loader

कौन हैं आनंद दिघे जिनका नाम बाला साहेब के साथ लिया एकनाथ शिंदे ने

शिवसेना में पहली बार ऐसा देखने को मिला जब किसी नेता ने बाला साहेब ठाकरे के साथ किसी और नेता का नाम भी लिया। अमूमन शिवसैनिक बाला साहेब ठाकरे को ही हिंदुत्व का योद्धा बताते रहे हैं। लेकिन महाराष्ट्र में सियासी संकट खड़ा करने वाले एकनाथ शिंदे ने बाला साहेब ठाकरे के साथ आनंद दिघे का भी नाम लिया है। 

इसलिए यह सवाल जरूर खड़ा होता है कि आखिर आनंद दिघे कौन हैं। क्या वह शिवसेना की सियासत में इतने बड़े नाम थे कि एकनाथ शिंदे ने उनका नाम बाला साहेब ठाकरे के साथ लिया।

ताज़ा ख़बरें
आनंद दिघे ठाणे-कल्याण के इलाके के ताकतवर शिवसैनिक थे। दिघे ठाणे-कल्याण के इलाके में अपना दरबार लगाते थे और लोगों की समस्याओं को सुलझाते थे। शिवसैनिक आज भी उन्हें पूरी श्रद्धा के साथ याद करते हैं। वह इस इलाके में समानांतर अदालत चलाते थे और जो वह कहते थे, उनकी बात सभी मानते थे। 
ठाणे में दिघे का इतना वर्चस्व था कि बाला साहेब ठाकरे भी उन पर लगाम नहीं लगा सके। इसे ध्यान में रखते हुए ही शिवसेना ने 2001 में आनंद दिघे की मौत के बाद एकनाथ शिंदे को ठाणे-कल्याण के इलाके में कभी भी फ्री हैंड नहीं दिया।

शिंदे को बढ़ाया आगे

आनंद दिघे ने ही एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र की सियासत में आगे बढ़ाया। दिघे ने शिंदे को 1997 में ठाणे नगर निगम में पार्षद बनवाया और फिर नगर निगम में सदन का नेता भी बनाया। 2001 में आनंद दिघे की मौत के बाद शिंदे ने ठाणे-कल्याण में उनकी जगह पर शिवसेना को मजबूत करने का काम शुरू किया।

Anand dighe eknath shinde thane loksabha - Satya Hindi

किनारे लगाने की कोशिश

शिवसेना की सियासत को जानने वाले लोग यह भी कहते हैं कि ठाकरे परिवार आनंद दिघे की मौत के बाद एकनाथ शिंदे के पार्टी में दबदबे को लेकर घबराहट महसूस करता था और उनका कद कम करने की कोशिश की जा रही थी। शिंदे के समर्थकों का कहना है कि शिंदे के मंत्रालय में हस्तक्षेप किया जाता था और उन्हें शिवसेना में किनारे लगाने की कोशिश की गई। उनके समर्थकों का यह भी कहना है कि पार्टी के बड़े फैसलों में भी एकनाथ शिंदे की राय नहीं ली जाती थी। 

एकनाथ शिंदे को शिवसेना का संकटमोचक कहा जाता है और जब तक बाला साहेब ठाकरे जीवित रहे तब तक महाराष्ट्र में तमाम बड़े फैसलों में वह शिंदे की राय लेते थे। 

Anand dighe eknath shinde thane loksabha - Satya Hindi

महाराष्ट्र का भावी मुख्यमंत्री

ठाणे इलाके के शिवसैनिक बीते कुछ सालों में कई बार एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का भावी मुख्यमंत्री बताने  वाले पोस्टर भी लगा चुके हैं। कहा जाता है कि इसे लेकर ठाकरे परिवार में काफी नाराजगी थी।

मराठी फिल्म धर्मवीर 

मई के महीने में आनंद दिघे पर धर्मवीर नाम की एक मराठी फिल्म बनी थी। आनंद दिघे की मौत के बाद कई तरह की चर्चाएं हुई थीं और इन पर आज तक विराम नहीं लग सका है। उनकी मौत के पीछे असली वजह क्या है यह आज तक सामने नहीं आई है। 

धर्मवीर को पूरे राज्य में अच्छा-खासा रिस्पांस मिला था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपनी पत्नी रश्मि के साथ इस फिल्म को देखा था और इस दौरान एकनाथ शिंदे और उनके सांसद बेटे श्रीकांत शिंदे भी मौजूद रहे थे।

लेकिन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फिल्म के अंतिम 10 मिनट नहीं देखे थे क्योंकि उसमें आनंद दिघे की मौत कैसे हुई, यह दिखाया गया था। दिघे को एक दुर्घटना के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था और जब वह इससे उबर रहे थे तो कहा जाता है कि उन्हें हार्ट अटैक आ गया था। 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा था कि उन्होंने फिल्म के अंतिम 10 मिनट इस वजह से नहीं देखे क्योंकि दिघे की मौत शिवसेना के परिवार के लिए बड़ा झटका था। ठाकरे ने कहा था कि उन्होंने दिघे की मौत के बाद बाला साहेब ठाकरे को बेहद परेशान होते हुए देखा था। हालांकि उन्होंने फिल्म की तारीफ की थी और कहा था कि इसमें आनंद दिघे के जीवन को बेहतर ढंग से दिखाया गया है।

महाराष्ट्र से और खबरें

नारायण राणे का ट्वीट 

एक वक्त में शिवसेना के दिग्गज नेता रहे और वर्तमान में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने शिंदे की बगावत के बाद एकनाथ शिंदे को बधाई दी और कहा था कि उन्होंने सही समय पर सही फैसला लिया है वरना वह भी जल्द ही आनंद दिघे होते। 

साल 2000 में हुए हादसे में जब एकनाथ शिंदे के दोनों बच्चों की मौत हो गई थी तब आनंद दिघे ने ही एकनाथ शिंदे को सहारा दिया था और उन्हें राजनीति में खड़ा किया था। इस बात को एकनाथ शिंदे कई बार कह चुके हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें