loader

ओमिक्रॉन वैरिएंट से लड़ने के लिए भारत में कैसी तैयारी है?

ओमिक्रॉन वैरिएंट का संक्रमण ब्रिटेन, अमेरिका जैसे देशों में जिस तरह से तेज़ी से फैल रहा है उससे दुनिया के किसी भी देश का चिंतित होना स्वाभाविक है। लेकिन भारत इससे कितना चिंतित है और यहाँ इसको नियंत्रित करने के लिए कैसी तैयारी है?

ये सवाल इसलिए अहम हैं कि भारत में भी अब ओमिक्रॉन के कम से कम 236 मामले सामने आ चुके हैं और लगातार यह संख्या बढ़ती जा रही है। केंद्र सरकार ही यह कह चुकी है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट डेल्टा से कम से कम 3 गुना ज़्यादा तेज़ी से फैलता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ भी इसको लेकर लगातार चेतावनी दे रहा है।

ताज़ा ख़बरें

भारत में 2 दिसंबर को पहली बार ओमिक्रॉन वैरिएंट के दो मामलों की पुष्टि हुई। इससे पहले 24 नवंबर को दुनिया में सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में इस नये वैरिएंट की पुष्टि हुई थी। लेकिन इसके बाद पहली बार भारत में प्रधानमंत्री मोदी आज समीक्षा बैठक लेने वाले हैं। इससे दो दिन पहले केंद्र ने ओमिक्रॉन के ख़तरे को लेकर चेतावनी जारी की है और कोरोना से निपटने के तौर-तरीके बताए हैं। दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु सहित कुछ शहरों में क्रिसमस और नये साल पर सार्वजनिक तौर पर जश्न मनाने पर रोक लगा दी गई है। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक उड़ानों को भी सुचारू नहीं करने दिया गया और एयरपोर्ट पर जाँच जैसी सुविधाएँ बढ़ाई गई हैं। 

ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले आने के बाद केंद्र की ओर से यही कुछ प्रमुख क़दम हैं जो उठाए गए हैं। तो क्या इन क़दमों से ही ओमिक्रॉन को नियंत्रित किया जा सकेगा?

दुनिया भर में जिस तरह से बूस्टर खुराक देने में तेज़ी लाई जा रही है, वैसा काम भारत में क्यों नहीं हो रहा है?

दुनिया के कई देशों में प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं, रैलियों व सभाओं को नियंत्रित किया जा रहा है, मास्क को ज़रूरी किया जा रहा है, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को कड़ाई से लागू किया जा रहा है। लेकिन क्या भारत में यह सब हो रहा है? क्या चुनावी रैली और सभाएँ रुकीं? क्या मास्क के इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कराया जा रहा है?

केंद्र की ओर से अभी तक यह नहीं कहा गया है कि भारत में सभी लोगों को आख़िर कब तक पूरी तरह टीके लगाए जा सकेंगे और कब तक बूस्टर खुराक देने की शुरुआत होगी। कोरोना वैक्सीनेशन पर ही एडवाइजरी ग्रुप के सदस्य ने बुधवार को कहा है कि बच्चों के लिए कोरोना टीके पर अभी फ़ैसला नहीं लिया गया है। 

omicron india preparation as pm modi review meeting today - Satya Hindi

केंद्र की ओर से इस बारे में जो अब तक सबसे ठोस क़दम उठाए गए हैं वे हैं- केंद्र द्वारा राज्यों को सिर्फ़ निर्देश देना। केंद्र सरकार ने दो दिन पहले ही राज्यों को अपनी तैयारी तेज़ करने, स्वास्थ्य व्यवस्था मज़बूत करने, जाँच व केसों की ट्रेसिंग को सुदृढ़ करने को कहा है। इसके साथ ही इसने यह भी कहा है कि किन परिस्थितियों में किस तरह के प्रतिबंध लगाए जाएं। 

केंद्र सरकार ने मंगलवार शाम को राज्यों को पत्र लिखकर कहा है कि इसे नियंत्रित करने के लिए वार रूम को सक्रिय किया ही जाना चाहिए। केंद्र ने यह भी कहा है कि ओमिक्रॉन के अलावा देश के कई हिस्सों में डेल्टा वैरिएंट अभी भी मौजूद है। 

केंद्र ने कहा है कि स्थानीय व ज़िला स्तर पर अधिक दूरदर्शिता दिखानी होगी, डेटा विश्लेषण करना होगा, गतिशील निर्णय लेने होंगे और इसके रोकथाम के लिए कड़ी और त्वरित कार्रवाई करने की ज़रूरत है।

देश से और ख़बरें

केंद्र ने राज्यों को इसके लिए कुछ बुनियादी दिशा-निर्देश भी दिए हैं। इसने कहा है कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को संक्रमण की एक तय सीमा तक पहुँचने से पहले ही रोकथाम के उपाय कर लेने चाहिए। इसने कहा है कि पिछले एक सप्ताह में 10 प्रतिशत या उससे अधिक की पॉजिटिविटी रेट हो जाने या फिर ऑक्सीजन वाले आईसीयू बेड 40 प्रतिशत भर जाने पर तय सीमा आ जाएगी।

केंद्र ने पत्र में रोकथाम के उपाए भी बताए हैं। इन उपायों में रात का कर्फ्यू, बड़े समारोहों का नियमन, कार्यालयों व सार्वजनिक परिवहन में लोगों की संख्या पर प्रतिबंध लगाना भी शामिल हैं। 

यह भी सुझाव दिया गया है कि आपातकालीन फंड का उपयोग अस्पताल के बिस्तर, एम्बुलेंस, ऑक्सीजन उपकरण और दवाओं सहित चिकित्सा के बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए किया जाए।

टेस्ट और निगरानी को मज़बूत करने के लिए केंद्र ने डोर-टू-डोर केस ढूंढने, सभी कोविड पॉजिटिव लोगों की संपर्क ट्रेसिंग और ओमिक्रॉन के लिए क्लस्टर नमूनों की जाँच का ज़िक्र किया है। राज्यों को 100 प्रतिशत टीकाकरण कवरेज में तेजी लाने को सुनिश्चित करने के लिए भी कहा गया है।

ख़ास ख़बरें

इससे पहले सरकार ने 1 दिसंबर से एयरपोर्ट के लिए नई गाइडलाइंस जारी की थी। भारत में सभी एयरपोर्ट्स पर यह नियम लागू हो गया है कि ओमिक्रॉन के ‘ख़तरे’ वाले देशों से आने वाले लोगों को क्वारंटीन किया जाए। एयरपोर्ट से जाने से पहले उन्हें नेगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। ऐसे यात्री नेगेटिव रिपोर्ट आए बिना एयरपोर्ट से बाहर नहीं जा सकते हैं। टेस्ट नेगेटिव आने पर उन्हें सात दिन तक होम क्वारंटीन में रहना होगा। इसके अलावा ऐसे देश जहां पर ओमिक्रॉन वैरिएंट का केस नहीं मिला है, वहां से आने वाले सभी यात्रियों का भी कोरोना टेस्ट किया जा रहा है। 

लेकिन सवाल है कि क्या सिर्फ़ इन उपायों से ओमिक्रॉन को रोका जा सकता है? विशेषज्ञ बूस्टर खुराक पर जोर दे रहे हैं, लेकिन वह भारत में नहीं है। सबसे बड़ी चुनौती तो चुनावी रैलियाँ हैं। इस पर कुछ फ़ैसला लिए बिना कोई भी क़दम कितने कारगर सिद्ध होंगे?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें