loader

संजय राउत और खडसे के फोन टैप हुए थे: मुंबई पुलिस

मुंबई पुलिस ने बुधवार को कहा है कि शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत और एनसीपी के नेता एकनाथ खडसे के फोन टैप हुए थे। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इन नेताओं को एंटी सोशल एलिमेंट्स यानी कि असामाजिक तत्व मानते हुए उनके फोन टैप कराए गए थे।

पुलिस ने कहा है कि गृह विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी ने फोन कॉल को इंटरसेप्ट करने की अनुमति दी थी और राज्य के खुफिया विभाग ने इनके साथ ही कई और नामों को असामाजिक तत्वों की सूची में डाल दिया था।

एएनआई के मुताबिक, मुंबई पुलिस ने कहा कि एकनाथ खडसे का फोन 67 दिन के लिए टैप हुआ जबकि संजय राउत के फोन को 60 दिन के लिए टैप किया गया।

ताज़ा ख़बरें

इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए संजय राउत ने कहा कि खुफिया विभाग की पूर्व आयुक्त रश्मि शुक्ला ने उन्हें असामाजिक तत्व मानते हुए उनकी निजता का उल्लंघन किया है। फोन टैपिंग के मामले में महाराष्ट्र में पहले काफी बवाल हो चुका है। 

इस मामले में मुंबई पुलिस राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और रश्मि शुक्ला से भी पूछताछ कर चुकी है।

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने रश्मि शुक्ला पर 500 करोड़ का मानहानि का मुकदमा भी किया था।

ठाकरे सरकार ने इस मामले में 3 सदस्यों की एक हाई लेवल कमेटी बनाई थी और इस कमेटी ने यह पाया था कि फोन टैपिंग हुई है। तब इसे लेकर खासा हंगामा हुआ था। 

Sanjay Raut Eknath Khadse phones tapped - Satya Hindi
मुंबई पुलिस ने आईपीएस अफसर रश्मि शुक्ला के खिलाफ अवैध रूप से फोन टैप किए जाने के मामले में जांच शुरू की थी। रश्मि शुक्ला के खिलाफ पुलिस के एक सीनियर अफसर की शिकायत पर मुकदमा दर्ज किया गया था।शिकायत में कहा गया था कि खुफिया विभाग की प्रमुख रहते हुए रश्मि शुक्ला ने नाना पटोले, संजय राउत और एकनाथ खडसे के फोन टैप कराए थे।
महाराष्ट्र से और खबरें

खडसे का फोन साल 2019 में 2 बार तब टैप किया गया जब वह बीजेपी में थे जबकि संजय राउत का फोन नवंबर 2019 में टैप किया गया। उस वक्त राज्य में महा विकास आघाडी सरकार के गठन का काम चल रहा था। मुंबई पुलिस इस मामले में संजय राउत के बयान भी दर्ज कर चुकी है।

राउत ने पांच राज्यों के चुनाव नतीजे आने से पहले भी यह आरोप लगाया था कि गोवा में महाराष्ट्र की तरह विपक्षी दलों के नेताओं के फोन टैप किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा था कि गोवा के अलावा उत्तर प्रदेश में भी फोन टैपिंग हो रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें