में 5 अगस्त, 2019 से पहले की स्थिति की बहाली के लिए बनाया गया है। इसके प्रमुख फ़ारूक़ अब्दुल्ला हैं। इसमें पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेन्स, जम्मू-कश्मीर पीपल्स कॉन्फ्रेन्स, आवामी नेशनल कॉन्फ्रेन्स और सीपीआईएम शामिल हैं। इस गठबंधन ने राज्य में डीडीसी के चुनाव में मिलकर ताल ठोकी है। 

Farooq Abdullah Assets Seized by ED - Satya Hindi

बीजेपी ने बताया था गुपकार गैंग

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पिछले महीने गुपकार गैंग पर हमला बोला था और कहा था कि कांग्रेस और गुपकार गैंग जम्मू-कश्मीर को आतंकवाद और उथल-पुथल वाले दौर में वापस ले जाना चाहता है। शाह ने कहा था कि गुपकार गैंग ग्लोबल होता जा रहा है और ये लोग चाहते हैं कि विदेशी ताक़तें जम्मू-कश्मीर में दख़ल दें। 

शाह ने कांग्रेस से पूछा था कि क्या वे गुपकार गैंग के क़दमों का समर्थन करते हैं, उन्हें भारत के लोगों के सामने इस मुद्दे पर अपना स्टैंड साफ करना चाहिए। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

इस पर कांग्रेस ने कहा था कि वह इस गठबंधन में शामिल नहीं है। पार्टी ने पूछा था कि जिस पीडीपी की अमित शाह आलोचना कर रहे हैं, उसके साथ मिलकर उसने जम्मू-कश्मीर में सरकार क्यों बनाई थी।

शाह को पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी जवाब देते हुए कहा था, ‘अमित शाह जी, हम कोई गैंग नहीं हैं। हम एक क़ानूनी रूप से वैध राजनीतिक गठबंधन हैं और चुनाव लड़ना जारी रखेंगे।’ महबूबा और उमर ने अमित शाह से पूछा था कि चुनाव लड़ना कब से एंटी नेशनल हो गया है। महबूबा ने कहा था, ‘बीजेपी सत्ता की भूख के लिए मर्जी जितने गठबंधन बना सकती है लेकिन हमारे यूनाइटेड फ़्रंट बनाने से न जाने किस तरह राष्ट्रीय हित कमजोर हो रहे हैं।’

बता दें कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद फ़ारूक़ अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती को लंबे वक़्त तक राजनीतिक हिरासत में रखा गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें