loader

अयोध्या में दलितों की जमीन ट्रस्ट को दिया जाना अवैध: कोर्ट

अयोध्या की एक राजस्व अदालत ने कहा है कि किसी भी दलित की जमीन को ट्रस्ट को दिया जाना पूरी तरह से अवैध है। असिस्टेंट रिकॉर्ड ऑफिसर (एआरओ) ने फैसला दिया है कि उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा दलित समुदाय की 21 बीघा जमीन को महर्षि रामायण विद्यापीठ ट्रस्ट को ट्रांसफर किए जाने का फैसला अब निरस्त हो गया है। यह जमीन 22 अगस्त, 1996 को तत्कालीन राज्य सरकार ने इस ट्रस्ट को ट्रांसफर की थी। 

हालांकि एआरओ ने ट्रस्ट के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई की सिफारिश नहीं की है। 

बता दें कि द इंडियन एक्सप्रेस ने कुछ दिन पहले ही एक खबर छापी थी कि नवंबर 2019 में अयोध्या विवाद में फैसला आने के बाद अयोध्या में जमीन खरीदने की होड़ लग गई थी।

अखबार ने कहा था कि इस ट्रस्ट ने राम मंदिर से सिर्फ 5 किलोमीटर की दूरी पर 21 बीघा यानी लगभग 52000 वर्ग मीटर जमीन दलितों से खरीदी थी और इसमें नियमों का उल्लंघन किया गया था। 

ताज़ा ख़बरें

मामले के तूल पकड़ने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दिए थे और इसके बाद जांच रिपोर्ट जमा की गई। 

असिस्टेंट रिकॉर्ड ऑफिसर भान सिंह ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि उन्होंने अगस्त 1996 में जारी किए गए आदेश को रद्द कर दिया है क्योंकि यह पूरी तरह अवैध था और आगे की कार्रवाई के लिए इस मामले को एसडीएम के पास भेज दिया है। उन्होंने कहा कि उस वक्त नायब तहसीलदार रहे कृष्ण कुमार सिंह के खिलाफ कार्रवाई की भी सिफारिश उन्होंने की है। 

उन्होंने कहा कि हालांकि इस मामले में कोई धोखाधड़ी जैसी बात उन्हें नहीं मिली है इसलिए ट्रस्ट या किसी अन्य के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश उन्होंने नहीं की है। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

उत्तर प्रदेश रेवेन्यू कोड रूल्स के अनुसार कोई भी गैर दलित जिला मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति के बगैर किसी दलित से जमीन नहीं खरीद सकता। लेकिन इस ट्रस्ट ने लगभग एक दर्जन दलितों से यह जमीन खरीदी और उसके बाद इसे बेच दिया। 

ट्रस्ट से जमीन खरीदने वालों में विधायक, राजस्व विभाग के लोग, पूर्व आईएएस अफसर और जिला मजिस्ट्रेट के रिश्तेदार शामिल थे। 

मामले ने राजनीतिक तूल भी पकड़ा था और कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि बीजेपी के कई नेताओं और उत्तर प्रदेश शासन के कुछ अफसरों ने अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर के आसपास की जमीनों को औने-पौने दाम पर खरीदा है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा था कि राम मंदिर के आसपास की जमीनों की लूट हो रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें