loader

नीतीश के आरक्षण राग से बीजेपी को होगा नुकसान!

भले ही बीजेपी के कोर वोटर सवर्ण हैं और अपने शुरुआती दिनों में वह इसकी खुलकर वकालत करती रही थी लेकिन हाल के दिनों में चुनावी मजबूरियों के कारण आरक्षण पर खुलकर बोलने से बचती रही है। हालाँकि उसने यह ज़रूर किया कि सवर्णों को भी आरक्षण के दायरे में लाकर उनको ख़ुश करने की कोशिश की है। ऐसे में नीतीश कुमार ने जाति की आबादी के आधार पर आरक्षण का राग क्यों छेड़ा?
अमित कुमार सिंह

बिहार चुनाव में अचानक से आरक्षण का मुद्दा आ गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसे उछाला है। दूसरे चरण की वोटिंग से पहले वाल्मीकिनगर में नीतीश कुमार ने जातियों की आबादी के हिसाब से आरक्षण की बात कही है। यानी सीधे तौर पर नीतीश पिछड़ों को लुभाने में लगे हैं। पिछड़ों को लुभाने का मतलब है कि अगड़ों यानी सवर्णों को नाराज़ करना जो बीजेपी का कोर वोटबैंक है। बीजेपी नीतीश कुमार के जेडीयू के साथ गठबंधन में है। ऐसे में क्या नीतीश के जातियों की आबादी के हिसाब से आरक्षण की बात करने से बीजेपी को नुक़सान नहीं होगा? सवाल यह भी है कि नीतीश अपने लिए वोटबैंक का जुगाड़ कर रहे हैं या बीजेपी को नुक़सान पहुँचा रहे हैं?

सम्बंधित ख़बरें

आरक्षण का मुद्दा चुनाव को कितना प्रभावित करता है यदि यह देखना है तो बिहार के पिछले विधानसभा चुनाव को याद कीजिए जब आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण के मुद्दे को उठाया था और वह कितना बड़ा मुद्दा बन गया था। 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव से पहले भागवत ने कहा था कि देश में मौजूदा आरक्षण व्यवस्था की समीक्षा की ज़रूरत है। आरजेडी ने तब इस मुद्दे को लपका था। इसको इस रूप में व्याख्यायित किया गया कि बीजेपी और संघ दलितों-पिछड़ों को मिले आरक्षण को ख़त्म करना चाहते हैं। माना जाता है कि इससे पिछड़ों में बीजेपी के ख़िलाफ़ नाराज़गी बढ़ी।

इस बारे में आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद कितने आश्वस्त थे कि तब उन्होंने कहा था कि संघ प्रमुख की टिप्पणी बिहार में बीजेपी के 'भाग्य का फ़ैसला कर चुकी है।'

2015 में बिहार चुनाव के जब नतीजे आए थे तब बीजेपी की ज़बरदस्त हार हुई थी और कहा गया था कि बीजेपी की हार में मोहन भागवत द्वारा मुद्दा उठाए जाने का बड़ा हाथ था। विपक्ष ही नहीं बीजेपी के कई नेताओं ने भागवत को हार का ज़िम्मेदार बताया था।

लालू यादव ने तब कहा था कि बिहार में 1995 जैसे हालात हैं जब 'मंडल बनाम कमंडल' की राजनीति के दौर में जनता दल विजयी हुआ था। यहाँ मंडल का मतलब था मंडल कमीशन से। वही मंडल कमीशन जिसने पिछड़ों के लिए आरक्षण की सिफ़ारिश की थी। 1989 के चुनाव में जनता दल ने अपने घोषणा पत्र में लिखा था कि अगर वह सत्ता में आता है तो मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू किया जाएगा। 1990 में वीपी सिंह की सरकार बनी और तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह ने अपने चुनावी वादे को पूरा करने के लिए मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू करने का एलान कर दिया। इन सिफारिशों में पिछड़े वर्ग के लिए 27 फ़ीसदी आरक्षण की व्यवस्था की गई थी। 

nitish kumar population proportionate reservation for castes targets bjp - Satya Hindi

लेकिन आरक्षण लागू करने से पहले ही वीपी सिंह की सरकार गिर गई। हालाँकि 1991 में कांग्रेस की सरकार जीतकर आई और उसे मंडल कमीशन की सिफारिशों के आधार पर आरक्षण लागू करना पड़ा।

मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू होने के बाद देशभर के सवर्ण छात्रों ने इसके ख़िलाफ़ जबरदस्त प्रदर्शन किया। इसी दौर में मंडल की राजनीति के ख़िलाफ़ बीजेपी की कमंडल की राजनीति शुरू हुई। यानी सवर्णों को गोलबंद करने की राजनीति। माना जाता है कि बीजेपी का कोर वोटबैंक वही सवर्ण हैं। 
वीडियो में देखिए, तेजस्वी के जाल में फँसे मोदी?

बहरहाल, भले ही बीजेपी के कोर वोटर सवर्ण हैं और अपने शुरुआती दिनों में वह इसकी खुलकर वकालत करती रही थी लेकिन हाल के दिनों में चुनावी मजबूरियों के कारण इस मुद्दे पर खुलकर बोलने से बचती रही है। हालाँकि उसने यह ज़रूर किया कि सवर्णों को भी आरक्षण के दायरे में लाकर उनको ख़ुश करने की कोशिश की। उसने अपने वोटबैंक का विस्तार हिंदुत्व और राष्ट्रवाद को मुद्दा बनाकर शुरू कर दिया और वह पिछड़ों के आरक्षण के विरोध में बोलने से बचती रही। यह इसलिए कि यदि बीजेपी आरक्षण के ख़िलाफ़ बोलती है तो उसे ज़बरदस्त नुक़सान हो सकता है। यही वजह है कि पिछले बिहार विधानसभा चुनाव में हुए नुक़सान को देखते हुए अब आरएसएस के नेता भी आरक्षण पर ज़्यादा मुखर होकर बोलते नहीं देखे जाते हैं। 

नीतीश कुमार ने आरक्षण पर उसी राग को छेड़ दिया है जो बीजेपी को चुभता है। यानी एक तरह से उन्होंने बीजेपी की दुखती रग पर हाथ रख दिया है। नीतीश कुमार के ताज़ा आरक्षण के बयान को उससे भी जोड़कर देखा जा सकता है जिसमें कहा जा रहा है कि बीजेपी नीतीश कुमार को चुनाव में कथित तौर पर दरकिनार करना चाहती है।
nitish kumar population proportionate reservation for castes targets bjp - Satya Hindi

इसमें एलजेपी के चिराग पासवान की उस रणनीति को भी जोड़कर देखा जा रहा है जिसमें वह एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ रही है। एलजेपी ने कहा है कि वह जेडीयू को हराने के लिए उसके ख़िलाफ़ उम्मीदवार तो उतारेगी लेकिन बीजेपी का समर्थन करेगी। चिराग तो इसके लिए यह भी कह चुके हैं कि उनके दिल में प्रधानमंत्री मोदी हैं। 

अब इस संदर्भ में नीतीश के ताज़ा रुख़ को कैसे देखा जा सकता है? आरक्षण पर नीतीश का बयान चुनाव जीतने के लिए है या बीजेपी को नुक़सान पहुँचाने के लिए? क्या नीतीश कुमार को यह पता नहीं होगा कि जातियों की आबादी के हिसाब से आरक्षण की बात कहने से बीजेपी को नुक़सान होगा? 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अमित कुमार सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें