loader

डब्ल्यूएचओ ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए की धारावी मॉडल की तारीफ़

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एशिया की सबसे बड़ी स्लम बस्ती कही जाने वाली धारावी में जिस तरह कोरोना वायरस को फैलने से रोका गया, उसकी तारीफ़ की है। 

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडहेनॉम ने कहा कि इटली, स्पेन, दक्षिण कोरिया और भारत की सबसे बड़ी स्लम बस्ती धारावी के उदाहरण से कहा जा सकता है कि हालांकि वायरस का प्रकोप बहुत ज़्यादा था लेकिन इसका आक्रामक ढंग से मुक़ाबला कर इसे रोका जा सकता है। 

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि कम्युनिटी एंगेजमेंट, टेस्टिंग, ट्रेसिंग और जितने भी लोग बीमार हैं, सभी के इलाज पर ध्यान देकर वायरस के ट्रांसमिशन को रोका जा सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

डब्ल्यूएचओ प्रमुख की इस टिप्पणी पर महाराष्ट्र सरकार मे मंत्री और शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने ट्वीट कर बृहन्मुंबई नगर पालिका (बीएमसी) के कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों और धारावी में रहने वालों को बधाई दी और इसी तरह आगे भी इस वायरस से लड़ाई जारी रखने के लिए कहा है। 

बीएमसी के जी नॉर्थ वार्ड के सहायक आयुक्त किरण दिघावकर ने शनिवार को पीटीआई से कहा, ‘प्रोएक्टिव स्क्रीनिंग से वायरस का शुरुआत में ही पता लगाने, समय से इलाज करने और लोगों के ठीक होने में मदद मिली।’

बीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि धारावी में सात लाख से ज़्यादा लोगों की टेस्टिंग की जा चुकी है। सरकार ने यहाँ बड़ी संख्या में फीवर क्लीनिक्स बनाए हैं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

एक समय यह बस्ती कोरोना संक्रमण का हॉटस्पॉट बन चुकी थी लेकिन अब धारावी ने कोरोना महामारी को लगभग हरा दिया है। ढाई से तीन किलोमीटर के दायरे में बसी इस बस्ती में क़रीब 12 लाख लोग रहते हैं। ऐसे में अनुमान लगाया जा सकता है कि सोशल डिस्टेंसिंग यहां एक असंभव काम है। 

धारावी में शुक्रवार को संक्रमण के 12 नए मामले सामने आए और अब तक यहां संक्रमित मामलों की कुल संख्या 2,359 हो गयी है। इसमें से सिर्फ़ 166 लोगों का इलाज चल रहा है जबकि 1,952 मरीज ठीक हो चुके हैं। धारावी में पहले हर रोज़ 90 के आसपास कोरोना के नए मामले सामने आ रहे थे लेकिन अब यह संख्या काफी घट गई है। 

मुंबई में ‘मिशन जीरो’ अभियान 

दूसरी ओर, मुंबई में भी कोरोना के मामलों पर पूरी तरह नियंत्रण की योजना बनाकर काम किया जा रहा है। इसके लिए बीएमसी ने मुंबई के छह वार्डों - बोरिवली, कांदिवली, दहिसर, मलाड, मुलुंड और भांडुप में ‘मिशन जीरो’ अभियान शुरू किया है। मुंबई में अब तक 1 करोड़ से ज़्यादा लोगों का सर्वे  किया जा चुका है। धारावी और दक्षिण और मध्य मुंबई के करीब सभी हिस्सों में संक्रमण की दर काफी गिर चुकी है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें