loader

सबरीमला: अनुयायियों को अंधविश्वास, पाखंडों से मुक्त करें धर्मगुरु

यह बहुत अच्छा हुआ कि देश की सभी महिलाओं के लिए अब समान अधिकार के दरवाजे खोलने की मांग उठी है। भगवान की आराधना में भेद-भाव पैदा करने वाली कोई भी परंपरा कोरे पाखंड के अलावा कुछ नहीं है। सभी धर्मों के ठेकेदारों को चाहिए कि वे अपने अनुयायियों को इन पाखंडों से मुक्त करें। यह, अदालतों का नहीं, उनका फर्ज है। 
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

10 से 50 साल की महिलाएँ सबरीमला मंदिर के अंदर जा सकती हैं या नहीं, इस मुद्दे पर अब सर्वोच्च न्यायालय के 7 जजों की बेंच अपना फ़ैसला देगी। पिछले साल पांच जजों की बेंच ने महिलाओं को मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी थी। इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ बहुत से धार्मिक संगठनों और मौक़ापरस्त राजनीतिक दलों ने भी आवाज़ उठाई थी। उसके बाद अदालत में 65 याचिकाएं भी लगाई गईं, जिनमें से कुछ में कहा गया कि मंदिरों में ही क्यों, मसजिदों और पारसियों की अगियारी में भी महिलाओं को अंदर जाने की इजाजत मिलनी चाहिए।
ताज़ा ख़बरें

यह बहुत अच्छा हुआ कि देश की सभी महिलाओं के लिए अब समान अधिकार के दरवाजे खोलने की मांग उठी है। भगवान की आराधना में भेद-भाव पैदा करने वाली कोई भी परंपरा कोरे पाखंड के अलावा कुछ नहीं है। जिस महिला के पेट से आदमी पैदा हुआ है, वह आदमी तो मंदिर, मसजिद और अगियारी में जा सकता है और वह औरत ही नहीं जा सकती, यह कौन-सा तर्क है? 

किसी रजस्वला महिला को देखकर यदि किसी देवता का ब्रह्मचर्य भंग होता है तो ऐसे देवता को किसी कठोर गुरु की देखरेख में दुबारा गुरुकुल में भेजा जाना चाहिए। बोहरा समाज में स्त्रियों का खतना करना भी उचित नहीं है। कई धार्मिक और जातीय रीति-रिवाज सदियों पहले इसलिए चल पड़े कि वे देश-काल के हिसाब से ठीक लगे होंगे लेकिन अब उनको त्यागना समयानुकूल है। इसमें अदालत के हस्तक्षेप की ज़रूरत क्या है? 

विचार से और ख़बरें

सभी धर्मों के ठेकेदारों को चाहिए कि वे अपने अनुयायियों को इन पाखंडों से मुक्त करें। यह, अदालतों का नहीं, उनका अपना फर्ज है। ऐसे मसलों पर धर्मध्वजी चुप रहें और अदालतें अपना मुंह खोलें, इससे बड़ी शर्म की बात क्या हो सकती है? 

राम और कृष्ण का जन्म कहां हुआ था, ईसा मसीह ईश्वर के बेटे थे और मुहम्मद साहब अल्लाह के प्रतिनिधि थे, ऐसे मुद्दे भी आप क्या अदालत से तय करवाएंगे? ये मज़हबी मामले विश्वास के प्रतीक हैं, तर्क के नहीं, क़ानून के नहीं। इन विश्वास के मामलों को हम अंधविश्वास के मामले न बनने दें। मुल्ला-मौलवी, पंडित-पादरी, ग्रंथी, मैं सबसे विनयपूर्वक प्रार्थना करता हूं कि वे करोड़ों लोगों को अंधविश्वास की ग्रंथियों (गठानों) से ख़ुद मुक्त करें।

(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग www.drvaidik.in से साभार)
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें