loader

भारत से तनाव के बीच पहाड़ पर काम करने वाली तोप चीनी सेना में शामिल

ऐसे समय जब भारत और चीन की सीमा पर तनाव है और लद्दाख में दोनों देशों की सेनाएं बिल्कुल आमने-सामने खड़ी हैं, चीन ने हॉवित्ज़र तोपों की नई खेप अपनी सेना में शामिल की है।
यह कदम भारत के लिए संकेत है, चेतावनी है या धमकी है? ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि इन तोपों के फ़ीचर बहुत कुछ कह जाते हैं।
देश से और खबरें

लद्दाख में हो सकते हैं तैनात?

ये हॉवित्ज़र तोप 155 मिलीमीटर कैलिबर की हैं, इन्हें ट्रक जैसी किसी भी गाड़ी पर फिट कर कहीं भी ले जाया जा सकता है। 
सबसे दिलचस्प बात यह है कि ऊंचाई वाले इलाक़े में जहाँ ऑक्सीजन की कमी होती है, वहाँ भी यह तोप बखूबी काम कर सकती है, इसका इंजन इस तरह बनाया गया है। यानी, इन तोपों को लद्दाख में भी तैनात किया जा सकता है।
पीपल्स लिबरेशन आर्मी के ब्रिगेड 75वें ग्रुप आर्मी में इन तोपों को शामिल करने के लिए बीते दिनों एक ख़ास कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसके बाद इन तोपों को चीन के उत्तर में स्थित रेगिस्तानी इलाक़े नानजियांग हाओजियाओ में अभ्यास के लिए भेजा गया। इस तोप को पीएलए ने पीसीएल-181 नाम दिया है।

डोकलाम कनेक्शन?

चीनी सरकार के नियंत्रण में चलने वाले सेंट्रल चाइन टेलीविज़न यानी सीसीटीवी के अनुसार, इस तोप का वजन सिर्फ 25 टन है, जो बहुत ही हल्का माना जाता है। इसे आसानी से घुमाया जा सकता है, कहीं भी ले जाया जा सकता है, इसे गाड़ी पर भी फिट किया जा सकता है।इस तोप का कंट्रोल पैनल डिजिटल है, इसमें ऑटेमेशन गन कैलीब्रेशन है, गोलाबारूद भरने की प्रणाली सेमी ऑटोमैटिक है।
ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि 2017 में डोकलाम में भारत के साथ तनाव होने पर पीएलए के पश्चिमी थिएटर कमांड में इसे भेजा गया था। यह भी कहा गया है कि इस तोप ने सीमा पर शांति बनाए रखने में अहम भूमिका निभाई थी।
इस लेख में चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग के हवाले से बताया गया है कि भारत और चीन देशों ने सीमा पर तनाव कम करने के लिए अहम कदम उठाए हैं।
सवाल यह है कि ग्लोबल टाइम्स को इन तोपों को पीएलए में शामिल करने और उसे भारत के साथ तनाव के साथ जोड़ कर देखने की क्या ज़रूरत पड़ी?
ग्लोबल टाइम्स चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का मुखपत्र है, सरकार के नियंत्रण में है और सरकारी खर्च से चलता है। तो क्या सीपीसी या चीन सरकार भारत को कुछ संकेत दे रही है?
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें