loader

महाराष्ट्र में सोमवार से रात का कर्फ़्यू, दिन में धारा 144

तेज़ी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए महाराष्ट्र में रात का कर्फ़्यू लगाने का फ़ैसला किया गया है। रात 8 बजे से सुबह के 7 बजे तक कर्फ़्यू लगा रहेगा। इसके अलावा दिन में धारा 144 लग जाएगी, जिसके तहत एक जगह एक समय पाँच से ज़्यादा लोग एकत्रित नहीं हो सकते। ये फ़ैसले सोमवार से लागू होंगे। इसके अलावा सप्ताहांत पर भी लॉकडाउन लग जाएगा। मुख्यमंत्री उद्ध ठाकरे की अध्यक्षता में रविवार को हुई कैबिनेट बैठक में ये फ़ैसले लिए गए। 

बार-रेस्तरां बंद रहेंगे

रविवार को मुंबई में हुई कैबिनेट बैठक में फ़ैसला किया गया कि मॉल, रेस्तरां और बार बगैरह एक बार फिर बंद कर दिए जाएंगे। हालांकि लोग इन जगहों से खाने-पीने की चीजें खरीद कर ले जा सकेंगे। इसके साथ ही अति आवश्यक सेवाएँ चालू रहेंगी। सरकारी दफ़्तर 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ काम करेंगे, यानी आधे लोग ही काम करेंगे। लेकिन औद्योगिक ईकाइयाँ चालू रहेंगी और कामगारों के कामकाज पर जाने पर कोई रोक नहीं लगेगी। इसके साथ ही निर्माण कार्य चालू रहेंगे। 

uddhava thackeray announces night curfew in maharashtra - Satya Hindi
कैबिनेट बैठक में यह भी तय किया गया कि फ़िल्मों या धारावाहिक वगैरह की शूटिंग में जहाँ भीड़ नहीं होगी, वहाँ काम चालू रह सकता है। सिनेमा हॉल, थिएटर वगैरह बंद रहेंगे। सभी यातायात सुविधाएँ पहले की तरह चालू रहेंगी। लेकिन परिवहन व्यवस्था 50 प्रतिशत क्षमता के साथ चलेगी, यानी सीट के आधे लोग ही बैठ सकेंगे। 
विपक्ष दल बीजेपी ने इस पर उद्धव ठाकरे सरकार की आलोचना की है। विधायक और प्रवक्ता अतुल भातखलकर ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना को लेकर अभी जो नियम लाए हैं वे पिछले दरवाजे से लॉकडाउन लाने की कोशिश है। उन्होंने ठाकरे की आलोचना करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री की निष्क्रियता की वजह से परिस्थिति हाथ से बाहर चली गई है। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे कठिन समय में बीजेपी महाराष्ट्र की जनता और सरकार के साथ खड़ी है।
बीजेपी प्रवक्ता ने माँग की कि महाराष्ट्र सरकार को ग़रीबों को राशन कार्ड पर मुफ़्त अनाज देना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार नाकामी की ज़िम्मेदारी स्वीकार करे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें