loader
मेधालाल मीणा, घायल सब इंस्पेक्टर दिल्ली पुलिस

जहांगीरपुरीः जख्मी एसआई ने कहा- किसने ये सब शुरू किया मैं नहीं जानता

एक धार्मिक जुलूस के दौरान शनिवार रात हिंसा में घायल दिल्ली पुलिस के सब इंस्पेक्टर (एसआई) मेधालाल मीणा ने कहा कि जहांगीरपुरी में एक मस्जिद के बाहर दोनों समुदायों के बीच विवाद होने पर पुलिस ने शुरू में दोनों समुदायों को अलग कर दिया था। हनुमान जयंती के जुलूस को एक तरफ और मुसलमानों को दूसरी तरफ ले जाया गया। लेकिन कुछ देर बाद वे आमने-सामने आ गए और पुलिसकर्मी बीच में ही फंस गए। हिंसा में एक नागरिक और 8 पुलिसकर्मी घायल हो गए। मीणा के हाथ में गोली लगी थी।हालांकि, सब-इंस्पेक्टर ने कहा कि वह नहीं जानते कि हमलावर कौन थे। उन्होंने यह भी नहीं देखा कि लड़ाई किसने शुरू की।
ताजा ख़बरें

पुलिस ने इस मामले में अब तक 14 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें असलम भी शामिल है, जिसके बारे में पुलिस का कहना है कि सब-इंस्पेक्टर मीणा को गोली मारी। उसके पास से एक देशी पिस्टल बरामद हुई है। पुलिस ने कहा कि झगड़ा शुरू करने वाले एक अन्य व्यक्ति अंसार को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।  मीणा ने कहा कि वह जुलूस के पीछे ड्यूटी पर थे, लेकिन जब विवाद शुरू हुआ तो वह सामने आ गए। वहां बहस शुरू हो गई, मैं वहां गया। फिर विवाद शुरू हो गया। फिर मस्जिद के सामने पथराव शुरू हो गया। लेकिन पुलिस वालों ने दोनों समूहों को अलग कर दिया।
मीणा ने बताया कि हनुमान जयंती वालों को जी ब्लॉक की ओर रवाना किया गया। लेकिन फिर वे लोग वहां से कुशल चौक पहुंच गए। सी ब्लॉक की तरफ से आने वालों को वहीं रोक दिया गया। तब तक शांति थी। लेकिन फिर लाठी और तलवारों के साथ और भी भीड़ आ गई, और उनमें पत्थरबाजी होने लगी। गोलियां भी चलीं। मेरे हाथ में गोली लगी।

मामले में दर्ज एफआईआर के अनुसार, रैली एक मस्जिद के सामने से गुजर रही थी, जब अंसार ने कथित तौर पर रैली में भाग लेने वालों से बहस करना शुरू कर दिया। एफआईआर में कहा गया है कि विवाद जल्द ही बढ़ गया और दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया।

एक स्थानीय निवासी, नूरजहाँ ने इन आरोपों को खारिज कर दिया कि हिंसा मस्जिद से शुरू हुई थी। उन्होंने कहा कि यह पहली बार है जब इलाके में किसी हिंदू धार्मिक रैली में लोग हथियार लेकर निकले थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें