loader

सुशांत के क़रीबियों ने न्याय माँगा, सीबीआई ने कहा- हर पक्ष की जाँच हो रही है

सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में उनके परिवार द्वारा सीबीआई जाँच पर सवाल उठाए जाने के बाद अब सीबीआई की सफ़ाई आई है। इसने कहा है कि वह हर पक्ष की प्रोफ़ेशनल तरीक़े से जाँच कर रही है। सुशांत सिंह राजपूत के परिवार ने हाल ही में दावा किया था कि सुशांत को गला घोंटकर मारा गया था और सीबीआई जाँच में देरी की जा रही है। इसमें यह भी कहा गया था कि सीबीआई आत्महत्या को हत्या का मामला दर्ज नहीं कर रही है। 

इन्हीं आरोपों पर सीबीआई ने सोमवार को बयान जारी किया। इसने कहा, 'केंद्रीय जाँच ब्यूरो सुशांत सिंह राजपूत की मौत से संबंधित एक पेशेवर जांच कर रहा है, जिसमें सभी पहलुओं को देखा जा रहा है और किसी भी पहलू को खारिज नहीं किया गया है। जाँच जारी है।' 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि 25 सितंबर को सुशांत सिंह के परिवार के वकील विकस सिंह ने ट्वीट किया था, 'सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या को हत्या में बदलने का फ़ैसला लेने में सीबीआई की देरी से निराश हूँ। एम्स टीम का हिस्सा रहे डॉक्टर ने मुझे बहुत पहले ही बता दिया था कि मेरे द्वारा भेजी गई तसवीरें 200% बताती हैं कि इसकी मौत गला घोंटने से हुई, आत्महत्या से नहीं।'

उनके इस दावे को लेकर सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने भी रीट्वीट किया। उन्होंने रीट्वीट के साथ लिखा, 'हम इतने समय से इतने धैर्यवान हैं! सच्चाई का पता लगाने में कितना समय लगेगा?'

भूख हड़ताल पर बैठेंगे सुशांत के दोस्त

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की हत्या और आत्महत्या की गुत्थी सुलझने के बजाय और उलझती जा रही है। पहले सुशांत के परिवार ने सीबीआई जाँच पर नाराज़गी जताई अब दिवंगत अभिनेता सुशांत के दोस्त व कोरियोग्राफ़र गणेश हिवरकर और उनके पसर्नल असिस्टेंट अंकित आचार्य ने भी सीबीआई जाँच पर सवाल उठाते हुए 2 अक्टूबर से भूख हड़ताल पर जाने का फ़ैसला किया है। ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए गणेश हिवरकर ने कहा, ‘पहले दिन से हम सुशांत मर्डर केस में इंसाफ की माँग कर रहे हैं लेकिन अभी कुछ दिनों से ऐसा लगा रहा सीबीआई की तरफ़ से कोई अपडेट नहीं आई है। एनसीबी अपना काम कर रही है, ड्रग्स कनेक्शन ढूंढ़ रही है, अच्छी बात है। हम भी चाहते हैं कि ड्रग्स माफिया ख़त्म हो जाएँ। ईडी अपनी काम कर रही है लेकिन हम चाहते हैं कि सुशांत मर्डर केस में इंसाफ़ मिले, जिस पर सीबीआई की कोई अपडेट नहीं आई। इसलिए 2 अक्टूबर से हम भूख हड़ताल पर बैठ रहे हैं। यह एक सांकेतिक भूख हड़ताल है जो 2 से 4 अक्टूबर तक रहेगी। हम दोनों ये भूख हड़ताल राजघाट पर करने की अनुमति दिल्ली पुलिस से माँग रहे हैं। अगर दिल्ली पुलिस से अनुमति नहीं मिलती है तो मुंबई पुलिस से अनुमति लेकर हम ये हड़ताल मुंबई में करेंगे...।’

क्या भूख हड़ताल करने से मिलेगा न्याय?

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से कई हस्तियाँ और उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति लगातार अभिनेता को इंसाफ दिलाने के लिए सोशल मीडिया पर कैंपेन चला रहे हैं। कई बार सोशल मीडिया पर पोस्ट के जरिये कैंपेन चलाये गये, जिसके चलते 'सुशांत के लिए न्याय' काफी ट्रेंड में भी रहा। अब तीन दिनों तक भूख हड़ताल करने का फ़ैसला किया गया है। सवाल यह है कि क्या इससे सुशांत को न्याय मिल जायेगा या सीबीआई अपनी जाँच के अपडेट देगी। हाल ही में शिवसेना नेता संजय राउत ने भी कहा था कि सुशांत केस में सीबीआई के हाथ कुछ नहीं लगा, इसलिए एनसीबी से जाँच शुरू करा दी गई। सुशांत के मामले में जाँच कहाँ तक पहुँची है, यह भी मालूम होना चाहिए। 

देश से और ख़बरें

ड्रग्स केस में सिर्फ़ महिलाएँ क्यों शर्मिंदा हुईं?

एनसीबी ने सुशांत सिंह राजपूत केस में आए ड्रग्स एंगल से अपनी जाँच शुरू की थी और अब जिस तरह से जाँच चल रही है उससे ऐसा लग रहा है कि पूरी फ़िल्म इंडस्ट्री से ड्रग्स का सेवन करने वालों के नाम सामने आयेंगे। पुरानी वाट्सऐप चैट के आधार पर एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण को समन भेजा गया। रिया चक्रवर्ती के बयान के आधार पर सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह और श्रद्धा कपूर को पूछताछ के लिए बुलाया गया और साल 2019 में करण जौहर के घर हुई पार्टी की वीडियो पर भी जाँच हुई। इसके साथ ही टैलेंट मैनेजमेंट कंपनी भी एनसीबी की रडार पर है। अब सवाल यह पूछा जा रहा है कि सुशांत सिंह राजपूत केस की जाँच किसी और दिशा में तो नहीं चली गई है? एक्ट्रेस और सिंगर सुचित्रा कृष्णमूर्ति ने ड्रग्स केस पर चल रही जाँच पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया और कहा, ‘हैरान हूँ कि किसी भी पुरुष का नाम नहीं आया, सिर्फ़ महिलाएँ ही शर्मिंदा हुईं। महिलाओं को फ़िल्मों में ‘क्या माल है’ बोलने को सामान्य बनाने से लेकर उनके असल ज़िंदगी में ‘माल है क्या’ पूछने पर ग़ुस्से तक स्त्री द्वेष की पूरी संस्कृति को बदलना ज़रूरी है।’

बता दें कि 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत अपने घर में फंदे पर लटके हुए पाए गये थे और इस केस में जाँच शुरू हो गई थी। सुशांत के परिवार और उनके समर्थकों ने इस केस में सीबीआई जाँच की माँग की थी और सीबीआई ने अपनी जाँच शुरू भी कर दी थी। हत्या और आत्महत्या केस की जाँच से शुरू हुए इस केस में ड्रग्स एंगल भी सामने आया। जिसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने भी इस केस में अपनी जाँच शुरू की। ड्रग्स मामले में शुरू हुई एनसीबी की जाँच में पहले सुशांत की गर्लफ्रेंड और अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती और हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा की गिरफ्तारी हुई। इसके बाद इस केस में बॉलीवुड की कई बड़ी हस्तियों पर भी ड्रग्स मामले में एनसीबी ने शिकंजा कसा जिनमें अभिनेत्री दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली ख़ान, रकुल प्रीत सिंह और डिजाइनर सिमोन खंबाटा को समन भेजा गया और पूछताछ भी की गई। ड्रग पैडलर के साथ तस्वीरें सामने आने के बाद धर्मा प्रोडक्शन के एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर क्षितिज प्रसाद को एनसीबी ने गिरफ्तार कर लिया और कोर्ट ने 3 अक्टूबर तक के लिए क्षितिज को रिमांड पर भेज दिया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें