loader

राज्यसभा चुनाव: परीक्षा में पास हो पाएगी कांग्रेस?, बनाए 5 पर्यवेक्षक

10 जून को होने वाले राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस अपने विधायकों की सुरक्षा में जुटी हुई है। इसे देखते हुए पार्टी ने पांच वरिष्ठ नेताओं को चुनावी राज्यों का पर्यवेक्षक बनाया है। बता दें कि कांग्रेस को हरियाणा और राजस्थान में विधायकों के द्वारा क्रॉस वोटिंग किए जाने का डर है। 

राज्यसभा चुनाव के लिए 41 नेता निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। 16 सीटों पर मुक़ाबला होना है। 

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को महाराष्ट्र के राज्यसभा चुनाव के लिए पर्यवेक्षक बनाया गया है। यहां से पार्टी ने अल्पसंख्यक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष और शायर इमरान प्रतापगढ़ी को उम्मीदवार बनाया है। बीजेपी महाराष्ट्र में राज्यसभा की 2 सीट जीत सकती है लेकिन उसने तीसरा उम्मीदवार खड़ा कर चुनावी मुकाबले को रोमांचक बना दिया है। 

महा विकास आघाडी के दलों ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त करने का आरोप लगाया है।

Congress appoints 5 observers for Rajya Sabha election 2022 - Satya Hindi

बंसल और सिंह देव को जिम्मेदारी 

कांग्रेस ने एआईसीसी के कोषाध्यक्ष पवन बंसल और छत्तीसगढ़ सरकार के मंत्री टीएस सिंह देव को राजस्थान के राज्यसभा चुनाव के लिए जबकि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राज्यसभा सदस्य राजीव शुक्ला को हरियाणा के लिए पर्यवेक्षक बनाया गया है।

राजीव शुक्ला छत्तीसगढ़ से राज्यसभा के सदस्य चुने जा चुके हैं।

रिजॉर्ट में पहुंचे विधायक 

राजस्थान और हरियाणा के विधायकों को लेकर कांग्रेस बहुत ज्यादा सतर्क है। इसलिए उसने कई दिन पहले ही इन दोनों राज्यों के विधायकों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया था। हरियाणा के विधायकों को छत्तीसगढ़ के नया रायपुर में बने एक रिजॉर्ट में रखा गया है जबकि राजस्थान कांग्रेस के विधायकों को उदयपुर के रिजॉर्ट में ठहराया गया है।

ताज़ा ख़बरें

हरियाणा में विधायकों का जो गणित है उसे लेकर कांग्रेस परेशान है। हरियाणा में राज्यसभा की 2 सीटों के लिए चुनाव होना है और यहां कांग्रेस की चिंता पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा के बेटे और एक टेलीविजन चैनल के मालिक कार्तिकेय शर्मा के राज्यसभा चुनाव लड़ने की वजह से बढ़ गई है। इससे कांग्रेस के उम्मीदवार अजय माकन मुश्किल में फंस सकते हैं।

कुलदीप बिश्नोई नाराज

हरियाणा कांग्रेस के कुछ विधायक रिजॉर्ट में नहीं पहुंचे हैं और कुलदीप बिश्नोई नाराज चल रहे हैं। हरियाणा में एक उम्मीदवार को जीतने के लिए 31 वोटों की जरूरत है और कांग्रेस के पास भी 31 विधायक गी हैं। जबकि पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा पहले कांग्रेस में रहे हैं और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ उनकी अच्छी-खासी नजदीकी रही है। 

थोड़ी सी भी चूक होने पर कांग्रेस के हाथ से हरियाणा की राज्यसभा सीट निकल सकती है।

Congress appoints 5 observers for Rajya Sabha election 2022 - Satya Hindi

सुभाष चंद्रा मैदान में 

ऐसा ही हाल राजस्थान का भी है जहां राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस के कुछ विधायकों ने नाराजगी जताई है। इनमें अधिकतर विधायक वे हैं जो बीएसपी से कांग्रेस में शामिल हुए थे। यहां मीडिया कारोबारी सुभाष चंद्रा के चुनाव मैदान में उतरने से कांग्रेस परेशान है।

महाराष्ट्र में राज्यसभा चुनाव के लिए 22 साल बाद वोटिंग के हालात बने हैं। विधायकों के आंकड़ों के लिहाज से महा विकास आघाडी सरकार के 4 नेता राज्यसभा के लिए चुने जा सकते हैं और बीजेपी के दो। लेकिन बीजेपी ने तीसरे उम्मीदवार धनंजय महाडिक को भी चुनाव मैदान में उतार दिया है।

राजनीति से और खबरें

सिर्फ 29 सांसद रह गए 

लोकसभा चुनाव में दो बार करारी हार का स्वाद चख चुकी कांग्रेस राज्यसभा में भी बेहद खराब हालत में है। यहां उसके सांसदों की संख्या घटकर सिर्फ 29 रह गई है जबकि बीजेपी राज्यसभा में 100 का आंकड़ा छूने जा रही है। ऐसे में कांग्रेस राज्यसभा चुनाव में किसी भी तरह की गड़बड़ी के चलते होने वाले बड़े नुकसान को लेकर अलर्ट है। 

दूसरी ओर, विपक्षी दलों को डर है कि बीजेपी उनके विधायकों में सेंध लगा सकती है। राज्यसभा चुनाव कांग्रेस के लिए एक और कठिन इम्तिहान है और देखना होगा कि क्या वह इस इम्तिहान में पास होगी या नहीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें