loader
टीआरएस चीफ के सीएम के. चंद्रशेखर राव ने शनिवार को दिल्ली में सपा प्रमुख अखिलेश यादव से मुलाकात की।

क्या खिचड़ी पका रहे हैं के. चंद्रशेखर राव, अखिलेश से मुलाकात

तेलंगाना के सीएम और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) चीफ के. चंद्रशेखर राव शनिवार को दिल्ली में हैं। रविवार को वो चंडीगढ़ में होंगे। राव पिछले कई महीने से गैर बीजेपी, गैर कांग्रेस मोर्चा बनाने के लिए सक्रिय हैं। समाजवादी पार्टी चीफ अखिलेश यादव ने शनिवार को टीआरएस चीफ से दिल्ली में मुलाकात की। इन दोनों की पिछली मुलाकात 2018 में भी इसी मुद्दे पर हुई थी। लंबा वक्त बीत चुका है लेकिन टीआरएस चीफ का मोर्चा नहीं बना। एनसीपी चीफ शरद पवार का कहना है कि कांग्रेस के बिना विपक्ष का कोई मोर्चा नहीं बन सकता। विपक्षी नेताओं में फिलहाल शरद पवार सबसे वरिष्ठ नेता हैं। 

चंद्रशेखर राव ने अपने पिछले दौरे में पश्चिम बंगाल की सीएम और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी से मुलाकात की थी। उसके बाद वो महाराष्ट्र के सीएम और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मिले। ठाकरे तो हैदराबाद भी पहुंचे और उनका वहां जबरदस्त स्वागत हुआ। के. चंद्रशेखर राव अब सपा नेता अखिलेश यादव, आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविन्द केजरीवाल को भी टटोल रहे हैं। दरअसल, टीआरसी चीफ पीएम मोदी से बहुत नाराज हैं और उन्होंने बीजेपी को हराने का संकल्प लिया है।

ताजा ख़बरें

अगले एक पखवाड़े में के. चंद्रशेखर राव आप, टीएमसी और जनता दल (एस) के नेताओं से मुलाकात करेंगे। 11 अप्रैल को तेलंगाना के मंत्रियों के साथ एक दिवसीय धरने के दौरान, राव ने कहा था कि वह हर गैर बीजेपी दल को एक साथ लाएंगे। उन्होंने यह भी कहा था कि वह आगामी राष्ट्रपति चुनावों पर विपक्षी दलों के साथ बातचीत शुरू करने के लिए दिल्ली वापस आएंगे। उसी क्रम में अब वो मुलाकात कर रहे हैं। अखिलेश यादव से बातचीत के बाद वो शनिवार शाम को दिल्ली में मोहल्ला क्लिनिक देखने जाएंगे।

रविवार को वो चंडीगढ़ जाएंगे। जहां वह पंजाब के मुख्यमंत्रियों भगवंत मान और दिल्ली के मुख्यमंत्री के साथ पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली के 600 किसानों के परिवारों को चेक बांटेंगे। इन किसानों ने किसान आंदोलन में अपनी जान गंवाई थी। .
26 मई को वह पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा से मिलने के लिए बेंगलुरु जा रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि वह सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे से मिलने के लिए रालेगण सिद्दी में रुकने की भी योजना बना रहे हैं, जिन्होंने 2014 के लोकसभा चुनावों में भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन का नेतृत्व किया था। यह दौरा इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि टीआरएस का लक्ष्य कांग्रेस के बिना बीजेपी विरोधी मोर्चा बनाना है। टीआरएस चीफ पश्चिम बंगाल और बिहार का दौरा करने की भी योजना बना रहे हैं, हालांकि अभी तक, तेलंगाना राष्ट्र समिति के पास दोनों राज्यों के लिए कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है। सूत्रों ने बताया कि इन दोनों राज्यों के अपने दौरे के दौरान गलवान घाटी में शहीद हुए जवानों के परिवारों से मुलाकात करेंगे और उन्हें आर्थिक मदद देंगे।

देश से और खबरें

अधपकी खिचड़ी

टीआरएस चीफ हर बार दौरे पर निकलते हैं या नेताओं से मिलते हैं लेकिन खिचड़ी अधपकी रह जाती है। मसलन के. चंद्रशेखर राव जब मोर्चे में सीपीएम को लाने की बात करते हैं तो ममता बिदक जाती है। उद्धव ठाकरे और शरद पवार बिना कांग्रेस किसी मोर्चे में शामिल नहीं होना चाहते, क्योंकि महाराष्ट्र में उनकी सरकार पर संकट आ सकता है। इसी तरह सपा के अखिलेश यादव आम आदमी पार्टी को लेकर काफी सजग हैं। यूपी में आप लगातार कोशिश कर रही है और उसने कई जिलों में अपना संगठन भी बना लिया है। पंजाब में सरकार बनने के बाद टीआरएस चीफ अब आम आदमी पार्टी को अपने मोर्चे में जरूर लेना चाहते हैं। के. चंद्रशेखर राव के गैर बीजेपी, गैर कांग्रेस विरोधी मोर्चे में कई विरोधाभास हैं, इसलिए राव की खिचड़ी हर बार अधपकी रह जाती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें