loader
केरल में मछुआरा समुदाय अडानी पोर्ट के विरोध में उतरा

केरल में अडानी पोर्ट का विरोध तेज, चर्च भी कूदा

केरल में अडानी पोर्ट के विरोध में चर्च भी शामिल हो गया है। केरल के मछुआरे कई दिनों से विझिंगम में अडानी पोर्ट के निर्माण का विरोध कर रहे हैं। यह प्रदर्शन बुधवार को भी जारी रहा। फिलहाल पोर्ट के निर्माण का काम रुका हुआ है। केरल सरकार का कहना है कि वो इस पोर्ट का निर्माण नहीं रुकवा सकती क्योंकि इसमें केंद्र सरकार भी शामिल है। यह राज्य सरकार का प्रोजेक्ट नहीं है। सुप्रीम कोर्ट और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने इसकी अनुमति दी है। लेकिन यह पोर्ट केरल के विकास में मददगार बनेगा। 

मछुआरों का कहना है कि विझिंगम पोर्ट हिस्से में अडानी द्वारा बनाए जा रहे ग्रोइन्स (सीमेन्ट और मसाले का अवरोध) का अवैज्ञानिक निर्माण, पुलिमट्ट (बनावटी समुद्री दीवार) की वजह से कोस्टल एरिया का क्षरण बढ़ जाएगा। इससे पर्यावरण को नुकसान होगा। मछलियां प्रभावित होंगी, हमारा कारोबार चौपट हो जाएगा। मछुआरों ने मंगलवार को विरोध तेज करते हुए पोर्ट को जाने वाली मुख्य सड़क को अवरुद्ध कर दिया।
ताजा ख़बरें
केरल के पर्यावरणवादियों ने भी इस पर चिन्ता जताई है। उनका कहना है कि अडानी पोर्ट से सिर्फ तिरुवनंतपुरम का समुद्री तट ही नहीं प्रभावित होगा, बल्कि इस असर कोल्लम, अलपुझा, कोच्चि और अन्य समुद्री तटों पर भी पड़ेगा।
इस मुद्दे पर चर्च भी मछुआरों के साथ शामिल हो गया है। विरोध में तिरुवनंतपुरम शहर के सभी चर्चों में काले झंडे लगा दिए गए हैं। लैटिन कैथोलिक आर्चडायसी ने कहा है कि हमारा विरोध प्रदर्शन अगस्त के अंत तक जारी रहेगा। अगर सरकार कुछ करती है तो ठीक है, नहीं तो हम आगे अपने आंदोलन की रणनीति तय करेंगे। चर्च ने कहा कि यह मछुआरों के अस्तित्व का सवाल है।  
बुधवार और कल मंगलवार के प्रदर्शन में पॉझियूर क्षेत्र के मछुआरे प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे थे। आने वाले दिनों में अन्य पंचायतों के और लोगों के विरोध प्रदर्शन में शामिल होने की उम्मीद है।

मलयालम मनोरमा के मुताबिक केरल के पोर्ट मंत्री अहमद देवरकोविल ने कहा कि इस प्रदर्शन में बाहरी लोग शामिल हैं। उनके इस बयान से प्रदर्शनकारी और भी भड़क उठे हैं। बता दें कि केरल के मछुआरा समुदाय के अधिकांश लोग कैथोलिक हैं और यही वजह है कि कैथोलिक चर्च से जुड़े लोग इस आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं।
 राज्य के ट्रांसपोर्ट मंत्री एंटोनी राजू ने कहा कि समुद्र तट के किनारे इस पोर्ट की वजह से जिन मछुआरों के घर उजड़ेंगे, सरकार उन्हें फ्लैट देगी। केरल के विकास के लिए यह पोर्ट बहुत जरूरी है। राजू ने कहा कि 22 अगस्त तक फ्लैट के लिए जमीन का आवंटन कर दिया जाएगा और उसके बाद फ्लैट मछुआरों को सौंप दिए जाएंगे।
मंत्री राजू ने कहा कि इस पोर्ट का काम रुकवाने का अधिकार केरल सरकार के पास नहीं है। इसमें केंद्र सरकार शामिल है। सुप्रीम कोर्ट और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इसकी मंजूरी दी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें