loader

पाकिस्तान: मुंबई हमले के मास्टरमाइंड लखवी को 15 साल की जेल 

26/11 के मुंबई हमले के मास्टरमाइंड ज़की उर रहमान लखवी को लाहौर की एक अदालत ने शुक्रवार को 15 साल जेल की सजा सुनाई है। लखवी को यह सजा आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के मामले में सुनाई गई है। संयुक्त राष्ट्र के द्वारा आतंकी घोषित किया गया लखवी मुंबई हमले के मामले में 2015 से जमानत पर था। इससे पहले गुरूवार को पाकिस्तान की एक आतंक विरोधी अदालत ने जैश-ए-मुहम्मद के चीफ़ मसूद अज़हर के ख़िलाफ़ गिरफ़्तारी का वारंट जारी किया था। 

2 जनवरी को पाकिस्तान ने घोषणा की थी कि उसने इस दहशतगर्द को गिरफ़्तार कर लिया है। 

पाकिस्तान के लिए आतंकियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करना बेहद ज़रूरी है क्योंकि उस पर फ़ाइनेंशियल एक्शन टास्क फ़ोर्स (एफ़एटीएफ़) की तलवार लटकी है और वह इसकी ग्रे लिस्ट से बाहर आने के लिए छटपटा रहा है। 

ताज़ा ख़बरें
इससे पहले अगस्त महीने में भी पाकिस्तान ने 88 प्रतिबंधित आतंकी संगठनों और उनके आकाओं के ख़िलाफ़ कार्रवाई की थी। मुल्क़ की इमरान ख़ान सरकार ने दाऊद, कुख़्यात आतंकी हाफिज़ सईद और मसूद अज़हर पर कड़े वित्तीय प्रतिबंध लगाए थे। इमरान सरकार ने इनके बैंक खातों और संपत्तियों को सीज करने के आदेश दिए थे। 

Mumbai terror attack mastermind Zakiur Lakhvi jailed for 15 years  - Satya Hindi

एफ़एटीएफ़ ने पाकिस्तान को जून, 2018 से ग्रे लिस्ट में रखा हुआ है और उस पर इसके लिए भारी दबाव है कि वह आतंकी संगठनों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करे। पाकिस्तान इस बात की जांच करने में फ़ेल साबित हुआ है कि आतंकी संगठनों लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मुहम्मद को पैसा कहां से मिल रहा है। 

दुनिया से और ख़बरें

एफ़एटीएफ़ कई देशों का संगठन है, जो आतंकवाद को वित्तीय मदद देने और मनी लॉन्ड्रिंग करने वालों पर नज़र रखता है। 

पाकिस्तान को बेहद ख़राब आर्थिक हालात से निकलने के लिए एफ़एटीएफ़ की ग्रे लिस्ट से बाहर आना ही होगा और इसीलिए आतंकियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई को करना उसके लिए ज़रूरी है।

क्योंकि अगर पाकिस्तान ग्रे लिस्ट में बने रहता है तो उसके लिए इंटरनेशनल मोनेटरी फ़ंड (आईएमएफ़), विश्व बैंक, एडीबी आदि संस्थाओं से वित्तीय मदद हासिल करना मुश्किल हो जाएगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें