loader
फ़ोटो क्रेडिट- आज तक

काज़ी बोले- मैंने कराया था समीर वानखेड़े का निकाह, वह मुसलिम थे

मुंबई क्रूज़ ड्रग्स मामले की जांच कर रहे एनसीबी के अफ़सर समीर वानखेड़े बड़ी मुसीबतों में फंसते दिखाई दे रहे हैं। एक ओर उनके ख़िलाफ़ महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने मोर्चा खोला हुआ है, वहीं दूसरी ओर मीडिया चैनलों पर भी उनसे जुड़ी तमाम ख़बरें आ रही हैं। 

ख़बरिया चैनल ‘आज तक’ के मुताबिक़, उसने उन काज़ी साहब को खोज निकाला है, जिन्होंने समीर वानखेड़े का निकाह कराया था। काज़ी ने जो बातें समीर वानखेड़े को लेकर बताई हैं, वे साफ करती हैं कि वानखेड़े ज़रूर बहुत कुछ छिपा रहे हैं। 

बता दें कि नवाब मलिक ने बुधवार सुबह एक निकाहनामा ट्वीट किया था। मलिक ने लिखा था कि यह समीर दाऊद वानखेड़े और शबाना क़ुरैशी का निकाहनामा है और यह समीर की पहली शादी थी। 

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, काज़ी का नाम मुजम्मिल अहमद है। उन्होंने ‘आज तक’ के साथ बातचीत में कहा कि यह निकाहनामा पूरी तरह सही है और उस वक़्त समीर वानखेड़े, शबाना, समीर के माता-पिता और पूरा खानदान मुसलमान था। 

काज़ी मुजम्मिल अहमद ने कहा कि अगर ये पता होता कि समीर हिंदू हैं तो हमारी शरीयत में निकाह ही नहीं होता और काज़ी शरीयत के ख़िलाफ़ निकाह नहीं पढ़ाता। 

काज़ी ने जोर देकर कहा कि आज वे जो कुछ भी कहें लेकिन उस वक़्त में समीर वानखेड़े और शबाना मुसलमान थे। उन्होंने कहा कि लोखंडवाला में 2006 में यह शादी बहुत धूमधाम से हुई थी और इसमें लगभग 2 हजार लोग शामिल रहे होंगे। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

काज़ी ने ‘आज तक’ से कहा कि पूरे इसलामिक तौर-तरीके से यह शादी हुई थी। शादी में गवाह से लेकर सभी लोग मुसलमान थे। 

काज़ी के दावों में कितना दम है, इसकी जांच भी हो सकती है। लेकिन काज़ी के सामने आने के बाद समीर वानखेड़े, उनके पिता ज्ञानदेव वानखेड़े भी मुश्किलों में फंस सकते हैं। ज्ञानदेव वानखेड़े भी 35 साल तक मुंबई पुलिस की नौकरी कर चुके हैं। 

शाहरूख़ ख़ान के बेटे का नाम क्रूज़ ड्रग्स मामले में आने के बाद हाई प्रोफ़ाइल हुआ यह मामला अब बहुत आगे बढ़ता दिख रहा है। कुछ राजनीतिक जानकार इसे महाराष्ट्र सरकार बनाम केंद्रीय एजेंसियों की सीधी लड़ाई के रूप में भी देख रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें