loader

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आन्दोलन में 220 किसानों की मौत, केंद्र को जानकारी नहीं

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे किसान आन्दोलन में अब तक 220 किसानों की मौत हो चुकी है। पंजाब सरकार ने उनके परिजनों को 10.86 करोड़ रुपए की मदद दी है। 

यह ख़बर ऐसे समय आई है जब केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा है कि इस आन्दोलन में किसी के मारे जाने की जानकारी सरकार के पास नहीं है।

यानी केंद्र सरकार यह कहना चाहती है कि कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आन्दोलन में किसी की मौत नहीं हुई है, कम से कम उसकी जानकारी में तो नहीं ही है। 

केंद्र सरकार पहले भी कई बार किसान आन्दोलन में मौत से साफ इनकार कर चुकी है।

ख़ास ख़बरें

पंजाब सरकार के आँकड़े

लेकिन 'इंडियन एक्सप्रेस' ने पंजाब सरकार के आँकड़े निकाले हैं, उनसे केंद्र के इस झूठ की पोल खुल जाती है। 

इस अख़बार के अनुसार, 20 जुलाई 2021 तक पंजाब में जिन 220 किसानों की मौत किसान आन्दोलन के दौरान हुई है, उनमें से 203 किसान मालवा, 11 माझा और छह दोआबा में मारे गए हैं। 

पंजाब सरकार का कहना है कि वह और अधिक मौतों के आँकड़े जुटा रही है। 

दूसरी ओर, किसान आन्दोलन से जुड़ी संगठनों के शीर्ष संगठन संयुक्त किसान मोर्चा ने 400 किसानों के मारे जाने का दावा किया है। इनमें से ज़्यादा पंजाब के हैं। 

220 farmers death during farmers protest confirmed - Satya Hindi

पिछले आठ महीनों में सबसे ज़्यादा 43 मौतें संगरूर ज़िले में हुई हैं। 

मोगा ज़िले में 27, पटियाला में 25, बरनाला में 17 मंसा में 15, मुक्तेश्वर में 14 और लुधियाना ज़िले में 13 लोगों की मौत हुई है। 

पंजाब सरकार ने हर मृतक के परिजनों को पाँच लाख रुपए की मदद का एलान कर रखा है। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि उनकी सरकार आर्थिक मदद के अलावा हर मृतक के परिवार के एक आदमी को नौकरी देगी। यह प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है।

आन्दोलन जारी है

मौत की ख़बर ऐसे समय आई है जब कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे किसानों की संसद जारी है। इस संसद का आयोजन संसद से कुछ ही दूरी पर स्थित जंतर-मंतर पर किया जा रहा है। किसानों की यह संसद 13 अगस्त तक चलेगी। 

किसान संसद के दौरान इसमें शामिल सदस्यों ने अपने सवाल स्पीकर बनाए गए शख़्स से पूछे हैं और संसद में शामिल लोग ही सवालों के जवाब दे रहे हैं। किसानों का कहना है कि लोकसभा और राज्यसभा की तर्ज पर ही इस किसान संसद को चलाया जा रहा है। किसानों को विपक्षी राजनीतिक दलों की ओर से भी जोरदार समर्थन मिल रहा है। 

किसानों को हर दिन 200 की संख्या में बसों के जरिये जंतर-मंतर लाया जाएगा और यहां पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए वे हर दिन अपनी संसद का आयोजन करेंगे। किसान नेताओं ने दिल्ली पुलिस को भरोसा दिलाया है कि उनका प्रदर्शन पूरी तरह शांतिपूर्ण और अनुशासित होगा।

दिल्ली में चल रहा किसानों का आन्दोलन, देखें, वरिष्ठ पत्रकार अंबरीश कुमार का।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें