loader
नवरात्रि की शुभकामनाएँ देने वाला इरोज नाउ का एक ट्वीट।

'नवरात्रि' से जुड़े ट्वीट के लिए अब इरोज नाउ का भी बहिष्कार कर दिया

ट्विटर पर आज नवरात्रि से जुड़ा एक और विवाद ट्रेंड कर रहा है। यह ट्रेंड है- इरोज नाउ के बहिष्कार का। इससे पहले तनिष्क का नवरात्रि उत्सव से पहले जारी विज्ञापन पर विवाद हुआ था। ताज़ा मामले में सोशल मीडिया पर एक वर्ग आरोप लगा रहा है कि इरोज नाउ ने नवरात्रि को लेकर 'आपत्तिजनक' तसवीरें और मीम्स ट्वीट किए। सोशल मीडिया का एक वर्ग इससे ग़ुस्से में है और कह रहा है कि नवरात्रि के इस धार्मिक उत्सव का 'मजाक़' उड़ाया जा रहा है और 'अपमान' किया जा रहा है। जब यह विवाद काफ़ी ज़्यादा बढ़ गया तो इरोज नाउ ने माफ़ी भी माँग ली है, लेकिन ट्विटर पर उसका बहिष्कार जारी है।

सम्बंधित ख़बरें

इरोज नाउ का यह विवाद आज ट्रेंड करता रहा, लेकिन मनोरंजन से जुड़ी यह प्रोडक्शन कंपनी नवरात्रि के पहले दिन से ही लोगों को शुभकामनाएँ देने के लिए बॉलीवुड अभिनेत्रियों की फ़िल्मों की तसवीरें पोस्ट कर रही है। पहले दिन इसने दीपिका पादुकोण की 'बाजीराव मस्तानी' की तसवीर पोस्ट की थी। इसमें लिखा था- 'नवरात्रि 2020 के पहले दिन के लिए मस्तानी तैयार है! क्या दीपिका पादुकोण भूरे रंग में ख़ूबसूरत नहीं दिखती हैं? नवरात्रि की शुभकामनाएँ।'

इसके बाद से हर रोज़ इरोज नाउ के ट्विटर हैंडल पर तसवीरों के साथ ऐसे ही ट्वीट किए जा रहे हैं। ऐसी ही पोस्ट इरोज नाउ के इंस्टाग्राम के हैंडल से किए जा रहे हैं। 

लेकिन इस मामले ने तब तूल पकड़ लिया जब पीली साड़ी में कैटरीना कैफ़ की एक तसवीर को लोगों ने बेहद आपत्तिजनक बता दिया। इरोज नाउ ने इस कैटरीना की तसवीर वाले इस ट्वीट को हटा लिया। इसके बाद इरोज नाउ के पहले शेयर की गई कई तसवीरों और मीम्स पर भी सवाल उठाए जाने लगे और इसे धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने वाला क़रार दिया जाने लगा। 

मोनिका नाम के ट्विटर यूज़र ने लिखा है, "ट्विटर और इंस्टाग्राम पर @ErosNow द्वारा Hinduphobic पोस्ट का सिर्फ़ एक छोटा सा नमूना।

ऐसा लगता है कि ब्रांडों ने सस्ते में ध्यान पाने के लिए हिंदुओं को अपमानित करना शुरू कर दिया है। 'सस्ते' के लिए इस ध्यान को केंद्रित नहीं होने दें।"

after eros now navratri post controversy, it apologises  - Satya Hindi

अभिनव नाम के ट्विटर यूज़र ने लिखा है, 'इन फ़िल्मों का बहिष्कार किए बिना बॉलीवुड के इन कायरों को यह एहसास नहीं होता है कि उन्हें हिंदू-विरोधी सामग्री और राष्ट्र-विरोधी सामग्री नहीं करनी चाहिए। इरोज का बहिष्कार।'

ट्विटर के साथ ही इंस्टाग्राम पर कथित तौर पर आपत्तिजनक तसवीरें शेयर करने के लिए लोगों ने इरोज नाउ का ट्विटर पर बहिष्कार का अभियान चलाया। एक ट्विटर यूज़र ने इरोज नाउ की इंस्टाग्राम पोस्ट को साझा करते हुए लिखा, 'देखिए इरोज नाउ नवरात्रि के बारे में किस तरह की पोस्ट इंस्टाग्राम पर शेयर कर रहा है।' इसके साथ ही इन्होंने इरोज नाउ और बॉलीवुड के बहिष्कार का हैशटैग भी जोड़ा है। 
after eros now navratri post controversy, it apologises  - Satya Hindi
विवाद बढ़ता देख इरोज नाउ ने माफ़ी माँग ली। इसने बयान जारी कर कहा, 'हम इरोज सभी संस्कृति से एक समान प्यार करते हैं और सम्मान देते हैं। किसी की भी भावनाओं को आहत करने की न तो मंशा थी और न है। हमने संबंधित पोस्ट को डिलीट कर दिया है और अगर हमने किसी की भावनाओं को आहत किया है तो हम माफ़ी माँगते हैं।'
बता दें कि इस त्योहारी सीजन से पहले भी तनिष्क के एक विज्ञापन को लेकर सोशल मीडिया पर एक वर्ग ने तनिष्क के बहिष्कार का अभियान चलाया था। टाटा ग्रुप के इस ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क के इस नये विज्ञापन का नाम 'एकत्वम' था। 45 सेकंड की विज्ञापन फ़िल्म दो अलग-अलग धर्मावलंबियों के बीच शादी पर आधारित थी। इस विज्ञापन में देखा जा सकता है कि एक मुसलिम परिवार अपनी पुत्रवधू के लिए परंपरागत हिंदू रीति रिवाज वाले कार्यक्रम की तैयारी कर रहा है। वीडियो में भरा-पूरा मुसलिम परिवार दिखता है। बगीचा है, दीपमालाएँ हैं और नटराज की प्रतिमा भी है। वीडियो के अंत में वह महिला अपनी सास से पूछती है, 'ये रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं है न?' इस पर उसकी सास उसे जवाब देती है, 'पर बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न?' इसके बाद विज्ञापन में संदेश दिया गया है- 'एक जो हुए हम, तो क्या ना कर जाएँगे।' यानी इसमें एकता की बात की गई है। लेकिन कुछ लोगों को यह रास नहीं आया और उन्होंने इसे 'लव जिहाद' से जोड़ते हुए विज्ञापन का जबरदस्त विरोध किया और फिर इस विज्ञापन को हटा लिया गया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें