loader

कोरोना काल में अदालतों में रिकॉर्ड स्तर पर क्यों पहुँचे लंबित मामले?

अदालतों में पहले से ही लंबित मामलों का भारी बोझ था और कोरोना काल में हालात बेहद ख़राब हो गये हैं। निचली अदालतों में अब रिकॉर्ड 4 करोड़ से ज़्यादा लंबित मामले हो गए हैं। कोरोना महामारी आने से पहले 3.2 करोड़ मामले ही लंबित थे। यानी क़रीब 80 लाख लंबित मामले बढ़ गए। यदि निचली अदालतों के साथ ही उच्च न्यायालयों और शीर्ष अदालत में लंबित मामलों को जोड़ लें तो 4.6 करोड़ मामले हो गए हैं जबकि मार्च 2020 तक कुल लंबित मामले 3.7 करोड़ ही थे। ऐसे हालात तब हुए जब कोरोना महामारी के दौरान अदालतों ने सुनवाई के ऑनलाइन माध्यमों का इस्तेमाल किया और अदालती प्रक्रिया भी डिजिटल हुई है। तो फिर दिक्कत कहाँ आई?

ताज़ा ख़बरें

इन दिक्कतों से पहले यह जान लें कि कोरोना महामारी व लॉकडाउन के दौरान अदालती सुनवाई कैसे चली है और अदालतों में पहले से ही लंबित मामले क्यों रहे हैं। अन्य कारणों के अलावा अदालतों में जजों के खाली पद को प्रमुख कारण माना जाता रहा है। हाल के वर्षों में तो ये पद ज़्यादा खाली हुए हैं। 

2006 में देश भर के उच्च न्यायालयों में जहाँ स्वीकृत 726 पदों में से 154 खाली थे वहीं अब स्वीकृत क़रीब ग्यारह सौ पदों में से क़रीब आधे खाली हैं। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मदन लोकुर ने एक लेख में लिखा था कि ज़िला अदालतों में 2019 में स्वीकृत 22 हज़ार 999 पदों में से 5045 पद खाली हैं। खाली पद होने का असर अदालतों में लंबित मामलों पर भी पड़ा है और ये काफ़ी ज़्यादा हो गए हैं। ज़िला अदालतों में 2006 में जहाँ 2.56 करोड़ केस लंबित थे वे अब 4 करोड़ लंबित हो गए हैं। उच्च न्यायालयों में भी इस रफ़्तार से लंबित मामले बढ़े हैं। 

इसके बाद कोरोना काल में अदालतों में स्थिति और ख़राब हुई। ऐसा नहीं हुआ कि सुनवाई नहीं हुई। वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से सुनवाइयाँ चलीं। ऑनलाइन माध्यमों का सहारा लिया गया। ऊपरी अदालतों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, ब्रॉडबैंड, हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी और कम्प्यूटरीकरण की समस्याओं का समाधान किया गया। हालाँकि निचली अदालतों में अभी भी इसकी समस्या है। 

अब अदालतों में ई-फाइलिंग, कोर्ट फीस का ई-पे और ई-समन जारी करने को स्वीकार करने के लिए एक सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जा रहा है।

हालाँकि कोरोना महामारी की शुरुआत में और लॉकडाउन के बाद कई राज्यों में बार एसोसिएशनों में शुरुआत में झिझक थी। अंग्रेज़ी अख़बार टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार कुछ बार एसोसिएशनों ने ई-कोर्ट और डिजिटल सुनवाई को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। उच्च न्यायपालिका ने भी उन्हें मजबूर नहीं किया। उन राज्यों की राजधानियों में भी पूर्ण अदालती कार्यवाही शुरू नहीं हुई जहाँ हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी कोई मुद्दा नहीं था।

देश से और ख़बरें

अख़बार की रिपोर्ट में कहा गया है कि क़ानून मंत्रालय समय-समय पर शीर्ष अदालत और उच्च न्यायालयों को याचिकाओं की ई-फाइलिंग, इलेक्ट्रॉनिक रूप से अदालती शुल्क का भुगतान और ई-मेल के माध्यम से ई-समन जारी करने के लिए अनिवार्य बनाने के लिए लिखता रहा है। हालाँकि, वाणिज्यिक अदालतों के अलावा दूसरी अदालतों के लिए इसे अनिवार्य नहीं बनाया गया है।

तो सवाल है कि क्या अदालतों में सिर्फ़ ऑनलाइन प्रक्रिया किए जाने के बाद ही हालात सुधर जाएँगे? कोरोना महामारी और लॉकडाउन जैसे हालात में ये सहायक तो हो सकते हैं, लेकिन क्या बिना जजों की भर्ती के लंबित मामलों को निपटाना संभव हो सकेगा?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें