loader

चार्जशीट नहीं ‘राजनीति’ कर रही है दिल्ली पुलिस

कल दिल्ली के पटियाला कोर्ट के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट यह तय करेंगे कि कन्हैया कुमार पर दिल्ली पुलिस द्वारा दाख़िल की गई चार्जशीट बिना राज्य सरकार की अनुमति के सुनवाई के लिए स्वीकार की जाए या नहीं। 

दिल्ली पुलिस ने बीते सोमवार को जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार व 9 अन्य लोगों के ख़िलाफ़ चार्जशीट कोर्ट में दाख़िल कर दी थी। क़ानून के मुताबिक़, इस चार्जशीट को पहले दिल्ली सरकार के न्याय विभाग को वेटिंग (राज्य सरकार सरकारी वकीलों से पुलिस की चार्जशीट पर राय लेती है कि चार्जशीट वैधानिक मानदंडों के अनुरूप है कि नहीं। मानदंडों के अनुरूप न होने पर सरकार इसे पुलिस को बदलाव या ख़ारिज करने के लिए वापस कर देती है।) के लिए सौंपा जाना था। 

आरोपों के अनुसार, आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी के पक्ष में देशभक्ति के ज्वार से वोट पैदा करने के लिए इसे लगभग तीन बरस बाद अचानक बिना दिल्ली सरकार के न्याय विभाग से वेट कराए बिना कोर्ट को सौंप दिया गया।

इसके बाद दिल्ली पुलिस राज्य सचिवालय में इसे दिल्ली सरकार से मंजूरी दिलाने का प्रयास करती रही पर इन पंक्तियों के लिखे जाने तक राज्य सरकार की ओर से ऐसी किसी मंजूरी दिए जाने की कोई सूचना नहीं है।

गुमराह करने की कोशिश 

बीजेपी के लिए बेशर्मी से चुनाव प्रचार की सेवाएँ प्रदान करते मीडिया ने एकतरफ़ा ढंग से देशभक्ति बनाम देशद्रोह पर मर्यादा की हर सीमा तोड़कर मतदाताओं को भ्रमित करने का प्रयास किया। कोर्ट में इस मामले का ट्रायल होगा कि नहीं होगा, यह अभी तय होना बाक़ी है। लेकिन चैनलों ने एक बार फिर ऐसे विवाद का ख़ुद मीडिया ट्रायल किया, जिसके बारे में एबीवीपी के दो पूर्व पदाधिकारियों के मीडिया ग्रुप ज़ी न्यूज़ पर सीधे आरोप हैं कि यह विवाद उनकी डॉक्टर्ड क्लिप्स का ही पैदा किया हुआ है।

देश में सोशल मीडिया और प्रबुद्ध समाज में देशद्रोह के अंग्रेजी राज के क़ानून 124A पर बहस छिड़ गई है क्योंकि दिल्ली पुलिस ने कन्हैया व अन्य 9 लोगों को इस धारा में आरोपित किया है।
अंग्रेजों ने 1857 के ग़दर के बाद हिंदुस्तानियों को कंट्रोल में रखने के कई उपाय किए थे। 1860 में बना देशद्रोह का क़ानून दरअसल राजद्रोह पर लगाम लगाने के लिए था जिसे 1870 में 124A के तौर पर आईपीसी में शामिल किया गया।
अंग्रेजों ने सबसे पहले 124A का इस्तेमाल बाल गंगाधर तिलक के ख़िलाफ़ किया था। यह क़ानून गाँधी जी के ख़िलाफ़ भी इस्तेमाल हुआ था। गाँधी जी ने एक लेख लिखा था जिससे अंग्रेज़ सरकार नाराज़ थी।

भारत में आज़ादी के बाद इस क़ानून का पहला इस्तेमाल झारखंड के दो आदिवासी नेताओं के ऊपर हुआ। देबी सोरेन बनाम राज्य नाम के 1951 के इस मुक़दमे में देबी सोरेन और अन्य पर आरोप था कि संथाल परगना के ये निवासी बिहार राज्य के ख़िलाफ़ आदिवासियों को भड़काते हैं और बिहार से अलग अपना आदिवासी राज्य बनाना चाहते हैं। 

हाई कोर्ट ने बताया था औचित्यहीन

पुलिस ने यह मुक़दमा दर्ज किया था जिसपर निचली अदालत ने आरोपियों पर पाँच सौ रुपये का जुर्माना कर दिया था। जुर्माना न देने पर छ महीने की क़ैद का प्रावधान था। हाई कोर्ट ने इस फ़ैसले पर स्टे दे दिया था और 1953 में सुनवाई के बाद सजा को रद्द कर दिया। हाई कोर्ट ने तब कहा था कि आज़ादी के बाद ऐसे क़ानून के बने रहने का कोई औचित्य नहीं है लेकिन यह क़ानून बना रहा।

सुप्रीम कोर्ट का भी नज़रिया यही था

1962 में सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की बेंच ने केदारनाथ सिंह बनाम स्टेट के मामले में धारा 124A का पुन: परीक्षण किया। बहुत विस्तार से लिखे गए इस फ़ैसले की तमाम व्याख्याएँ हैं पर नतीजा एक ही है कि केदारनाथ सिंह पर से देशद्रोह का आरोप ख़त्म हुआ। बीती सदी के आख़िरी दशक में खालिस्तान के पक्ष में नारे लगाने वाले एक सिख को भी सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह का दोषी नहीं माना।

दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट से जुड़ी जो जानकारियाँ मीडिया में लीक की हैं उनके अनुसार कन्हैया के कुल गुनाह ये हैं कि -
  • उसने जेएनयू कैंपस में बिना अनुमति के हुए एक प्रदर्शन का नेतृत्व किया (एबीवीपी की जेएनयू इकाई से निकले दो पदाधिकारियों ने सत्य हिंदी को बताया कि जेएनयू में ऐसे प्रदर्शन रोज़ होते रहते हैं जिनकी अनुमति शायद ही होती हो)!
  • उसने सुरक्षा अधिकारी के रोकने पर उससे बहस की (मारपीट नहीं की)!
  • सरकार विरोधी नारे लगाए!
  • कोर्ट के फ़ैसले (अफ़ज़ल गुरू को फ़ाँसी दिए जाने पर) के ख़िलाफ़ नारे लगाए। 
  • उसकी उपस्थिति में कश्मीरी छात्रों ने ‘बारत (भारत) तेरे टुकड़े होंगे’ जैसे नारे लगाए।

क़ानून और सामान्य ज्ञान का कोई भी विद्यार्थी आसानी से समझ सकता है कि यह केस कितना मज़बूत है और कितना राजनैतिक? जिन कश्मीरी छात्रों ने सचमुच संवेदनशील/अलगाववादी नारे लगाए उन्हें दिल्ली पुलिस ने कभी गिरफ़्तार नहीं किया क्योंकि इससे जम्मू और कश्मीर में बीजेपी और महबूबा मुफ़्ती की साझा सरकार के लिए मुश्किल खड़ी हो जाती।

दिल्ली पुलिस तीन साल तक इस मामले को लिए बैठी रही और ठीक आम चुनाव के पहले बिना दिल्ली की राज्य सरकार से वैधानिक अनुमति लिए सीधे कोर्ट पहुँच गई। अब यदि केजरीवाल सरकार अनुमति न दे तो बीजेपी वाले और टीवी वाले ढोल-मजीरे बजाकर दिल्ली सरकार को भी देशद्रोही प्रचारित करेंगे और जो कोई भी धारा 124A या इस मुक़दमे की राजनीति आदि पर सवाल खड़े करेगा उसे देशद्रोही बताया जाएगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शीतल पी. सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें