loader

भारत में मिले कोरोना वैरिएंट पर ऑक्सफ़ोर्ड का टीका 80% प्रभावी: शोध

ब्रिटेन में एक शोध में यह सामने आया है कि ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी- एस्ट्राज़ेनेका और फाइज़र की वैक्सीन की दो खुराक भारत में मिले कोरोना वैरिएंट बी1.617.2 पर 80 फ़ीसदी से ज़्यादा कारगर है। ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी- एस्ट्राज़ेनेका द्वारा विकसित वैक्सीन के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया ने क़रार किया है और कोविशील्ड नाम से टीके बनाए हैं। फाइज़र के टीके अमेरिका सहित कई देशों में लगाए जा रहे हैं, लेकिन अभी तक भारत में यह उपलब्ध नहीं है। पहले फाइजर को मंजूरी नहीं दी गई और जब देश में संक्रमण बढ़ने पर मंजूरी प्रक्रिया आसान की गई तो शर्तों को लेकर अभी भी सहमति नहीं बन पाई है। 

बहरहाल, यह शोध ब्रिटेन सरकार ने किया है। सबसे पहले भारत में मिले बी1.617.2 वैरिएंट के मामले इंग्लैंड में भी मिले हैं। ब्रिटेन में इससे संक्रमित लोगों की संख्या 3400 से ज़्यादा हो गई है। इसमें से क़रीब 2100 मामले एक हफ़्ते पहले ही मिले हैं। इसी को लेकर इस वैरिएंट पर वैक्सीन के प्रभाव को लेकर शोध किया गया। 

ताज़ा ख़बरें

यूके डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ एंड सोशल केयर की कार्यकारी एजेंसी, पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड यानी पीएचई ने यह शोध किया। 'फाइनेंशियल टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार, पीएचई के विश्लेषण में यह देखा गया कि भारत में मिले बी1.617.2 और इंग्लैंड में मिले बी1.1.7 कोरोना वैरिएंट के ख़िलाफ़ दो टीकों- ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका व फाइज़र द्वारा प्रदान की गई सुरक्षा कैसी है। 

रिपोर्ट के अनुसार, उस एजेंसी ने पाया कि इन टीकों की दो खुराकों ने बी1.617.2 वैरिएंट के ख़िलाफ़ 81 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान की और बी1.1.7 संस्करण के ख़िलाफ़ 87 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान की।

'फ़ाइनेंशियल टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार, दोनों खुराक की तुलना में आँकड़ों में यह दिखा कि एक खुराक ने बी1.617.2 के ख़िलाफ़ केवल 33 प्रतिशत सुरक्षा दी और बी.1.1.7 के ख़िलाफ़ 51 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान की। विश्लेषण में निष्कर्ष निकाला गया कि बी1.1.7 की तुलना में बी1.617.2 के ख़िलाफ़ एक एकल खुराक 35 प्रतिशत कम सुरक्षा प्रदान करती है।

इस बीच इंग्लैंड ने हाल में एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन की दो खुराकों के बीच अंतराल को 12 हफ़्ते से घटाकर 8 हफ़्ते कर दिया है।
ऐसा तब है जब आँकड़े बताते हैं कि दो खुराकों के बीच 12 हफ़्ते का अंतर होने से टीका ज़्यादा प्रभावी है। इस अंतराल को 8 हफ़्ते करने के पीछे अधिकारियों का तर्क है कि सरकार उन लोगों को ज़्यादा से ज़्यादा सुरक्षा देना चाहती है जो प्राथमिकता वाले समूह में हैं या जिन्हें संक्रमण का ज़्यादा ख़तरा है। इंग्लैंड सरकार ने बी1.617.2 वैरिएंट वाले हॉटस्पॉट में टीकाकरण को तेज़ कर दिया है। 
uk study shows oxford and pfizer vaccines 80% effective on variant found in india - Satya Hindi

जबकि भारत में स्थिति अलग है। भारत में एस्ट्राज़ेनेका से क़रार कर बनी कोविशील्ड वैक्सीन की दो खुराकों के बीच के अंतराल को बढ़ाया गया है। हाल ही में कोविशील्ड वैक्सीन की जो खुराकें शुरुआत में 4 हफ़्ते के अंतराल में लगाई जा रही थीं उसको 12-16 हफ़्ते बढ़ा दिया गया है। क़रीब दो महीने में यह दूसरी बार है जब कोविशील्ड की खुराक के अंतराल को बढ़ाया गया है। शुरुआत में यह अंतराल 4-6 हफ़्ते का था। मार्च के दूसरे पखवाड़े में अंतराल को बढ़ाकर 6-8 सप्ताह किया गया था। 

देश से और ख़बरें

यह फ़ैसला ऐसे समय में आया है जब देश में कोरोना टीके की कमी है और कई जगहों पर टीकाकरण रोक दिया गया है। यह सवाल भी उठाया गया है कि क्या कोरोना टीके की कमी होने की वजह से यह कहा जा रहा है या इसका कोई वैज्ञानिक भी है। देश में फ़िलहाल क़रीब 3 फ़ीसदी आबादी को ही वैक्सीन की दोनों खुराक लगी है। 

सरकार भले ही यह दावा करे कि कोरोना टीके की कोई कमी नहीं है और दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान सही ढंग से चल रहा है, आईएमएफ़ ने अनुमान लगाया है कि इस साल के अंत तक भारत के एक तिहाई लोगों को ही टीका लगाया जा सकेगा। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने अपनी ताज़ा रिपोर्ट में कहा है कि भारत में कोरोना टीके की कमी हो सकती है और साल के अंत तक ज़्यादा से ज़्यादा 33 प्रतिशत लोगों का ही टीकाकरण मुमकिन है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें