loader

राजस्थान में गहलोत सरकार को गिराने की हो रही कोशिश: कांग्रेस

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली उसकी सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है। राजस्थान की विधानसभा में कांग्रेस के चीफ़ व्हिप महेश जोशी ने इस बारे में राज्य के एंटी करप्शन ब्यूरो के प्रमुख को पत्र लिखा है। 

पत्र में उन्होंने लिखा है, ‘मध्य प्रदेश, गुजरात और कर्नाटक की तरह राजस्थान में हमारे और सरकार को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायकों को पैसे की ताक़त का लालच देकर सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है।’ 

ताज़ा ख़बरें

राज्यसभा चुनाव से पहले जोड़-तोड़

राजस्थान में राज्यसभा की 3 सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होना है। इन 3 में से 2 सीटों पर कांग्रेस और 1 सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार की जीत तय मानी जा रही है। लेकिन बीजेपी ने 2 उम्मीदवार खड़े करके चुनाव में गहमागहमी पैदा कर दी है। 

राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटें हैं। 1 सीट जीतने के लिए 51 विधायकों के वोट की ज़रूरत है और कांग्रेस के पास 107 विधायक हैं, ऐसे में वह आसानी से 2 सीट जीत सकती है। इन 107 में से 6 विधायक बीएसपी के भी हैं, ये सभी विधायक पाला बदल कर पिछले साल कांग्रेस में शामिल हुए थे। कांग्रेस के पास 12 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है। 

बीजेपी के पास 72 विधायक हैं और उसे छोटी पार्टियों और निर्दलीय मिलाकर 6 विधायकों का समर्थन हासिल है। ऐसे में वह एक सीट आसानी से जीत सकती है लेकिन उसकी नजर कांग्रेस को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायकों, बीएसपी से कांग्रेस में आए विधायकों और कांग्रेस के अंदर नाराज चल रहे कुछ विधायकों द्वारा क्रास वोटिंग किए जाने की संभावना पर टिकी है। 

इससे पहले गुजरात में राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के कई विधायक पार्टी को छोड़कर जा चुके हैं और यहां कांग्रेस ने बीजेपी पर उसके विधायकों को तोड़ने का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने गुजरात से लाए गए 19 विधायकों को राजस्थान के एक रिजॉर्ट में रखा हुआ है। 

मध्य प्रदेश, कर्नाटक में गिरी सरकार

इस साल मार्च में मध्य प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार विधायकों की बग़ावत के कारण गिर गई थी और वहां बीजेपी ने सरकार बना ली थी। कर्नाटक में पिछले साल कांग्रेस-जेडीएस की सरकार भी मध्य प्रदेश की तर्ज पर ही गिरी थी। वहां कांग्रेस-जेडीएस के विधायकों ने बग़ावत कर इस्तीफ़ा दे दिया था और बीजेपी ने सरकार बना ली थी। 

बीजेपी आलाकमान ने गिराई सरकार?

मध्य प्रदेश में इन दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एक कथित ऑडियो क्लिप जोरदार ढंग से वायरल हो रही है। इस ऑडियो क्लिप के सामने आने के बाद कांग्रेस ने सवाल पूछा है, ‘मोदी जी, लोकतंत्र की हत्या के ज़िम्मेदार...हैं?’ 

ऑडियो क्लिप में शिवराज कथित रूप से कह रहे हैं, ‘यह आलाकमान ही था, जिसने यह फ़ैसला लिया कि सरकार को गिराया जाना चाहिए, वरना यह सब बर्बाद कर देगी।’ आगे शिवराज कथित रूप से कहते हैं, ‘आप मुझे बताइए, क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया और तुलसी सिलावट के बिना सरकार को गिरा पाना संभव था। कोई और रास्ता नहीं था।’ 

राजस्थान से और ख़बरें

कर्नाटक में आया था वीडियो 

कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली सरकार गिरने के बाद पिछले साल नवंबर में मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा का एक वीडियो सामने आया था। इस वीडियो में येदियुरप्पा हुबली में एक कार्यक्रम में कथित रूप से यह कहते हुए दिखे थे, ‘17 विधायकों को मुंबई ले जाने का फ़ैसला राष्ट्रीय अध्यक्ष का था। वे विधायक ढाई महीने तक अपने क्षेत्र में नहीं जा सके, न ही अपने परिवार से मिल सके, बस वहीं रुके रहे।’ वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस ने कहा था कि वह शुरू से कहती रही है कि विधायकों की ख़रीद-फरोख़्त में बीजेपी का हाथ है और अब यह साबित हो गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें