loader

सीएए: नाबालिगों की 'अवैध हिरासत’ पर योगी सरकार तलब

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पिछले साल दिसंबर में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के दौरान नाबालिगों की कथित अवैध हिरासत पर योगी सरकार से जवाब तलब किया है। कोर्ट का यह फ़ैसला एक याचिका पर सुनवाई के दौरान आया है। उसमें आरोप लगाया गया है कि तब नाबालिगों को अवैध हिरासत में रखा गया और उनको प्रताड़ित किया गया था। 

वह याचिका एक एनजीओ हक़ सेंटर फ़ॉर चाइल्ड राइट्स की एक रिपोर्ट के आधार पर दायर की गई थी जिसमें कहा गया है कि सीएए-एनआरसी प्रदर्शन के दौरान उत्तर प्रदेश- ख़ासकर, मुज़फ्फरनगर, बिजनौर, संभल और लखनऊ- में नाबालिगों को अवैध हिरासत में रखा गया था। 

सम्बंधित खबरें

ये वे ज़िले हैं जहाँ पर नागरिकता संशोधन क़ानून यानी सीएए और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी एनआरसी के ख़िलाफ़ पिछले साल दिसंबर महीने में बड़े स्तर पर प्रदर्शन हुए थे और हिंसा की घटनाएँ हुई थीं। उस दौरान सैकड़ों लोगों को गिरफ़्तार किया गया था। तब रिपोर्टें आई थीं कि जिन लोगों को हिरासत में लिया गया था उनमें से कई नाबालिग थे और उनमें से अधिकतर स्कूली छात्र थे। हालाँकि पुलिस ने इससे इनकार किया था। लेकिन तब कई रिपोर्टों में यह दावा किया गया था कि जिनको हिरासत में लिया गया है उनके आधार कार्ड सहित दूसरे कागजातों के अनुसार वे नाबालिग थे। 

'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार तब दो परिवारों ने आरोप लगाया था कि उनके बच्चों की उम्र 16 और 17 साल थी। रिपोर्ट के अनुसार उनमें से एक बच्चे के आधार कार्ड पर जन्म तिथि 2003 दर्ज थी। तब यानी पिछले साल दिसंबर में उसकी उम्र 16 हुई थी। उस रिपोर्ट में मुज़फ़्फरनगर और संभल में भी हिरासत में लिए गए गई लोगों के नाबालिग होने के दावे किए गए थे। 

बाद में ऐसी रिपोर्टें आई थीं कि जिन लोगों को तब पुलिस ने पकड़ा था उनमें से अधिकतर सबूतों के अभाव में जेल से रिहा कर दिए गए थे। तब भी पुलिस पर सवाल उठे थे कि क्या पुलिस ने बिना सबूत के ही लोगों को प्रदर्शन के दौरान हिंसा और तोड़फोड़ के आरोपों में पकड़ लिया था।

जब नाबालिगों के हिरासत में रखे जाने की रिपोर्टें छपी थीं तो हक़ सेंटर फ़ॉर चाइल्ड राइट्स ने इसकी पड़ताल की और इस पर रिपोर्ट तैयार की। 'यूपी पुलिस द्वारा सीएए विरोधी प्रदर्शन को ख़त्म करने के लिए निर्दोषों के साथ क्रूरता - हिरासत, अत्याचार और नाबालिगों के अपराधीकरण' नाम की इस रिपोर्ट को पहली बार 31 जनवरी, 2020 को प्रकाशित किया गया था। इसी रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी।

मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर और न्यायमूर्ति सिद्धार्थ वर्मा की पीठ ने राज्य को किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम के प्रावधानों के संबंध में राज्य से हर ज़िले से संबंधित सभी विवरण दाखिल करने के लिए कहा। कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के लिए अब अगली तारीख 14 दिसंबर तय की है। 

कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता की रिपोर्ट से पता चलता है कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने नाबालिगों को अवैध रूप से पकड़ना और प्रताड़ित करना न्याय अधिनियम 2015 का गंभीर उल्लंघन है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें