loader

क्रूज ड्रग्स केस: आर्यन खान के खिलाफ कोई सुबूत नहीं- एसआईटी

बीते साल फिल्म अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की क्रूज़ ड्रग्स मामले में गिरफ्तारी को लेकर देशभर में काफी शोर हुआ था। इस मामले की जांच कर रही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की एसआईटी ने कहा है कि आर्यन खान किसी भी साजिश का हिस्सा नहीं हैं। एसआईटी ने कहा है कि इस बात के कोई सुबूत नहीं मिले हैं कि आर्यन ड्रग्स की किसी साजिश या इंटरनेशनल ड्रग्स ट्रैफ़िकिंग सिंडिकेट का हिस्सा हैं। 

एसआईटी ने यह भी कहा है कि कार्डेलिया क्रूज पर छापेमारी को लेकर काफी अनियमितताएं मिली हैं।

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, एनसीबी की मुंबई इकाई ने जिस तरह के आरोप लगाए थे उसके उलट जांच में पता चला है कि आर्यन खान के पास कभी भी ड्रग्स नहीं रही और इसलिए उनके फोन और प्राइवेट चैट्स को चेक करने की कोई जरूरत नहीं थी। इन चैट्स से पता नहीं चलता कि आर्यन किसी इंटरनेशनल सिंडिकेट का हिस्सा हैं। 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि इस मामले की सुनवाई के दौरान एनसीबी के वकील यह दलील देते रहे थे कि आर्यन खान किसी बड़े ड्रग रैकेट का हिस्सा हैं। एनसीबी के नियमों के मुताबिक, किसी छापेमारी की वीडियो रिकॉर्डिंग होनी जरूरी है लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं हुआ। 

एसआईटी की जांच में पता चला है कि आर्यन खान ने कभी भी अपने दोस्त अरबाज मर्चेंट से क्रूज़ पर ड्रग्स लाने के लिए नहीं कहा। 

अदालत ने भी नकारा था 

बीते साल मुंबई हाई कोर्ट ने भी आर्यन खान को जमानत देने वाले आदेश में कहा था कि इस मामले के अभियुक्तों आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा के बीच किसी तरह की साजिश दिखाने वाले कोई भी सबूत नहीं मिले हैं। 

अदालत ने यह भी कहा था कि आर्यन के फोन से मिले जिन वॉट्सएप चैट का जिक्र किया जा रहा है, उनमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है और चूंकि ये तीनों लोग एक ही क्रूज में जा रहे थे, यह उनके खिलाफ किसी साजिश में शामिल होने के आरोप का आधार नहीं हो सकता।

आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को 3 अक्टूबर को कॉर्डेलिया क्रूज से गिरफ्तार किया गया था और इस मामले में कुल 17 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। इस मामले में आर्यन खान को कुछ दिन तक जेल में भी रहना पड़ा था और मुंबई हाई कोर्ट ने उन्हें जमानत दी थी।

एनसीबी मुंबई के पूर्व जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े और उनकी टीम का दावा था कि ये सभी अभियुक्त किसी बड़ी साजिश का हिस्सा हैं और आर्यन खान विदेश में बैठे ड्रग सप्लायर्स के संपर्क में था। 

एनसीबी की छापेमारी के दौरान भी आर्यन खान से किसी तरह की कोई ड्रग्स नहीं मिली थी और यह भी साबित नहीं हुआ था कि उन्होंने कभी ड्रग्स ली है।

मलिक ने वानखेड़े को घेरा था

इस मामले में महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर गंभीर आरोप लगाए थे। मलिक ने क्रूज़ ड्रग्स मामले को पूरी तरह फर्जी बताया था। 

मलिक ने कहा था कि बीजेपी नेता मोहित कंबोज और समीर वानखेड़े के बहुत अच्छे संबंध हैं और मोहित कंबोज ने अवैध उगाही के लिए आर्यन खान को किडनैप कराया था। मलिक ने कहा था कि मोहित कंबोज इस पूरे मामले का मास्टर माइंड है और आर्यन को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये मांगे गए थे और 18 करोड़ में डील फाइनल हुई थी। मलिक ने कहा था कि आर्यन खान को क्रूज से किडनैप करके मनीष भानुशाली और किरण गोसावी एनसीबी के दफ्तर ले गए थे।

मलिक के धुआंधार आरोपों के बाद समीर वानखेड़े बुरी तरह फंस गए थे और एनसीबी को उनका तबादला करना पड़ा था।
इस मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सेल ने दावा किया था कि समीर वानखेड़े को इस डील में करोड़ों रुपए दिए जाने थे हालांकि उसके आरोपों को समीर वानखेड़े ने खारिज किया था। 
महाराष्ट्र से और खबरें

इस मामले ने उस दौरान जबरदस्त तूल पकड़ा था और ऐसा कहा गया था कि यह फिल्म अभिनेता शाहरुख खान को बदनाम करने की एक कोशिश है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कहा था कि शाहरुख खान को इस मामले के जरिए निशाना बनाया गया। 

हालांकि अभी एसआईटी की जांच पूरी नहीं हुई है और इसे पूरा होने वक्त में कुछ और वक्त लगेगा। लेकिन अब तक की जांच से एनसीबी के अफसर समीर वानखेड़े को लेकर एक बार फिर से सवाल जरूर खड़े होते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें