loader

मोदी ने कहा, पर क्या सचमुच टीका के लिए दशकों इंतजार करना पड़ता था?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में टीका बनाने और लोगों के टीकाकरण करने के बारे में जो दावे किए, उन पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं।

जिस देश ने अपने करोड़ों बच्चों को कई साल तक हर बार घर-घर जाकर पोलियो टीका दिया, जो देश आज़ादी के पहले से ही टीका बनाता आया है, जिस देश के दवा उद्योग का लोहा पूरा दुनिया मानती है, उस देश को टीका के लिए दशकों इंतजार करना पड़ना था? प्रधानमंत्री का तो यही कहना है।

ख़ास ख़बरें

कितना सच है प्रधानमंत्री का दावा?

नरेंद्र मोदी ने कहा,

यदि आप भारत के टीकाकरण का इतिहास देखें, यह चेचक का टीका हो या हेपेटाइटिस बी हो या पोलियो हो, आप देखेंगे कि भारत को विदेशों से टीका हासिल करने के लिए दशकों का इंतजार करना पड़ता था।


नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री ने इसके आगे यह भी कहा कि 'जब दूसरे देशों में टीकाकरण कार्यक्रम ख़त्म हो जाता था, हमारे देश में यह शुरू भी नहीं हो पाता था।' 

प्रधानमंत्री यह बात उस देश के बारे में कह रहे थे, जहाँ टीके की खोज होने के बाद ही घरेलू स्तर पर बनने लगता था और ऐसा आज़ादी के पहले से ही हो रहा है। 

सच क्या है?

'द हिन्दू' ने एक ख़बर में कहा है कि इंडियन जर्नल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च में 2012 में छपे डॉक्टर चंद्रकांत लहरिया के एक लेख में कहा गया है कि भारत में चेचक का टीका पहली बार 1802 में तीन साल के एक बच्चे को दिया गया था। 

ब्रिटेन में डॉक्टर एडवर्ड जेनर ने जब दुनिया के इस पहले टीके की खोज की, उसके सिर्फ चार साल बाद यह टीका भारत पहुँच गया।

चेचक का टीका

भारत में चेचक के टीके का आयात 1850 तक ही हुआ। तरल लिंफ सोल्यूशन को सुरक्षित रखना एक चुनौती थी, लिंफ  की आपूर्ति बढ़ाने पर शोध करने के लिए संस्थान का गठन हुआ और 1895 में भारत को इसमें कामयाबी मिल गई। 

भारत में पहला एनिमल वैक्सीन डिपो 1890 में शिलॉंग में बना। 

चेचक के टीके का उत्पादन 1944-45 में कम हो गया, लेकिन विश्वयुद्ध ख़त्म होते ही इसका उत्पादन बढ़ाया गया, 1947 तक भारत चेचक के टीके के मामले में आत्मनिर्भर हो गया। 

modi claim on india vaccine under question - Satya Hindi

पोलियो का टीका

पोलियो का टीका ओरल पोलियो वैक्सीन यानी मुंह में दिए जाने वाला टीका सबसे पहले अमेरिका में 1960 में बनाया गया। भारत में पास्चर इंस्टीच्यूट ऑफ़ इंडिया ने यह टीका 1970 में बनाना शुरू कर दिया। 

भारत में इंजेक्शन पोलियो वायरस को इसलिए प्रोत्साहित नहीं किया गया कि इसे बनाने के लिए ज़रूरी वायरस वातावरण में लीक हो सकता था।

modi claim on india vaccine under question - Satya Hindi

प्लेग का टीका

बाद में ओरल पोलियो वायरस का प्रभाव कम होने लगा तो दोनों मिला कर दिया जाने लगा। भारत 2011 तक पोलियो से मुक्त हो चुका था। 

'द हिन्दू' अख़बार के अनुसार, बाल्डमेर हैफ़किन ने 1897 में तत्कालीन बंबई स्थित ग्रांट मेडिकल कॉलेज में प्लेग के टीके की खोज की और भायकला जेल के लोगों पर इसका परीक्षण किया। 

टीका बनाने के लिए प्लेग लैबोरेटरी की स्थापना 1899 में हुई और 1925 में इसका नाम बदल कर हैफ़किन इंस्टीच्यूट कर दिया गया। 

इसी तरह मद्रास के गिंडी लैबोरेटरी में टीबी का टीका बीसीजी 1848 में बनने लगा। डिप्थीरिया और टिटेनस के टीके 1940 के पहले ही भारत में बनने लगे थे। 

लेकिन भारत के प्रधानमंत्री का कहना है कि जब पूरी दुनिया में टीकाकरण कार्यक्रम ख़त्म हो जाता था, उस समय तक भारत में वह शुरू भी नहीं हो पाता था।

ख़ैर!

मिशन इंद्रधनुष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने मिशन इंद्रधनुष के तहत टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया तो टीका दिए हुए लोगों की संख्या 60 प्रतिशत से बढ़ कर 90 प्रतिशत हो गई। 

लेकिन राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण पर भरोसा किया जाए तो किसी राज्य में 90 प्रतिशत टीकाकरण नहीं हुआ है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें