loader

कोरोना से लड़ाई में बार-बार चूक रही है केजरीवाल सरकार

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दो विवादास्पद फ़ैसलों को उलटकर उनकी दोनों बड़ी ग़लतियां सुधार दी हैं। केजरीवाल की पहली ग़लती इलाज के मामले में भेदभाव वाला नियम बनाना था। इसके तहत वे दिल्ली सरकार के अस्पतालों में केवल दिल्ली के नागरिकों का ही इलाज़ करना चाहते थे और बाक़ी लोगों को उनकी किस्मत पर छोड़ दे रहे थे। 

केजरीवाल का दूसरा ग़लत फ़ैसला उन लोगों के टेस्ट नहीं करने से जुड़ा था जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे हैं। यानी वे कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के संपर्क में आए संदिग्ध लोगों को भाग्य के भरोसे छोड़कर दूसरे लोगों को भी जोखिम में डाल रहे थे। ये उनकी पहले घोषित फाइव टी वाली नीति के ही ख़िलाफ़ था जिसमें टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट पर ज़ोर दिया गया था। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली में टीपीआर सबसे ज़्यादा

और ये फ़ैसला केजरीवाल ने तब किया जब दिल्ली में टेस्ट पॉजिटिविटी रेट यानी टीपीआर देश में सबसे अधिक है। दिल्ली में जितने भी टेस्ट किए जा रहे हैं उनमें से 37.82 फ़ीसदी लोग कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं, जो कि राष्ट्रीय औसत का पाँच गुना है। दिल्ली से ज़्यादा संक्रमित महाराष्ट्र है मगर वहाँ का टीपीआर 23.12 है। 

नियम ये कहता है कि जैसे ही टीपीआर दस फ़ीसदी से ज़्यादा हो जाए तो टेस्ट की संख्या बढ़ा दी जानी चाहिए, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा संक्रमित लोगों की पहचान करके उन्हें और लोगों के संपर्क मे आने से रोका जा सके। मगर केजरीवाल ऐसा करने के बजाय रेत में सिर दबा लेना चाहते थे कि मानो उससे तूफान रुक जाएगा। 

लेकिन केजरीवाल सरकार कोरोना से निपटने के मामले में यही दो ग़लतियाँ नहीं कर रही है। वास्तव में अब वह हर मोर्चे पर विफल साबित हो रही है। शुरू में उसने बहुत आत्मविश्वास दिखाया था और फाइव टी आदि की बात करके ये भरोसा भी जताया था कि वह केरल के मॉडल पर काम करके इस संकट के मौके पर अच्छा काम करके दिखाएगी। 

पूरी तरह फ़ेल रहा ऐप 

मगर अब साफ़ होता जा रहा है कि केजरीवाल के बस बोल बहादुर हैं। उनकी असफलताओं के दो और उदाहरण आपको बताते हैं। एक तो उनकी सरकार ने बड़ी धूमधाम से एक ऐप जारी किया जिससे लोग ये पता कर सकते थे कि किस अस्पताल में कितने बिस्तर उपलब्ध हैं। मगर उनका ये ऐप पूरी तरह से फेल हो गया क्योंकि वह ग़लत सूचनाएं दे रहा था। लोग ऐप के आधार पर अस्पतालों के चक्कर लगाने लगे मगर उन्हें कहीं भी बिस्तर खाली नहीं मिले। 

दूसरा उदाहरण, केजरीवाल का प्राइवेट अस्पतालों का ठीक ढंग से इस्तेमाल न कर पाना था। केजरीवाल का दावा है कि प्राइवेट अस्पताल कोरोना से लड़ाई में पूरी तरह सहयोग नहीं कर रहे हैं। इसमें संदेह नहीं कि कोरोना संक्रमण के मामले में प्राइवेट अस्पतालों ने पूरे देश में अँधेरगर्दी मचा रखी है और न केवल वे मरीज़ों का इलाज़ करने से भाग रहे हैं बल्कि मनमाने पैसे भी वसूल रहे हैं। उन्होंने इस संकट को लूट का मौक़ा मान लिया है। 

लेकिन केजरीवाल उनसे काम लेने की ठोस रणनीति बनाने के बजाय उन्हें धमकाने के रास्ते पर चल पड़े। यहाँ तक कि गंगाराम हॉस्पिटल के ख़िलाफ़ तो वे एफआईआर करवाने की हद तक चले गए। 

केजरीवाल को मालूम होना चाहिए कि प्राइवेट हॉस्पिटल संचालकों की एक मज़बूत लॉबी है और वे माफ़िया की तरह ऑपरेट करते हैं। ऐसे में दिल्ली जैसे राज्य का एक अधिकार विहीन मुख्यमंत्री उनका क्या बिगाड़ सकता था।

और हुआ भी यही। गंगाराम हॉस्पिटल उनके हिटलराना रवैये के ख़िलाफ़ तनकर खड़ा हो गया जिससे केजरीवाल की किरकिरी ही हुई। उन्होंने निजी अस्पतालों का सहयोग हासिल करने के बजाय अपने कर्मों से उन्हें अपने ख़िलाफ़ कर लिया। 

संक्रमण के आँकड़ों में हेरफेर!

और तो और इस तरह की ख़बरें भी आईं कि केजरीवाल सरकार संक्रमण के आँकड़ों में हेरफेर कर रही है। यानी वह वास्तविक स्थिति को छिपाने की कोशिश कर रही है। इससे उसकी छवि और भी ख़राब हुई है। ज़्यादा से ज़्यादा टेस्ट से बचने की कोशिश के पीछे भी उनकी यही नीयत काम कर रही हो तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए। 

विचार से और ख़बरें

दरअसल, ऐसा लगता है कि केजरीवाल ने कोरोना से निपटने की कोई ठोस रणनीति बनाई ही नहीं थी। वे इस वैश्विक महामारी को मोहल्ला क्लीनिकों में ठीक होने वाली बीमारी समझ बैठे थे। 

वे एक एनजीओ वाली मानसिकता से काम कर रहे थे जबकि कोरोना का प्रकोप कहीं बड़े पैमाने पर फैल रहा था। यहीं केजरीवाल मात खा गए। मात खाने के बाद उन्होंने अपनी रणनीति बदलने के बजाय अपनी नाकामियों को छिपाने की कोशिशें शुरू कर दीं। 

दूसरी बार सत्ता सँभालने के बाद से केजरीवाल दो मोर्चों पर नाकाम साबित हो रहे हैं। एक तो दिल्ली दंगों के मामले में वे पीड़ितों की मदद उस तरह से नहीं कर पाए जिस तरह करनी चाहिए थी और न ही वे दिल्ली पुलिस के फर्ज़ीवाड़े के ख़िलाफ खड़े होने की हिम्मत जुटा पाए।

दूसरा मोर्चा कोरोना का था, जहाँ वे चाहते तो खुद को अच्छी तरह से साबित कर सकते थे क्योंकि वे एक छोटे से राज्य के मुख्यमंत्री थे और ये राज्य देश की राजधानी भी है और स्वास्थ्य सुविधाओं के मामले में ज़्यादा संपन्न भी। मगर यहाँ भी वे फेल साबित हो रहे हैं। 

ये दोनों नाकामियाँ उनकी राजनीति को भी नुकसान पहुँचा रही हैं। लोगों की उनसे उम्मीदें ख़त्म हो रही हैं और अब वे भी दूसरे मुख्यमंत्रियों की ही तरह झूठे और अवसरवादी नज़र आ रहे हैं। क्या वे अब इस नुकसान की भरपाई कर पाएंगे, ऐसा होना मुश्किल लगता है क्योंकि इसके लिए जिस साहस और संकल्प की ज़रूरत होती है, वह आज के केजरीवाल में तो नहीं दिख रहा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
मुकेश कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें